Element Knowledge

Spread the love

When the soul embraces Prana (Life), then it becomes a creature. When the Prana finished  then it becomes a soul. Oxigen means life here to understand the depths. Prana means oxygen.

This oxygen is also an element of five material elements. Overall, there are five elements in this world. The names are earth, water, air, fire and sky. The nature of the elements is to destroy each other. Therefore this world has been called as Destroyer.

If you notice, then you will find that the soil  fully gets absorbed in the water.  water  from fire dries. Wind also  extinguishes the fire. The sky extinct the air. The sky is  itself a element so it will be also end according to time.

Physical and gross things have been created from the five elements. There is destruction of all material things, so these are called mortal. They have to end one or the other day. The one who ends up is said to be untrue because truth never ends.

However soul is real (true), while the elements is made of five materials are unreal (false). Body and life can end, but the soul never ends. The soul only holds the life and then reaches the body of the organism.

The soul was not required to bear life because the basis of prana is linked to the body. When the soul is full of this ignorance and does not have the knowledge of Supreme Power, then that soul can not get out from Niranjan Brahm world, the ruler of the entire universe and in keeping with the lives, it remains bound in bonds of birth and death and becomes unable to get salvation.  Salvation is a condition when soul never comes in material made body again and it become totally free from bound of person death.

This rare knowledge and mystery has  been exposed by Sant Kabir only. Some rules have been told by them to achieve salvation with the help of poems, we will write them in other blog. There was no need for the soul to bear life. The soul is immortal and indestructible, which means that there is no death or destruction.

It always persists. Its never ending, it is stable. It is a part of Supreme power. Those who have been called Supreme God.  God and Supreme God are completely different power like fuel and driver. God is the other person who is beyond the  Supreme God. Body and mind are the gifts and creation of the God. However soul is concern with Supreme God.

Body is made up of five physical elements. Supreme God’s fifth son is Kal Niranjan (Brahm) and born by him. He has given power to conduct the creation. For example, the cart is the body, the Niranjan Brahm driver and the fuel is Supreme God. The car  is made of by five elements

The  God Niranjan Brahm, is suffering from the curse of Supreme God. It is a curse that you can never come back to Satylok (the place of Supreme God) and neither  you can come here nor can see in future.  He is suspended from the Satylok due to his behavior. For this reason, it is distressed and unstable.

Niranjan, who created the universe has awarded total fourteen things I.e five element, four sences of carnation and five  gondrines from Supreme God by his hard penance . He is the king of the universe. The soul has adopted this ignorance and has come into its universes because of its attraction.

It is not that the soul does not have the knowledge of  Supreme God, the soul has come in the universe  from its own will. It is the ignorance of the soul that when comes to Niranjan, it will get liberation through good and bad deeds. It is ignorance that he will get Paradise by living the basis of good deeds, and after getting Paradise, salvation will be attained.

The soul has forgotten that after spending some time in heaven and Hell, it is necessary to come again in the bonds of birth and death. A paradise has been built to enjoy good deeds. Hell has been made to suffer bad deeds. After enjoying the fruits, there is a rule of return to the world again.

This ignorance is such that a monkey has grabbed the chains kept inside the pot with his fists and wants to eat chan, but his hand is unable to get out of the pit because of a fist. Because of this, neither he is eating nor went away.

The point here to note is that no one has caught the monkey, he is bound by his own power. Monkey captors captures monkey with this method. The monkey catcher captures the monkey and teaches everything, but does not teach to open the chain of his throat and dances him to his mind throughout his life.

Similarly, the Kal Niranjan also does what the he wants, but does not tell the path of freedom. Life keeps on jumping throughout life. If the monkey catcher will learn to open the chandelier, then the monkey will open his chains and run away, he will free himself.

Similarly the Kal Niranjan also does not let the soul go to Satyalok. He interrupts the path to go Satylok. He does not let the focus of the meditation ever concentrate. Because this meditation of the soul is the consciousness.  In order to concentrate this meditation, our Sage, Sint Monk went to the forests and eat grass leaves to alive and for many years practiced penance and swallowed their bodies, but the mind did not allow their meditation to be concentrated.

That is why all the scriptures are asking for meditation, meditation, meditation. Without concentrating meditation, attaining God is not possible. It is possible to understand the mind by concentrating on meditation. And he wants that no one can know and neither can understand him.

On the day when the meditation becomes aware of this difference, his soul will become conscious, he will wake up and he will begin to see the difference between knowledge and ignorance.  He will know the difference between the Supreme God and God. Every creature expects to get Supreme God out of the bondage of anecdote.

There will be no importance in making hell and heaven. Everyone will give preference to salvation, because no one wants to be in bondage. Bondage is painful. When the creature was born then it was tied to his death, when he grew up, he was tied to the mother, father, society, friends, relatives, property. Who will have to leave it at the time. Therefore, no one is bound to cause suffering.

When the soul is in ignorance, then due to these obstacles, the suffering suffers. Whereas the soul is independent. No one can bind him. It is omnipotent. All the power of the mind is from the soul. As the vehicle is new or old, the driver is accomplished or the novice, the road is flat or rugged, but without fuel,it can not run.

Thus the mind can not do anything without the power of the soul. Only by being spiritually can you find the ability to see the activities of the mind and understand the difference between truth and untruth, unity and ignorance. The same is said element knowledge.

It is important to have elemental knowledge to find the divine soul. This is exactly like a deer wanders in the desert and reaches the desert and finds water if it is thirsty, then he does not get any water. The desert sand shines from the distance and looks like there is water. Being unknowable, the thirsty deer runs faster to drink water in the desert and runs faster and dies while running, but the water does not get anywhere.

Therefore, to attain element of knowledge, it is necessary to attain an element of vision. The Guru is very well received, but meeting Satguru (True Master) is not easy.

What is Relegion, Anyway?


हिंदी अनुवाद—

आत्मा ने जब प्राणों को धारण किया तब वह जीव बना। जीव के जब प्राण निकल जाते हैं तो वह आत्मा बन जाता है। प्राण मतलब प्राणवायु। यह प्राणवायु भी पंच भौतिक तत्वों में से एक तत्व है। कुल मिलाकर इस संसार में पाँच तत्व मौजूद हैं। जिनके नाम पृथ्वी, जल, वायु, अग्नि ओर आकास हैं।तत्व ही तत्व का विनाश करते हैं।इसलिए इस संसार को नाशवान कहा गया है।

अगर आप गौर करेंगे तो पाएंगे कि पृथ्वी को जल अपने में घोल लेता है। जल को अग्नि सुखा देती है। अग्नि को वायु बुझा देती है।वायु को आकास विलोम कर देता है। चूंकि आकास भी एक तत्व है इसलिये समय आने पर इसका भी अस्तित्व समाप्त हो जाता है।

पंच भौतिक तत्त्वों से भौतिक और स्थूल चीजों का निर्माण हुआ है।  भौतिक चीज़ें का विनाश होता है इसलिये शास्त्रों में इनको नस्वर कहा गया है। इनको एक न एक दिन समाप्त होना ही है। जो समाप्त हो जाता है उसको असत्य कहा गया है क्योंकि सत्य कभी भी समाप्त नहीं होता। आत्मा सत्य है जबकि पंच भौतिक तत्वों से बना शरीर असत्य है। शरीर और प्राण समाप्त हो सकते हैं पर आत्मा कभी समाप्त नहीं होती। आत्मा ही प्राणों को धारण करती है और फिर जीव के शरीर में पहुंचती है।

आत्मा को प्राण धारण करने की आवश्यकता नहीं थी क्योंकि प्राण का आधार शरीर से जुड़ा हुआ है। जब आत्मा इस अज्ञान से भरी हुई होती है और उसको सत्यलोक के सतपुरुष का ज्ञान नहीं होता तो वह काल निरंजन के लोक से बाहर नहीं निकल पाती और प्राणों को धारण करते हुए जन्म और मृत्यु के बंधनों में बंधी रहती है। उसको मोक्ष नहीं मिलता। मोक्ष वह स्तिथि है जब आत्मा का जन्म मरण से बन्धन छूट जाता है। इस दुर्लभ ज्ञान और रहस्य को सतगुरु कबीर साहिब और किसी के द्वारा उजागर नहीं किया गया है। उनके द्वारा मोक्ष को प्राप्त करने के कुछ नियम बताये गये हैं।

आत्मा को प्राणों को धारण करने की कोई आवश्यकता नहीं थी। आत्मा अज़रा है। आत्मा अमर है। आत्मा अविनाशी है यानि जिसकी न कभी मृत्यु होती है और न ही विनाश होता है। यह हमेशा बनी रहती है। इसका वजूद कभी खत्म नहीं होता, यह स्थिर है। आत्मा सतपुरुष का अंश है। जिनको परमेश्वर कहा गया है। परमेश्वर यानि कि ईस्वर से परे एक और ईस्वर। शरीर और मन ईस्वर की देन है। शरीर पंच भौतिक तत्वों से निर्मित है। मन, परमेश्वर के पांचवे पुत्र काल निरंजन है। जो सृष्टि का संचालन करते हैं। उदाहरण के तौर पर गाड़ी शरीर है, मन ड्राइवर है और ईंधन परमेश्वर है। गाड़ी ओर ड्राइवर दोनों काल निरंजन यानी मन है। मन, परमेश्वर के श्राप से ग्रसित है। जिसका वर्णन सृष्टि रचना में है।

मन शापित है उसे आज्ञा है कि न तो सत्यलोक आ सकते हो और न ही दर्शन कर सकते हो। इस कारण यह व्यथित है और अस्थिर है और इसका वज़ूद भी है। परमेश्वर से सृष्टि बनाने का साजो सामान लेकर ब्रह्मांड बनाने वाले काल निरंजन का यहां वर्चस्व है। यह ब्रह्मांड का राजा है। आत्मा ने अज्ञान वश इसको धारण किया है और इनके ब्रह्मांडों में आ गयी है। ऐसा नहीं है कि आत्मा को परमेश्वर का ज्ञान नहीं है, आत्मा अपनी मर्ज़ी से काल के ब्रह्मांडो में आयी है। आत्मा को यह अज्ञान है कि काल निरंजन के ब्रह्मांडों आकर उसे अच्छे और बुरे कर्मों के माध्यम से मोक्ष मिल जाएगा। उसको यह अज्ञान है कि सुभ कर्मो के आधार जीवन बिताकर उसको स्वर्ग मिल जायेगा और स्वर्ग पाकर उसको मोक्ष  की प्राप्ति हो जायेगी।

आत्मा यह भूल गयी है कि स्वर्ग और नर्क में कुछ समय बिताकर फिर से जन्म मृत्यु के बंधनों में आना अनिवार्य है।  सुभ कर्मो को भोगने के लिए स्वर्ग बनाया गया है। बुरे कर्मो को भोगने के लिए नर्क बनाये  गये हैं। फल भोगने के बाद पुनः संसार में वापसी का नियम है।

यह अज्ञान ऐसा है जैसे किसी बन्दर ने घड़े के अंदर रखे चनों को अपनी मुट्ठी से कसकर पकड़ लिया है और वह चनों को खाना चाहता है ,परन्तु उसका हाथ मुट्ठी बंधे होने के कारण घड़े से बाहर नहीं निकल पा रहा है। इस कारण न तो वह चने खा पा रहा है और न ही कहीं भाग पा रहा है। यहां गौर करने की बात यह है कि बन्दर को किसी ने नहीं पकड़ा है वह अपनी ही शक्ति से अपने को जकड़ा हुआ है। बन्दर पकड़ने वाले इसी विधि से बंदरों को पकड़ते है। बन्दर पकड़ने वाला बन्दर को पकड़कर सब कुछ सिखाता है पर अपने गले की जंजीर खोलना नहीं सिखाता है और उसको जीवन भर अपनी मन मर्ज़ी से नचाता है। इसी प्रकार मन  भी जीव से जो चाहता है वह करवाता है पर मुक्ति का मार्ग नहीं बताता। जिंदगी भर जीव को नचाते रहता है। यदि बन्दर पकड़ने वाला, बन्दर को जंजीर खोलना सीखा देगा तो बन्दर अपनी जंजीर खोलकर भाग जाएगा, अपने को मुक्त कर लेगा।

इसी प्रकार मन भी आत्मा को सत्यलोक नहीं जाने देता। वह सत्यलोक को जाने वाले रास्ते में व्यवधान उतपन्न करता है। वह जीव के ध्यान को कभी भी एकाग्र नहीं होने देता। क्योंकि जीव का ये ध्यान ही आत्मा है। इस ध्यान को एकाग्र करने के लिए हमारे ऋषि मुनियों ने जंगलों में जाकर घास फूल पत्ती खाकर अनेकों वर्षो तक तपस्या की और अपने शरीर को गला लिया, परन्तु मन ने उनके ध्यान को एकाग्र नहीं होने दिया।

यही कारण है कि सभी शास्त्र ध्यान, ध्यान, ध्यान लगाने को कह रहे हैं। बगैर ध्यान को केंद्रित करे परमेश्वर प्राप्ति संभव नहीं है।ध्यान को एकाग्र करके ही मन को समझा जाना संभव है। और मन चाहता है कि उसको न कोई जान पाये और न समझ पाये। जिस दिन जीव को यह अंतर समझ आ गया तो उसकी आत्मा चेतन हो जाएगी, जग जाएगी ओर उसको ज्ञान और अज्ञान का अंतर दिखाई देने लगेगा। उसे ईस्वर और परमेश्वर के बीच का अंतर पता चल जाएगा। हर जीव ईस्वर के बंधनों से छूटकर परमेश्वर को पाने की सोचेगा।  स्वर्ग नर्क बनाने का कोई महत्व नहीं रह जाएगा। हर कोई  मोक्ष को वरीयता देगा, क्योंकि बन्धनों में कोई नहीं रहना चाहता। बन्धन दुखदाई होता है। जब जीव पैदा हुआ तो उसका मृत्यु से बन्धन हो गया, जब वह बड़ा हुआ तो माँ, बाप, समाज, मित्र, सम्बन्धियों , संपत्ति से बन्धन हो गया। जो उसे समय आने पर छोड़ना होगा। इसलिए बन्धन कोई भी हो दुख का कारण बनता है। जब आत्मा अज्ञान में होती है तो इन बन्धनों के कारण दुख भोगती है।

आत्मा स्वत्रंत है परमपिता का अंश है। उसको कोई बांध नहीं सकता। वह सर्वशक्तिमान है। मन की सारी शक्ति आत्मा से है। जैसे गाड़ी नई हो या पुरानी, ड्राइवर निपुण हो या नॉसिखिया, रोड समतल हो या ऊबड़खाबड़, बगैर ईंधन के चल नहीं सकती।  इस प्रकार मन भी बिना आत्मा की शक्ति के कुछ नहीं कर सकता। आत्मनिष्ठ होकर ही आप मन के क्रियाकलापों को देखने की क्षमता पा सकते है और सत्य और असत्य, ज्ञान और अज्ञान के भेद को समझ सकते है। यही तत्व ज्ञान है।

परमात्मा रूपी आत्मा को खोजने के लिए तत्व ज्ञान का होना जरूरी है। यह ठीक इसी तरह है जैसे कोई हिरण जंगलों से भटककर रेगिस्तान में पहुंच जाता है और प्यास लगने पर पानी ढूंढता है तो उसको कहीं पानी नहीं मिलता। दूर से देखने पर रेगिस्तान की रेत चमकती है और ऐसा लगता है जैसे वहाँ पानी हो। अनजान होने के कारण प्यासा हिरण रेगिस्तान में पानी पीने के लिए और तेज़ दौड़ता है और दौड़ते दौड़ते मर जाता है पर उसको पानी कहीं नहीं मिलता। इसलिये तत्व ज्ञान को पाने के लिए  तत्व दर्शी को पाना आवश्यक है। गुरु बहुत मिल जाते हैं पर सतगुरु का मिलना आसान नहीं। 

1 Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *