Abstract of Bhagwat Gita

Spread the love

Man does not read Bhagwat Geeta until it becomes known that he as well as all living beings in this world is the soul. This Bhagwat Geeta is a test for all those inquisitors to take out their best form from within. Bhagwat Geeta is the best book to pass this test. Here we present the abstract of Bhagwat Gita.

There are eighteen chapters of Bhagwat Geeta and all these are the wisdom spoken by God. Sanskrit language every day with time it came out of life and this knowledge got away from the man. From time to time Bhagwat Geeta translated into another language to aware people.

This knowledge was given by Shri Krishna in the land of Kurukshetra in the Mahabharata, the biggest religion war, five thousand years ago. This was the time when religion was repeatedly damaged. Due to the increase in the number of wicked people in the world, good people were oppressed and the fear of God ended. The brother tried to kill the brother in a greedy contest and a married woman was insulted and humiliated in front of the elder people of the family in a crowded meeting.

Before the human race emanated from Treta era and went to Kaliyuga, before the war in the field of war, Krishna gave knowledge of Mahabharata to Arjuna. Like Tura’s knowledge to Mozes, the knowledge of the Qur’an to Prophet Mohammed; knowledge of the Bible to Jesus. God has provided the knowledge of the Vedas, the Gita, the Koran, the Bible, the Guru Granth Sahib, Tura is by the voice. The knowledge given by them is not for any one religion, but for the entire humanity, for humanity.

This knowledge is equally effective for all souls. This knowledge explains the soul about the harmony, the creation of their creation. In human form, the soul must follow this knowledge and rules in every situation. It should be protected. According to these rules, one soul will be tested after leaving the body. Passing this examination will always get rid of birth and death.

In the Bhagavad Gita, Sri Krishna says that I am Brahma. I am the King of the Universe. I am the beginning of all. I am the one who will run the creation. After all the finish I will stay. All is in me and I am in all. Whatever you can see, smell; hear it, taste it, all I am. These rivers, mountains, suns, moons, star all I have made. I have made all these angels, demons and living creatures. I am omnipresent and I live in all. I am in all, I am the same.

I create everything by becoming Brahma and destroy everything by becoming a Shankar. I will create and destroy this creation only so that one day the soul gets the opportunity to live with Supreme God after getting salvation from birth and death.

Bhagwat Geeta says that he has created this world from five elements, namely earth, water, air, fire, sky, respectively. Those, whom we touch, see taste and understand. But he has kept themselves out of all the senses. Man can not see God through these senses. The soul is separate to its senses like a robot has no idea of ​​its maker.

To show Arjun his appearance, Shri Krishna gave him the divine vision. Bhagwat Geeta explains that the soul is unseen. It can not kill, can not burn, and can not bite. But the soul has to sit in the form of a life examination to attain God and then the Supreme God. In order to sit and pass this examination, the soul has to be born in some form in this world. After spending life in eighty-eight hundred crores, the soul once again gets good intentions to think of the human body and the good mind as well.

In this examination, every soul is inserted with brother, sister or friends. In which the soul comes out from its vengeful and moral tendency and finds opportunities for attaining spiritual devotion. Our vantage points are those which make us sad and miserable by causing us inferiority complex and harm us. Our majestic qualities make us jealous and greedy and harm others. During this test, every soul will have to become familiar with the virtuous qualities by eliminating all its vicious and majestic qualities. Sattvic qualities are those which attach to the soul everything around you and teach to love.

For examination, the soul must have knowledge of the four pillars of life, namely religion, the cause of his creation, work and salvation. This is the door to which the soul can attain the soul.

The first pillar is of religion; its symbol is the lion. Religion is what is written in the Gita, Vedas, Bible, Quoran and Guru Granth Sahib. Religion is what is adopted. Nonviolence is religion, but the violence done to keep the values ​​of religion alive is not wrong. Religion is what our heart believes, like stealing, not playing gambling, do not lie, do not disrespect the person, do not torture the weak, and do not kill the innocence lives. All of these are the values ​​of religion. Every soul has to follow its religion all the time in life. He’ll have to protect him.

The second column is of the reason of creation. The horse is a symbol of it. Every soul has to understand the meaning of being in the world and its Reasons to know. In this life, he enjoys enjoying things and relationships on earth. By making the soul a good son, daughter, brother, sister, mother, father, friend, and relative, will be good and true on every relationship. Then, sitting in the examination will pass it to him.

The third column is of sexuality (creation)Bhagwat Geeta explains that within each person, six emotions like work, anger, greed, attachment, ego, and jealousy can harm us and others. Humans will always have to keep these feelings in their control so that the soul can win over these feelings forever with contentment and simplicity. If any control is not made in it, then any work to be done can cause a problem in our life.

The fourth pillar is of salvation and the elephant is its symbol. Every man in the life of this examination keeps any desire at all times. Some desires are fulfilled in one birth and some remain incomplete. To fulfill the incomplete desires, the soul has to come back into the world again. Bhagwat Geeta says that the root cause of our coming back to the world is our incomplete desires. If we hold satisfaction, then we can get rid of the bonds of birth and death. This gate is also called the gate of forgiveness.

Forgive those who have done badly to you, apologize to whom you did bad and get salvation May to be. As long as the soul does not understand the religion, cause of birth, work and salvation of the four doors respectively, this soul will have to come again and again in this world. As soon as the time of the examination is over, all things along with the body holding the soul have to be abandoned. Anyone who has made this living in the world is now of someone else. The soul goes to the decision of his actions.


The good and bad deeds of the soul are accounted for. For good deeds, he has to go to heaven for some time and in hell for bad deeds. In hell, the soul is punished according to bad deeds. After the punishment is completed, the soul gets a new body and a healthy mind again, so that he can sit again in the exam. All the same, the procedure will be repeated in every exam unless man understands religion, cause, work, and salvation well.

In every birth, according to the deeds of the previous births, every person has to go through a bad and bad situation. But as long as he does not understand the desire of God, the soul cannot attain liberation. Bhagwat Geeta explains that man can simplify the realization by doing good deeds through his heart, mind, and body. This is called karma yoga. Such actions are done by the desire of the person and for the welfare of others.

Balmiki ji wrote the Ramayana, Shravan Kumar kept his old parents on the shoulder and traveled to the top four pilgrim places. Bhagwat Geeta says that one can attain God through meditation. Meditation is present in the body as part of the soul. This method is called Raja Yoga. In this Yoga, Man have to awaken the seven chakras (The confluence of the nerves)  in the body, named Muladhara, Swadhasthana, Manipura Chakra, Anhad Chakra, Vishuddhi Chakra, Agya Chakra and Sahasshras Chakra. By yoga practice, when one gets awake, man gets divine sight.

In the Bhagavad-gita, God says that if a soul does not understand religion, even if it comes in my shelter, then I will end all its sins. This method is called Bhakti Yoga. Meera Bai, Bhakta Prahlad, Chaitanya Mahaprabhu, and Hanuman Ji are the biggest examples of it. But if the soul destroys the fundamental cause of its own being and goes on the path of sin, then in order to correct it, I again born in the world in some form in every age and establish religion again.

यदा-यदा ही धर्मस्य, ग्लानिर्भवति भारतः
अभ्युत्थानह अधर्मश्य, तदात्मानम श्रजांमयह्म,
परित्राणाय साधूनाम, विनाशाय च दुष्कृताम,
धर्मसंस्थापनार्थायह सम्भवामि युगे-युगे।

भागवत गीता सार

मनुष्य भागवत गीता को तब तक नहीं पढ़ता जब तक कि उसे यह ज्ञात नहीं हो जाता कि वह स्वयं तथा इस जगत के सभी जीव आत्मायें हैं। यह भागवत गीता ऐसी सभी जिज्ञासुओं के लिये अपने अंदर से अपने सबसे अच्छे रूप को बाहर निकालने की परीक्षा है। भागवत गीता इस परीक्षा को पास करने की सबसे अच्छी किताब है।

भागवत गीता के अठारह अध्याय हैं और ये सब ईश्वर द्वारा बोला गया ज्ञान है। समय के साथ संस्कृत भाषा रोजमर्रा की जिंदगी से निकल गयी और यह ज्ञान मनुष्य से दूर हो गया। समय-समय पर भागवत गीता का साधारण भाषा में अनुवाद किया गया।

यह ज्ञान ईस्वर ने श्री कृष्ण के द्वारा सबसे बड़े धर्म युद्ध महाभारत में अर्जुन को कुरूक्षेत्र की भूमि में पाँच हज़ार वर्ष पहले दिया गया। यह वह समय था जब धर्म की बार-बार हानि हुई। संसार में दुष्ट लोगों की संख्या बढ़ने के कारण अच्छे लोगों का उत्पीड़न हुआ और मनुष्य को ईस्वर का भय समाप्त हो गया। लालच की होड़ में भाई ने भाई को मारने की कोशिश की और एक विवाहित स्त्री को भरी सभा में परिवार के बड़े लोगों के सामने निवस्त्र कर अपमानित किया गया।

इससे पहले कि मनुष्य जाति त्रेता युग से निकलकर कलयुग में जाती, युद्ध की रणभूमि में युद्ध से कुछ पहले ईस्वर ने श्री कृष्ण के द्वारा महाभारत का ज्ञान मनुष्य के लिये दिया। जैसे तुरा का ज्ञान मोज़ेज़ को, कुरान का ज्ञान प्रॉफिट मोहम्मद को, बाइबिल का ज्ञान जीसस को दिया। वेद, गीता, कुरान, बाइबिल, गुरुग्रंथ साहिब, तुरा का ज्ञान ईस्वर द्वारा प्रदान किया हुआ ज्ञान है। उनके द्वारा दिया गया ज्ञान किसी एक धर्म के लिये नहीँ, बल्कि पूरी मानवता के लिये है, इंसानियत के लिये है।

यह ज्ञान सभी आत्माओं के लिये समान रूप से प्रभावी है। यह ज्ञान आत्मा को ईस्वर के बारे में, उनकी बनाई सृष्टि के बारे में समझाती है। मनुष्य रूप में आत्मा को इस ज्ञान और नियमों का हर हाल में पालन करना चाहिये। इसकी रक्षा करनी चाहिये। इन्ही नियमों के अनुसार एक आत्मा को शरीर त्यागने के बाद परखा जाएगा। इस परीक्षा को पास करने पर हमेशा से जन्म और मृत्यु से मुक्ति मिलेगी।

ईस्वर भागवत गीता में कहते हैं कि मैं ब्रह्म हूँ। इस ब्रह्मांड का राजा हूँ। मैं ही सब की शुरुआत हूँ। मैंने ही सृष्टि को चलाने वाला हूँ। सब कुछ खत्म होने के बाद भी मैं ही रहूंगा। सब मुझमें है और मैं सब में हूँ। तुम जो कुछ भी देख सकते हो, सूँघ सकते हो, सुन सकते हो, चख सकते हो, ये सब मैं हूँ। ये नदियाँ, पहाड़, सूरज, चाँद, सितारे सब मैंने ही बनाये हैं। मैंने ही देवता, राक्षस, शैतान, जीव जंतु बनाये हैं। मैं सर्वव्यापी हूँ और सबमें रहता हूँ। सब में मैं हूँ, मैं ही हूँ। मैं ही ब्रह्मा बनकर सब बनाता हूँ और शंकर बनकर सब कुछ नष्ट कर देता हूँ। मैं ये सृष्टि यूँ ही बनाता और तोड़ता रहूँगा ताकि एक दिन आत्मा को जन्म और मृत्यु से मोक्ष पाकर परमेश्वर के पास रहने के मौके मिलें।

भागवत गीता कहती है कि ईस्वर ने इस पृकृति का निर्माण पाँच तत्वों क्रमशः पृथ्वी, जल, वायु, अग्नि, आकाश, से किया। जिन्हें हम छूकर, देखकर, चख कर समझ सकते हैं। उन्होंने खुद को सभी इन्द्रियों से बाहर रखा। मनुष्य इन इन्द्रियों के माध्यम से ईस्वर को नहीं देख सकता। आत्मा अपनी इन्द्रियों के साथ ऐसे ही है जैसे एक रोबोट को अपने बनाने वाले का कोई पता नहीं होता।

अर्जुन को भी अपना रूप दिखाने के लिये श्री कृष्ण ने दिव्य दृष्टि दी। भागवत गीता समझाती है कि आत्मा अजन्मी है। इसे कोई मार नहीं सकता, जला नहीं सकता, काट नहीं सकता। लेकिन आत्मा को ईस्वर व परमेश्वर की प्राप्ति के लिये जीवन रूपी परीक्षा में बैठना ही होगा। इस परीक्षा में बैठने और पास करने के लिये आत्मा को इस संसार में किसी न किसी रूप में जन्म लेना ही होगा। अठ्ठासी करोड़ योनियों में जीवन बिताने के बाद आत्मा को मनुष्य का शरीर और अच्छा दिमाग साथ ही विचार करने के लिये अच्छी बुद्धि मिलती है।

इस परीक्षा में प्रत्येक आत्मा को अपने भाई, बहिन या मित्रों के साथ डाला जाता है। जिसमें आत्मा को अपने तामसिक और राजसी प्रवृत्ति से निकलकर सात्विक प्रवत्ति पाने के मौके मिलते हैं। हमारे तामसिक गुण वह हैं जो हमारे अंदर हीन भावना पैदा करके हमें खुद को उदास और दुखी बनाते है और नुकसान पहुंचाते हैं। हमारे राजसी गुण हमें ईर्ष्यालु और लोभी बनाकर दूसरों को नुकसान पहुँचाते हैं। इस परीक्षा के दौरान हर आत्मा को अपने सारे तामसी और राजसी गुणों को खत्म करके सात्विक गुणों से परिचित होना पड़ेगा। सात्विक गुण वह हैं जो आत्मा को अपने आस पास की हर चीज़ से जोड़े और प्यार करना सिखाये।

परीक्षा के लिये आत्मा को जीवन के चार स्तम्भ क्रमशः धर्म, अर्थ, काम और मोक्ष का ज्ञान होना अनिवार्य है। यही वह द्वार हैं जिनको समझ करके आत्मा ईस्वर को प्राप्त कर सकती है।

पहला स्तम्भ धर्म का है, इसका प्रतीक शेर है। धर्म वही है जो गीता, वेद, बाइबिल, कुरान और गुरुग्रन्थ साहिब में लिखा है। धर्म वही है जिसको धारण किया जाता है। अहिंसा परम् धर्म है परन्तु धर्म के मूल्यों को जीवित रखने के लिये की गई हिंसा अधर्म नहीं है। धर्म वह है जिसे हमारा दिल मानता है जैसे चोरी न करना, जुआ न खेलना, झूठ न बोलना, ईस्वर का अनादर न करना, दुर्बल को न सताना, जीव हत्या न करना। यह सब धर्म के मूल्य हैं। हर आत्मा को जीवन में हर समय अपने धर्म का पालन करना होगा। उसकी रक्षा करनी पड़ेगी।

दूसरा स्तम्भ अर्थ का है। घोड़ा इसका प्रतीक है। हर आत्मा को अपने संसार में होने का अर्थ समझना होगा तथा इसका कारण जानना होगा। इस जीवन में वह पृथ्वी पर भोगने वाली चीजों और रिश्तों का आनंद ले। आत्मा अपने को अच्छा बेटा, बेटी, भाई, बहिन, माता, पिता, मित्र, सम्बन्धी बनाकर हर रिश्ते पर अच्छा और खरा उतरेगी। तभी परीक्षा में बैठकर इसको पास करेगी।

तीसरा स्तम्भ काम का है। काम का अर्थ स्रजन से है। भागवत गीता समझाती है कि हर मनुष्य के अंदर काम, क्रोध, लोभ, मोह, अहंकार और ईर्ष्या जैसी छह भावनायें हमें अपने और दूसरों के प्रति नुकसान पहुंचा सकती हैं। इन भावनाओं को मनुष्य को हमेशा अपने नियंत्रण में रखना होगा ताकि आत्मा संतोष और सादगी के साथ इन भावनाओं पर हमेशा के लिये विजय पा ले। यदि इसमें नियंत्रण नहीं रखा जायेगा तो किया जाने वाला कोई भी कार्य हमारे जीवन में परेशानी का कारण बन सकता है।

चौथा स्तम्भ मोक्ष का है और हाथी इसका प्रतीक है। इस परीक्षा रूपी जीवन में हर मनुष्य हर समय कोई इच्छा रखता है। कुछ ईच्छायें एक ही जन्म काल में पूरी हो जाती हैं और कुछ अधूरी रह जाती हैं। अधूरी इच्छाओं को पूरा करने के लिये आत्मा को फिर से संसार में आना पड़ता है। भागवत गीता कहती है कि हमारे दुबारा संसार में आने का मूल कारण हमारी अधूरी ईच्छायें हैं। यदि हम कोई भी इच्छा ना रखें तो हमको जन्म मृत्यु के बन्धनों से मुक्ति मिल सकती है। इस द्वार को माफी का द्वार भी कहते हैं।

जिन्होंने आपके साथ बुरा किया उनको माफ करके, जिसके साथ आपने बुरा किया उससे माफी माँगकर मुक्ति पायी जा सकती है। जब तक आत्मा चारों दरवाजों क्रमशः धर्म, अर्थ, काम और मोक्ष को समझ नहीं लेती, तब तक इस आत्मा को बार-बार इस संसार में आना ही पड़ेगा। परीक्षा का समय खत्म होते ही आत्मा को धारण किये हुए शरीर के साथ-साथ सभी वस्तुओं को त्याग करना होगा। जो भी इस संसार में रहकर बनाया वह अब किसी और का होगा। आत्मा अपने कर्मों के फैसले के लिये चली जाती है

आत्मा के अच्छे और बुरे कर्मों का हिसाब होता है। अच्छे कर्मों के लिये उसे कुछ समय तक स्वर्ग तथा बुरे कर्मों के लिये नरक में जाना होता है। नरक में आत्मा को बुरे कर्मों के अनुरूप सज़ा मिलती हैं। सज़ा पूर्ण होने के बाद आत्मा को दुबारा से एक नया शरीर और स्वस्थ दिमाग मिलता है, जिससे वह फिर परीक्षा में बैठ सके। हर परीक्षा में वही सब कुछ दोहराया जाएगा, जब तक मनुष्य धर्म, अर्थ, काम और मोक्ष को अच्छी तरह से न समझ ले।

हर जन्म में अपने पहले जन्मों के कर्मों के हिसाब से हर मनुष्य को कभी अच्छे तो कभी बुरे हालातों से गुजरना पड़ता है। लेकिन जब तक वह परमात्मा की चाहत को नहीं समझ लेती, आत्मा को मोक्ष नहीं मिल सकता। भागवत गीता समझाती है कि मनुष्य अपने दिल, दिमाग और शरीर के माध्यम से अच्छे कर्म करके ईस्वर प्राप्ति को सरल बना सकता है। इसे कर्म योग कहते हैं। ऐसे कर्म ईस्वर की इच्छा से होते हैं तथा दूसरे के कल्याण के लिये किये जाते हैं।

बाल्मीकि जी ने रामायण लिखी, श्रवण कुमार ने अपने बूढ़े माता पिता को कन्धे पर रखकर चार धामों की यात्रा कराई। भागवत गीता कहती है कि मनुष्य ध्यान के माध्यम से परमेश्वर को प्राप्त कर सकता है। ध्यान मनुष्य शरीर में ईस्वर के अंश के रूप में विद्यमान है। इस विधि को राजा योग कहते हैं। इस योग मैं शरीर में स्थित सात कुंडलियों क्रमशः मूलाधार, स्वाधिस्ठान, मणिपुर चक्र, अनहद चक्र, विशुद्धि चक्र, आज्ञा चक्र तथा सहस्राश्र चक्र को अपनी स्वास प्रणाली, योग साधना और अभ्यास से जाग्रत करना होता है। जिसे जागृत हो जाने पर मनुष्य को दिव्य दृष्टि प्राप्त होती है। जिससे वह ईस्वर को प्राप्त कर लेता है।

ईस्वर भागवत गीता में कहते हैं कि अगर किसी आत्मा को धर्म ना भी समझ आये तो भी यदि वह मेरी शरण में आ जाये तो मैं उसके सारे पापों को समाप्त कर देता हूँ। इस विधि से ईस्वर प्राप्ति को भक्ति योग कहते हैं। मीरा बाई, भक्त प्रह्लाद, चैतन्य महाप्रभू और हनुमान जी इसके सबसे बड़े उदाहरण हैं। लेकिन यदि आत्मा अपने होने का मूल कारण भूलकर धर्म का उल्लंघन करे या पाप के रास्ते पर चल पड़े तो उसे ठीक करने के लिये मैं हर युग में किसी न किसी रूप में संसार में जन्म लेता हूँ और पुनः धर्म को स्थापित करता हूँ।

यदा-यदा ही धर्मस्य, ग्लानिर्भवति भारतः
अभ्युत्थानह अधर्मश्य, तदात्मानम श्रजांमयह्म,
परित्राणाय साधूनाम, विनाशाय च दुष्कृताम,
धर्मसंस्थापनार्थायह सम्भवामि युगे-युगे।
 
 
 
 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *