52 Punishments to Kabir

Spread the love

Seeing the exploits of Kabir, Emperor Sikandar treated him as Guru Pir (Empire Master). Many afraid people from Kabir, who was present in Kasi (Varanasi city in India), came near the main minister Sekhtagi of the court of the emperor. The Maulvi (The devotees of Allah),  Brahmin (Scholars of Hinduism) Purohit (Worshiper), Vaidya (Doctors) Kings of states asked, Kabir calls all of us a butcher and even after being himself a Muslim, he prays to Lord Ram? He must be punished by saying all the things in front of the King.

After reaching the king’s court in the morning, the Minister called all the people to complain about Kabir and asked King to call Kabir. The King said, Kabir is Fakir (Saint) and our empire master is also the same. How can I order them to punish? Peer talk is a fight of religion, it has to be called. Call him king okay.

“Sakhtagi” sent four people to call Kabir. Four people stood and reached Ramanand’s door. Two hours passed, then eight people, then sixteen people, then thirty-two people, and then a hundred people were sent to Kabir, there was a crowd, but no one used to speak. Nobody has the power to issue any order.

Some preach of Swami Ramanand Ji said that a lot of people sent by the emperor have kept the hoop and no one speaks what should be done now. Ramanandji said to Kabir, What is this happening, what is all this? Kabir ji said, this is all the soldiers of the king and he has come to capture me. Then Ramanand said, you are indestructible, do something. Then Kabir said, I go to meet the king.

Kabir reached the court of the emperor. Here, a sage in the hermitage spoke to the crowd, why are you standing here? Everyone has come to carry Kabir Ji. The sage said, he already reached king’s court, then all the people looked astoundingly and walked away from there.

The king was present in his court and there was the King of Bandhas, Naresh Veer Singh, Sher Khan Pathan, and the great moneylenders, Brahmin, ascetic, Kazi and Maulavi too were sitting there. Emperor was seated in his secret place. Kabir Ji stood in front of the cushion. Then sekhtagi said kabir to respect the throne of the king? Kabir said that my tongue does not have any time to say anything other than Satynam. Then asked Kabir, ‘Oh, you are a Hindu, are you a Muslim?’ Does Ram chant or Allah?

Kabir has said that just think about the word A, it is hidden in Ram and also hidden for Allah, and simultaneously A is also hidden in the world like water, earth and happiness, I too cry as well. A is everywhere, there is no difference. Allah and Ram are one. Kabir has something to say and ask? Saying Sakhtagi to the king,  see this saint breaks the limits of the Vedas and the  Quoran, makes his God a Rama, if he lives in the world, then many people will be harmed. There is no fear of the King of the King’s court. The death penalty should be given to him.

Emperor should sign and sign in the register, the king said, Kabir has made me a king and I can not order Kabir, Pir and Fakir were silent. Then Sekhtagi prophet took out his crown and slammed it into the ground. Kabir said respected king, do not get guilt in mind and order minister. The king broke his pen and got up and left the court.

As soon as the emperor’s decision, the seminar raised a heavy iron chain from ten wrestlers and worn it in Kabir’s neck, put hand grenades in his hands and feet, and eighty wrestlers put 32,000-kilogram iron and put them in the ground. Completely tied up and dug into river Ganga. Then the people of Kasi Nagar said, Kabir will be immersed today, Kabir will not exist.

Ramanand started crying, Niru began to become unconscious, some people were constrained, they were not able to say anything, the wicked people were very happy, there was a lot of crowd on both bank side of the Ganga. From that day the name of that Ghat was Rajghat.  Some of the wrestlers were picked up from the boat by lifting Kabir and returning to the Ganges, the crowd shouted, and said, Kabir is sitting beside the Ganga with Padmasan and resting in peace.

People began to cheer Kabir. Ramanand and Neeru Neema too were happy now. King of kasi started saying Kabir is an indestructible man. Emperor Sikander began to say, Wah Kabir, your glory is infinite. Saying the story, he knows this magic, I will blow it with a gun at times. Kabir, who came to the book, is right, you can do as you want.

Sekhtagi said to see how long Kabir will be live, and tied Kabir with an iron pillar, stood in front of the cannon and buried a cannon.   As soon as the cannon fired, the sound of Jay Kabir sounded loudly from the cannon and stood to stand Kabir. Talk to the shoot, hit it with the arrows. Fifty of the arrows crossed the body of Kabir but stood still as Kabir stood. People Jai Kabir Jab Kabir started shouting and the bid seems to be the end of the Muslim rule today. Do not shoot the arrows, shoot with the arrow of the dead. If you hit him with the tip of the forehead, then he would have become like this, as if shooting in the water and there is no sign in the body. Then the result started to kill itself and tired of killing.

Kabir did not have anything to do with the tricolor even after that nothing happened, then he took up the wooden pillar and began to kill and sat tiredly.   People were shouting Jai Kabir Jai Kabir. Sekhtagi told the wrestler that hit him with heavy octa, kills the wrestler, and kills the Kabir and kills the ground like hitting the ground.

Then, after listening to the call, bring the Bhakhananda elephant to drink and crush Kabir. When the elephant saw Kabir, he ran away as the elephant ran away after seeing the lion. The sadhus began to sing hymns with happiness. Saying sermons, leave the Babbar Lion with a cage; The lion came down and bowed to Kabir’s feet, then the voice of Jair Kabir began to sound. Then the Sekhtagi filled the basket and ordered the scorpions and poured on the head of Kabir, all the scorpions fled, The big snake gave a hug in the neck of Kabir, if people like the snake floral wreath, then Jai Kabir spoke.

Saying Sapraghi to Sapragya I have a nag that by a man seeing man dies, he shakes poison from a distance, if I have a spell, I bring it? As soon as the snake opened the basket, it flew away. People started speaking Jai Kabir Then the Sekhtagi took a gun in his hand and fired on Kabir but there was no sign on Kabir’s body, the tablet became useless. Now, Sekhtagi gave anger to Kabir with anger, he felt back to him, people shouted Jai Kabir. Nothing has happened even after the penultimate liberation of Kabir. Now the learned said to the wrestlers, bind them with a big stone and climb upstairs but Kabir sat on the stone, then Sakhtagi crushed Kabir from the oxen of the crusher, but Kabir started standing outside the crusher and people began to speak jay, Kabir.

Then the result was put to Kabir by the iron wheel, but they came out of it; people began to speak Jai Kabir, Sekhtagi made a wall around Kabir, but he came out of the wall, Sekhtagi stopped a thousand stones, Kabir He said to the wrestlers, “Fill the well with clay stones, people saw and thought that Kabir was dead but seeing Kabir at the bottom, he started speaking Jai Kabir Jai Kabir.” Kabir installed Soak fire wrapping the oil from clothing reported, textile burned and Kabir was nothing, people began to speak with Jay Kabir. Seminar has brought Kabir out of Kabir in a teak wood and tied it with silver wire, and Kabir came out. Then the letter read Kabir in a big house, but Kabir came out, then the hangman called the hanging and hung on the gallows and hanged. Sekhtagi broke swords in the middle of the well and Kabir was burnt, but Kabir did not come to any scratches. People started shouting Jai Kabir. Then the result was very annoying and he cut a cow and put his blood on the head of Kabir but the blood was damaged. Speaking of the talk will not die, and he has made Kabir fresh, and there is no difference, Sekhtagi melted the copper and gave it to Kabir and Kabir drank him, but nothing happened. Croud used to clap his hands and say, ‘Jai Kabir jayKabirr’ started speaking clapping with both hands standing beside the river Kasi.

Then the learned said, Go as many Sadhus as soldiers meet, bring them all together, and when they are brought and brought, then the scholars cut off their throats with the sword, then Kabir said, Is this the work of a peer? What did these people do to you? Now make them alive.

Sekhtagi is helpless and stood silent. Kabir started singing bhajans and the voices of Jai Kabir Jai Kabir came all around. Emperor king  said sekhtagi, your all efforts to harm kabir become useless now come back, we are not able to punish him. He is ultimate power.

Now Sekhtagi began to tremble with anger and said, ‘I will do fifty pieces of Kabir and invite fifty slaughterers.’ Kabir learned the meaning of his mind and said, fulfill the purity of his heart, then he told the slayers that pieces of pieces should be filled in the sack, and fill a wooden box and set it to fire. Then Kabir jumped into pieces and the slayers filled the boxes and set them on fire, people were watching.

Kabir thought that this person is absolutely stupid and blind, now he needs to know. Thinking so Kabir sat down in the throne of the King. Kabir died sekhtagi cried here and there the soldiers of the court told Emperor Sikandar that Kabir is sitting in the casket. Then Sikandar came and said, “We will have to obey you today.” Kabir said to  sekhtagi with the words: Let me remove all your wishes today?

Now all the money and Polish are in my order. And those saints who are against me, should I put them in jail? The King said, “You are the ruler of the three worlds. You used to remove my burning jealousy, because of this, you had ordered the execution of the sentence, now you can fly with the cannon and with it.” The fruits of the work will be done. Then from the beginning, both hands took hold of the ear and started apologizing to Kabir and said, ‘I am the goddess Rama Rahim, forgive us.’ So many monks, Brahmins, people, Kasi kings, King Bijli Khan Pathan and millions of soldiers of emperor started shouting slogans of Satguru Kabir in one voice.

Then Satguru Kabir said, King, I am in bliss, I do not have any pleasure and pain, I do not curse anybody, but accept the teachings of humanity that from today no unchallenged living beings will worship and worship the Satynam.  Then the king said that we will accept the command. Kabir said this is your kingdom. What will I do with this emperor, if you have any shortage then I will give it, what will I do with this secret?

Then bring the crown of the emperor and bring elephants to gold silver beads. From Kabir, a diamond crown was placed on the head and garland of precious jewels was worn in the neck. Let the reader add both hands and say, ‘Come here and leave my sinner’ and give me good knowledge and give me freedom.

Kabir said, where is your home? Talk to the nearby Jhansi fort, then Kabir Ji was handed over to the elephant; The king was standing with a umbrella in his hand and stood on top of Kabir; Sakhtagi took the peacock in his hands, power was on the hands of Bizli Khan Pathan and the King of Kasi Stood forward and Veer Singh went ahead with the sword for the sword.   While fluttering the flag, the king’s army reached Allahabad through the middle of Kasi  Nagar, which is also called Prayag (Allahabad City). Upon reaching there, all the people began to chant Jai Kabir. Speak of Satguru Kabir.


हिन्दी अनुवाद—-

कबीर के कारनामे देखकर राजा सिकंदर कबीर को गुरु पीर मानने लगे। कासी में कबीर से नाराज़ रहने वाले अनेक पीर,मौलवी,ब्राह्मण, पुरोहित, वैद्य राजा के दरबार के मुख्य पीर सेखतगी के पास पहुंचे और बोले कबीर हम सबको कसाई कहता है और खुद मुसलमान होने पर भी राम कृष्ण जपता है। तब पीर बोले सुबह सब मेरे साथ बादशाह के पास चलना, में बादसाह से कहकर कबीर को सज़ा दिलाऊंगा। सुबह राजा के दरबार में पहुंचकर पीर ने सब लोगों के साथ कबीर की शिकायत की ओर बोले बादशाह जी कबीर को बुलाइये। बादशाह बोले कबीर तो फ़क़ीर है और हमारा राजगुरु भी वही है। मैं उनको कैसे सज़ा का हुक्म दे सकता हूँ? पीर बोले धर्म का झगड़ा है, बुलवाना होगा। बादशाह बोले ठीक है बुलवाइए। सेखतगी ने चार लोगों को कबीर को बुलाने भेजा.चारों लोग रामानंद जी के दरवाजे पर खड़े रहे। दो घंटा बीत गया, फिर आठ लोगों को, फिर सोलह लोगों को, फिर बत्तीस लोगों को ओर फिर सौ लोगों को कबीर को बुलाने भेजा गया, वहां भीड़ लग गयी पर कोई कुछ बोलता नहीं था। किसी की ताकत नहीं कि कबीर को कोई हुक्म चलाये । स्वामी रामानंद जी से कुछ साधू बोले कि बादशाह के भेजे बहुत सारे लोगों ने घेरा डाल रखा है और कोई कुछ नही बोलता है अब क्या किया जाए ? रामानंद जी ने कबीर से कहा, ये क्या हो रहा है, ये सब क्या है ?  कबीर जी बोले ये सब बादशाह के सिपाही है और मुझे पकड़ने आये हैं। तब रामानंद जी बोले आप तो अविनाशी है, कुछ करिये। तब कबीर बोले अच्छा तो मै जाता हूँ।और बादशाह के दरबार में पहुँच गये।वहाँ आश्रम मे एक साधू भीड़ से बोला, आप यहाँ क्यों खड़े है ? सब लोग बोले कबीर साहिब को ले जाने आये है। साधू बोले कबीर बादशाह के दरबार मे पहुंच गये हैं तब सभी लोग अचरज से देखने लगे और शरमाकर वहाँ से चले गये। बादशाह का दरबार सज़ा था और वहां पर बान्धव के राजा नरेश वीर सिंह, बिजली खान पठान ओर बड़े साहूकार, ब्राह्मण, सन्यासी, काज़ी ओर मौलवी बैठे थे। बादशाह सिकंदर अपनी राज़ गद्दी मे बैठे थे। कबीर जी साही गद्दी के सामने जाकर  खड़े हो गये। तब कबीर से सेखतगी बोला ,बादशाह की गद्दी को अदब नहीं किया ?  कबीर बोले सत्यनाम छोड़कर मेरी जबान को और कुछ बोलने की फुरसत नहीं है। तब सेखतगी बोला, अरे काफ़िर, तू हिन्दू है कि मुसलमान ? राम को जपता है या अल्लाह को ?  कबीर बोले राम के रा मैं ओर म मै अ छिपा है और अल्लाह के ल ओर ह मैं भी अ   छिपा है और सारे संसार मे रमा है अग्नि, पवन, पानी,धरती, आकास और सुख और दुख मैं भी , गाने मैं ओर रोने मैं भी। अ सब जगह है, मियाँ जी कोई फर्क नहीं है। अल्लाह और राम एक है। कबीर बोले ओर कुछ पूछना है ?  सेखतगी बोले, देखिये बादशाह ये जुलाहा वेद और कुरान की हदों को तोड़ता है, अपने खुदा को राम बनाता है, यदि ये दुनिया मे रहेगा तो बहुत लोगों को नुकसान पहुचायेगा। बादशाह के दरबार ओर बादशाही का भी इसको कोई डर नही है। इसको मृत्युदंड दिया जाये। बादशाह जी रजिस्टर में हस्ताक्षर करके हुकुम दीजिये, बादशाह बोले कबीर को मैंने राजगुरु बनाया है और मैं कबीर को हुक्म नहीं दे सकता, पीर ओर फ़क़ीर अल्लाह की जात है।सेखतगी ने अपना मुकुट निकालकर जमीन में पटक दिया। कबीर बोले बादशाह जी आप मन मे ग्लानि मत पालो ओर पीर को हुक्म दो। बादशाह ने अपनी कलम तोड़ दी और वहां से उठकर चले गये। बादशाह के जाते ही  सेखतगी ने बहुत भारी लोहे की जंजीर को दस पहलवानों से उठवाकर कबीर के गले में पहना दिया, हाथ ओर पैरों में हथगढ़ी डालकर कसवा दिया और अस्सी पहलवानो ने 3200 किलो का लोहे का फंदा बनाकर कबीर को जमीन में लेटाकर डाल दिया और पूरी तरह से बांधकर गंगा नदी में डलवा दिया। तब कासी नगरी के लोग बोले आज कबीर को डूबा दिया जाएगा ,कबीर नहीं रहेगा। रामानंद जी रोने लगे, नीरू को बेहोसी आने लगी, कासी नरेश विवश थे वे कुछ बोल नहीं पा रहे थे,दुष्ट लोग बहुत खुश थे, गंगा के दोनों ओर बहुत भीड़ जमा थी। उसी दिन से उस घाट का नाम राजघाट पड़ा। नाव से कुछ पहलवान कबीर को उठा कर गंगा में डालकर लौट ही रहे थे कि भीड़ ने शोर मचा दिया और बोले देखो कबीर गंगा से दो हाथ ऊपर  पद्मासन लगाकर आराम से बैठे है।लोहा गलकर पानी बन गया। लोग कबीर की जयजयकार करने लगे। रामानंद ओर नीरू नीमा भी बड़े खुस थे। कासी नरेश कहने लगे कबीर अविनासी पुरुष है। बादशाह सिकंदर कहने लगे वाह कबीर, आपकी महिमा अनंत है। सेखतगी बोला, अरे ये जादू जानता है, अबकी बार इसको तोप से उड़ाऊंगा। कबीर सेखतगी के पास आये बोले ठीक है जैसा तुम चाहते हो वैसा कर सकते हो। सेखतगी बोला देखता हूँ कब तक बचेगा, ओर कबीर को लोहे के खंभे से बांधकर तोप के सामने खड़ा कर दिया और तोप दगवा दी।तोप जैसे ही चली, तोप से बहुत जोर से जय कबीर की आवाज़  सुनाई दी ओर कबीर जैसे खड़े थे वैसे ही खड़े रहे। सेखतगी बोला इसको तीरों से मारो। पचासों तीर कबीर के शरीर के आर पार निकल गये पर कबीर जैसे खड़े थे वैसे ही खड़े रहे। भीड़ जय कबीर जय कबीर चिल्लाने लगी और बोली लगता है आज मुसलमानी राज़ का अंत हो जाएगा। सेखतगी बोला तीर से नहीं मरा तो बांश की नोक से मारो। बांश की नोक से मारा तो वह ऐसे आरपार हो जाते जैसे पानी मे मार रहे हों ओर शरीर में भी कोई निसान न दिखाई दे। तब सेखतगी खुद मारने लगा और मारते मारते थक गया। कबीर को कुछ नही हुआ तो त्रिसूल से मारने लगा तब भी कुछ नहीं हुआ फिर लकड़ी का मुदगर उठाकर मारने लगा और थक कर बैठ गया। लोग जय कबीर जय कबीर के नारे लगा रही थी। सेखतगी ने पहलवान से कहा कि इसको भारी  अष्टगदा से मारो, पहलवान मारता ओर गदा कबीर को पार कर जमीन से टकराती जैसे हवा को मारने पर होता है। तब सेखतगी बोला भेखनंद हाथी को शराब पिला कर लाओ ओर कबीर को कुचल दो। हाथी ने कबीर को देखा तो वह डर कर भाग गया जैसे शेर को देखकर हाथी भागता है। साधू लोग खुसी से भजन गाने लगे। सेखतगी बोला पिंजड़े से बब्बर शेर को छोड़ दो, शेर आकर कबीर के पैरों के पास सर झुकाकर बैठ गया, जय कबीर की आवाज होने लगी तब सेखतगी ने एक टोकरी भरकर बिच्छू मंगवाये ओर कबीर के सर पर डलवा दिये, सारे बिच्छू भाग गए, बड़े बड़े नाग कबीर के गले में डलवा दिये ,वे नाग फूलों की माला की तरह लोगों ने देखे तो जय कबीर बोल पड़े। सेखतगी से सपेरा बोला मेरे पास एक ऐसा नाग है जिसे देखकर ही आदमी मर जाता है वह दूर से ही जहर फैंकता है, अगर हुकुम हो तो लाता हूँ ? सांप को जैसे ही टोकरी से खोला, वह उड़ गया। लोग जय कबीर बोलने लगे। तब सेखतगी ने अपने हाथ में बंदूक उठाई और कबीर पर चलाई पर कबीर के शरीर पर कोई निसान नहीं हुआ, गोली बेकार हो गयीं।  अब सेखतगी ने गुस्से से कबीर पर जादू फैंका तो वह वापस उसी को लगा ,लोगों ने जय कबीर के नारे लगाये। तब सेखतगी ने कबीर को जहर पिलवाया तो भी कुछ नहीं हुआ। अब सेखतगी ने पहलवानो से कहा इसको एक बड़े पत्थर से बांधकर ऊपर से फैंको पर कबीर पत्थर की ऊपर बैठ गए, तब सेखतगी ने कोल्हू के बैलों से कबीर को कुचलवाया पर कबीर तो कोल्हू के बाहर खड़े दिखाई देने लगे और लोग जय कबीर बोलने लगे। तब सेखतगी ने लोहे के चक्के से काटने को कबीर को डाला पर वे उससे बाहर आ गए, लोग जय कबीर बोलने लगे, सेखतगी ने कबीर के चारों तरफ दीवार चिनवा दी,मगर वो दीवार के बाहर आ गए, सेखतगी ने एक हज़ार पत्थर बंधवाकर कबीर को कुंवे में डलवा दिया, ओर पहलवानो से कहा जल्दी से कुंवे को मिट्टी पत्थरों से भर दो, लोगों ने देखा और सोचा शायद कबीर मर गए पर कबीर को कुंवे के ऊपर देखकर वे जय कबीर जय कबीर बोलने लगे।सेखतगी ने कबीर को कपड़ों से लपेटकर ओर तेल से भिगोकर आग लगवा दी, पर कपड़ा जल गया और कबीर को कुछ नही हुआ, लोग जय कबीर बोलने लगे। सेखतगी ने सागौन की लकड़ी में कबीर को  चांदी के तारों से बांधकर कसवाया पर कबीर बाहर आ गए। फिर सेखतगी ने एक बड़े मकान में कबीर को बंद करवा दिया पर कबीर बाहर आ गए, फिर जल्लादों को बुलाकर फांसी पर लटक वाया पर फाँसी का फंदा टूट गया।  सेखतगी ने कुंवे के अंदर तलवारें गड़वाई ओर कबीर को फिंकवा दिया, पर कबीर को कोई खरोंच तक नहीं आयी।लोग जय कबीर के नारे लगाने लगे। तब सेखतगी को बहुत गुस्सा आया और उसने एक गाय को काटकर उसका खून कबीर के सर पे डाल दिया लेकिन खून गंगा जल हो गया। सेखतगी बोला ऐसे नहीं मरेगा ओर उसने कबीर को पारा पिलवाया पर कोई फर्क नहीं हुआ, सेखतगी ने ताँबे को पिघलवाकर कबीर को पिलवाया ओर कबीर उसको पी गये, पर कुछ नहीं हुआ। सेखतगी घबराकर बोला ये जादू मंत्र  जानता है तब कासी नदी के किनारे खड़ी भीड़ दोनों हाथों से ताली बजाकर  जय कबीर जय कबीर बोलने लगी। तब सेखतगी ने कहा जाओ सिपाहियों जितने भी साधू संत मिलें, सबको पकड़ लाओ ओर जब उनको पकड़कर लाया गया तो सेखतगी ने तलवार से सबके गले काट दिए, तब कबीर बोले क्या यही एक पीर का काम होता है ? इन लोगों ने तुम्हारा क्या बिगाड़ा था ? अब इनको जिंदा करो। सेखतगी लाचार ओर चुप रहा। कबीर ने भजन गाने सुरु कर दिए और चारों तरफ जय कबीर  जय जय कबीर की आवाजें आने लगी। अब सेखतगी गुस्से से कांपने लगा और कहने लगा में इस कबीर के पचास टुकड़े कराऊंगा ओर पचास कातिलों को बुलवाया। कबीर ने उसके मन की बात जान ली और कहा अपने मन की मुराद पूरी कर ले, तब उसने कातिलों से कहा कि इसके टुकड़े टुकड़े करके बोरे में भर दो और एक लकड़ी के बक्से मैं भरकर आग लगाओ। तब कबीर जी टुकड़े टुकड़े हो गए और कातिलों ने बक्से में भरकर आग लगा दी, लोग तमासा देख रहे थे। कबीर ने विचार किया ये सेखतगी बिल्कुल बेवकूफ और अंधा है,अब इसको चेताना चाहिए। इतना विचार कर कबीर बादशाह की गद्दी में बैठ गए। इधर तकी कहने लगा कबीर मर गया और उधर दरबार के सैनिकों ने राजा सिकंदर को बताया कि कबीर राज़ गद्दी में बैठा है।तब सिकंदर आये बोले पीर गुरु आज हमको आप का हुक्म मानना पड़ेगा। कबीर सेखतगी से बोले क्या आज तुम्हारी सारी सेखी निकलवा दूं ?  अब तो सारी दौलत ओर पोलिश मेरे हुक्म मे है।और जो साधू पीर सन्यासी मेरे विरोधी हैं इनको जेल मे डलवा दूं?  बादशाह बोले आप तीन दुनिया के बादशाह हैं।आपने मेरी जलन दूर की थी, मेंने इस सेखतगी के कारण आपको प्राणदंड का हुक्म दिया था,  अब आप तकी सहित मुझे तोप से उड़वा दीजिये ओर सूली पर चढ़वा दीजिये। किये का फल भोगना ही पड़ेगा। तब सेखतगी दोनों हाथों से कान पकड़कर कबीर से माफी मांगने लगा ओर बोला आप खुदा , राम रहीम के रूप है, हमको माफ कर दीजिए। इतने मैं वहां जितने साधू, ब्राह्मण,प्रजा, कासी नरेश, बिजली खां पठान ओर राजा की लाखों फ़ौज़ सब एक स्वर मे सतगुरु कबीर की जय के नारे लगाने लगी। तब सतगुरु कबीर बोले हे राजा , मैं आनंद स्वरूप हूँ, मुझे सुख और दुख नहीं होता, मैं किसी को श्राप नहीं देता,लेकिन सेखतगी आज़क कबूल करो कि आज से किसी निरअपराधी जीवों को नहीं सतायेंगे ओर सतनाम का भजन करेंगे। तब बादशाह बोला जो आज्ञा है हम मानेंगे। कबीर बोले ये बादशाही आपकी है। मैं इस बादशाही का क्या करूँगा, अगर तुमको कोई कमी है तो मैं दे देता हूँ, मैं इस राज़ का क्या करूँगा। तब सेखतगी बोला बादशाह का मुकुट लाओ और सोने चांदी मोतियों से हाथी सज़ा कर लाओ। कबीर से सर पर नों करोड़ का हीरा जड़ित मुकुट लगाया गया और गले मे बेशकीमती रत्नों की माला पहनाई गयी। सेखतगी दोनों हाथ जोड़कर बोले मुझ पापी के यहाँ चलिए ओर रहिये ओर मुझे अच्छा ज्ञान देकर मुझे मुक्त कराइये। तब कबीर बोले तुम्हारा घर कहाँ है ?   तकी बोला झूंसी किला पर चलिए, तब कबीर जी को हाथी में चढ़ाया गया, बादशाह हाथ मे छत्र लेकर कबीर के ऊपर ताने खड़े थे, सेखतगी ने मोरपंखी हाथ मे ली,बिजली खां पठान के हाथ मे चंवर था ओर कासी के राजा हाथ मे भाला लिए आगे खड़े हुए और वीर सिंह तलवार लिए फ़ौज़ के साथ आगे चले। बिगुल बजाते ओर ध्वजा फहराते हुए राजा के सैनिक कासी नगरी के बीचों बीच से होते हुए इलाहाबाद पहुंचे जिसे प्रयाग भी कहते है। वहां पहुचने पर सभी लोग जय कबीर का उद्घोष करने लगे। बोलिये सतगुरु कबीर की जय।

1 Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *