Formation Of Creation

Spread the love

Satguru Kabir Sahib had given elemental knowledge to his devotee Dharma Das on his asking, in which the knowledge of the source of the wealth of this soul was hidden by the ultimate man, who is the master of all so that there is no difficulty in reaching the soul to the divine.

People can go and get completely liberated from the bonds of death, and salvation can be achieved and the purpose of being born of human beings can be fulfilled.

Giving knowledge of the elements Kabir said I am telling you the time when there was nothing before the universe, not even the dark, But the supreme man called a word when he was a secret.

This word was not a word as it is of Hindi, Sanskrit or other language.  This sounds and words are made for human beings. The infinite light has been made by calling the words of the supreme man. The quantity of the light can not be described. The lightning was more than the light of the sun.

The light became active like our soul as a death body become active and alive. The same way, when the ultimate man  absorbed in the light, the light became active. It was the instant light.

Only man has given that light Pulled up as we toss the water from both hands and it again falls in water, so many drops are formed, then it falls into the same water and becomes the form of it.

Even the man has infused that light into infinite droplets. This is the drops of souls. That is why these spirits ,the man did not have made it, that is his life. That light should be the last man’s wish. If the drops fall in the water, it will become a form of water.  But If the water drop remains in its existence continues, then how will it be? The blob will be visible in it in. Such an infinite number of souls have occurred.

By seeing this, the ultimate man become very much praised. The Vedas have also been written, God is one and he has created all. Most of them have appeared.

Now the ultimate man called the second word. This word was not a sentence or a word. Last Guru Nanak also highlighted this and said that the word is the base of creation, the sky is a word, word become light. Gross creation is the word behind the word,

Satguru Nanak also said that these words are not any tunes. In this way, very rare persons are the knower of that, He is aware of these things. The people commented on the remarks made by the people in their own estimations.

Today, in the era of the era,  professor ,lecturer and a writer are existing more but it’s not necessary to be a philosopher also. This task can only tell by the person who has knowledge of the element.

Kabir said that on this that how the mind can be the same. I say the eyewitness and you say text on book are true.?   Kabir said that my mind is not same as my soul. I am telling what the eyes have seen and you are speaking the papers wrote.

When the ultimate man spome third word, the knowledge  born. The knowledge that comes to us are also waves, The same comes to us in mind are the signal of a word.

When the ultimate man spoke the fourth word, then a light drops in his hands, he saw his image on it and the illusion arose that I am the person on it or not?

Now he spoke the fifth word because of this suspicion. It has originated from the same word. Thus the cause of the mind Jyoti Niranjan born.

He has been caused by doubt.

Jyoti Niranjan the fifth son of supreme God , later called (Kall Brahma, Ishwar, God) is said to be in the mind, in fact, it is not God totally. The only God is “Supreme God” called “Satpurush”, the absolute man. Those souls who were born from light are their son’s. Niranjan born by doubt, he can’t be said, real son.  As it is your child Which we create ourselves and one is a child who is adopted.

By the first man, sixteen sons were born by sixteen words. The light of a soul was equal to sixteen suns. As we kindle a fire, then the spark arises but this spark is the same as the fire, but there is a difference in the quantity of fire and spark; Similarly, the contains of a drop of water and the sea water is the same, but in the sea, we are submerged and we don’t in a drop of water.

So much time has passed, then Niranjan started meditating on the ultimate supreme man. Meditation was done for seventy years, then the ultimate man asked him what do you want?

Niranjan said that I want a place where I am dominated. The ultimate man provided Niranjan to Mansarovar Island. Niranjan was very pleased with the island. Niranjan, in Mansarovar Island, again practiced penance for seventy years.

The man said, What do you want now? Niranjan said that either give me your satylok, so I may be a king here or give me another universe, where only I am dominated, my rule there.

The ultimate men were pleased with the penance of Niranjan, say, ‘I am giving you seventeen quartet secrets of countless eras. You create three universes.’ ‘How can I make three universes?’ he asked I do not know the resources. Ultimate man said him to go to son Kurm.

The Kurm has all the things to create the universe. The sky element  also available with him. Kurm  was worth 98 crore times larger than this universe.

Niranjan was ego due to the penance. Niranjan went to Kurm after receiving the command of the supreme man. Without bowing down to the jurisdiction, he took three parts forcibly and took away the material to make the sage.

After the first time, the air came out from zero, Fire originated by air, water came out from fire and after long long time, the water became land.

This earth has lived for millions of years empty without any lives. Thus Niranjan composed the universe. It became a world But there was not even a single soul.

Kurm went to ultimate man and told the absolute. He asked him, whom you had sent, took the property to force me to become a universe, and even he did not make any request?  The person said that if Niranjan has done any mistaken, then just Forgive it. You are elder, pardon the little ones. Kurm forgave Niranjan.

The universe become ready but there were no souls in it. Niranjan thought then how and whom I will applied my rule? Niranjan prayed for a third time 64 years by standing one leg.

The ultimate man said, now what do you want? Niranjan said, give me the soul. He refused to give their soul directly to him but he created the baby child named “Durga”  and all the souls entered into them.

Mother Durga asked the Supreme Man, ‘What is your command? The ultimate man said that both you and Niranjan should create lives, but the creation should be realistic.  Take care, any soul should not be suffer. He said again to take care of soul.

When Durga  (Adishakti Jagdamba) following the orders of the Supreme Man, came to Niranjan, then Niranjan Said that give us whole soul you have given.

Durga said that I can not give it to you, the ultimate man does not have this command. His order is for the true and realistic creation.  Listning it, Niranjan took hold of Adashakti and swallowed it. From that time Niranjan’s name changed to “Kaal Niranjan Brahm”.

Jagdamba called the supreme man and said that Niranjan has swallowed  him. After listening to the call,  the ultimate man forced to take decision about Niranjan’s existence.

When he come to know that Niranjan has done forceps penance first, again he forced Kurma to take the goods of creation  and now he swallowed Durga,But the ultimate man remembered that I have given a promise to Niranjan and I have given the rule of innumerable ages to 17 thousand million so that it will not finish him, otherwise my word will become false.

The ultimate man cursed Niranjan and ordered that  You will generate the one and quarter lacs lives creatures every day and you will be able to feed only one lacs livestock every day and after this time, you will not be able to come back here in my place Satylok again.

Meditation procedure is same as that’s what will you meditate, you will reach there, while that will focus the attention of the soul.

Kabir quotes on it-

“Zaki Surti Lag rah Jahwa, Kah Kabir Pahuchaun Tahwa”

“Whoever wants to go, will get him there”

When Niranjan received this curse of the Supreme Man, then he become greatly distressed and paralyzed. After giving the curse, the supreme man has thrown him with Mansarovar lake in this universe.

At the same time, now he came into the power because by now he was the king of this universe. He said to Durga listen I am a man and you are a woman, so both of us will create gross things instead of realistic things. Durga raise objection and said the ultimate man has only asked to create reality, I can not do it. Niranjan told him that always remember that your supremacy is only by my worship.

Thus Niranjan made Durga’s begins with nails. For the first time, the gross body of  Brahma, Vishnu and Mahesh from the womb of Durga.Kal Niranjan told him that you do not give an introduction to the soul to our sons, otherwise all souls will go to Satylok (Immortal Place) of Param Purush (Supreme God Residence). We have received a curse, so the living beings have to keep this.

When the three sons grew up, the Mothers Aadi Shakti  Durga sent them to the sea churning. First of all, the Vedas were realized from Samundra Manthan (Sea Churn). Brahma Ji heard him with four faces. Vedas and many others texts are of Niranjan . That is why the whole world remained confused in that same way.

This is the reason for keeping the soul in ignorance by the mind. That is because the soul is blissful. The mind has to work through and the soul is cursed. The mind is unstable, it does not sit still. Its happiness is that which is the pleasure of the senses Besides, there is no joy of it. Therefore, the mind is troubling. This is the reason for being tight. Thus the mind has settled in a subtle way.

Niranjan decided to live in the darkness.  The wrongdoer likes the darkness. The wrongdoer wants to be recognized  and also he wants that he should not be caught. Therefore the mind and his capital are inside Sushumna. It is the element. Sitting on the mind does his work, leaving the message to the head and keeping the soul confused.

Satguru Kabir Sahib said on this If the mind had not kept this soul confused, then this soul never holds on this crappy body. It was a body full of dirt, so it was said that this body has nine holes in it and there is no such thing that the dirt is not coming out. Because it is a dirty body, then the dirt is coming out from the holes.   How can it be said that the filth is filled with dirt? The soul never holds the body, it will never win it by considering it as a body.

The soul is blissful, whereas the body is painful. The belief of the world is that the soul does not die It is happiness. So much so that we all know, we are still living in our physical life. Therefore, sitting inside the Sushumna, the mind keeps this soul confused that your true happiness is this body I have it.

The question arises that the soul body is where I am. There is also a role of the soul or the senses are doing their own work in the past. The intellect, the intellect, the ego, the anger, anger, greed, are they doing their whole work? What is the role of our soul?

What is Soul, Anyway?


हिन्दी अनुवाद—

सृष्टि रचना

सदगुरु कवीर साहिब ने अपने भक्त धर्मदास को उनके पूछने पर तत्व ज्ञान दिया था जिसमे परम पुरुष् जो सबका मालिक एक है द्वारा इस सृस्टि की उतपत्ती का ज्ञान छिपा था ताकी आत्मा को परमात्मा तक पहुचने मे कोई कठिनाइ न हो।आत्मा पूर्ण विस्वास से अपने निज लोक को जा सके और जन्म मृत्यु  के बंधनो से पूर्णतया मुक्त होकर मोक्ष को प्राप्त हो सके तथा मनुष्य योनि मैं जन्म लेने का उद्देश्य पूरा हो सके।

धरमदास को तत्व ज्ञान की शिक्षा व् तत्व ज्ञान देते हुए सदगुरू कवीर साहिब ने बताया कि मै तब की बात कह रहा हूँ जब धरती पाताल और आकाश नहीं था। कूर्म बराह और शेष् आदि भी नहीं थे।जब शारद गौरी गणेस भी नहीँ थे।तब ब्रह्मा विष्णु और शंकर जी भी नहीं थे।तब न कोई शास्त्र था न पुराण थे और न ही वेद थे।तब सब लोग व् सभी आत्मायें परम पुरूष मै ही निहित थे।उन्हीं मै समाये थे।तब केवल वे थे और कोई नहीँ था।

प्रथम पुरुष ने एक शब्द पुकारा जब वह गुप्त थे। यह शब्द कोई ऐसा शब्द नहीं था जैसा हिंदी, अंगरेजी या संस्कृत का होता है । यह भाषायें और शब्द तो इंसान ने अपनी सुविधा के लिए बनाई हुई हैं।

परम पुरुष के शब्द पुकारने से अनंत प्रकाश हुआ इतना प्रकाश हुआ की जिसका वर्णन नहीं किया जा सकता ।करोडो सूर्यों के प्रकासों से भी ज्यादा उस प्रकाश को बताया।वह परम पुरुष उस प्रकाश मै समा गया।प्रकाश क्रियाशील हो गया जैसे हमारी आत्मा जब शरीर मे समाई तो शरीर क्रियाशील होता है इसी प्रकार जब परम पुरुष ऊस प्रकाश मे समाये तो प्रकाश क्रियाशील हो गया।अनंत प्रकाश था।परम पुरुष ने उस प्रकाश को ऐसे उछाला जैसे हम पानी को दोनो हाथों मै भरकर उछालते है तो बहुत सारी बूंदे बन जाती हैँ फिर वही पानी मे गिरकर उसी का रूप हो जातीहै।

परम् पुरुष ने भी उस प्रकाश को उछाला अनंत बूंदें हुई।यही बूँदे आत्माएँ हैँ।इसलिये ये आत्माएँ परम् पुरुष ने बनायी नही थीं यह तो हें ही उनका तदरूप। उछाले प्रकाश ने इच्छा की  कि हे परम पुरुष हमारा वजूद रह जाये। यह इस प्रकार था जैसे यदि पानी मे बूँद गिरे तो वह पानी का ही रूप हो जाती है पर यदि बूँद गिरे ओर उसका वजूद बना रहे। वह बूँद उसका तदरूप होते हुए भी उसमें अलग से दिखाई देती है।इसी प्रकार अनंत आत्माएं हुई।इसको देखकर परम पुरुष को अत्यंत प्रशन्नता हुई।

वेदों मै भी लिखा है “एकोहम् बहुश्या प्रगटे ” अब परम पुरुष ने दूसरा शब्द पुकारा।सदगुरु नानक जी ने भी इस पर प्रकाश डाला और कहा

“शब्द है धरती शब्द आकाश शब्द है शब्द भया प्रकाश।

सकल सृष्टी है शब्द के पाछे,नानक शब्द है घटा घटाछे”

सदगुरु नानक जी ने भी कहा कि ये शब्द कोई धुनें नहीं हें। इस प्रकार उस परम पुरुष की अदभुद काया है।जो वहाँ के ज्ञाता है वह इन चीजो को समझ रहे हैं ।कागजों मै टीका टिप्पणी लोगों  ने अपने हिसाब से की है।आज के युग मे टीका करने वाले प्रोफेसर लेक्चरर तथा साहित्यकार हैँ परंतु तत्ववेत्ता नहीं। यह बातें तो वही बता सकता है जो तत्व का ज्ञान हो।

सदगुरु कवीर ने इस पर कहा कि

“तेरा मेरा मनवा कसिक इक होई,

मैँ कहता आँखन देखी ,तू कहता कागद की लेखी”

सदगुरु कवीर ने कहा कि तेरा मेरा मन एक जैसा नहीं हो सकता।मैं आँखों देखा कह रहा हूँ और तुम कागज़ों मै लिखे को बोल रहे हो।

तीसरा शब्द जब परम पुरुष ने पुकारा तो ज्ञान उत्पन्न हुआ।जो ज्ञान हमको आता है वह भी तरंगे हैं जो हमारे मे आती है  चोथा शब्द जब परम पुरुष ने पुकारा तो अपने हाथों से उछाली बूँदों मै उन्होंने अपनी छवी देखी और भ्रम उत्पन्न हो गया की मै ये हूँ कि वो हूँ इसी संशय के कारण पांचवा शब्द पुकारा इसी शब्द से मन की उतपत्ति हुई।इस प्रकार मन की उतपत्ति संशय क़े कारण हुई है।

मन को ज्योती निरंजन ( काल, ब्रह्म ,ईस्वर ) कहा गया है  यही सृष्टि के संचालक हैं। जैसे वाहन निर्माता ओर वाहन चालक। आत्मायें वाहन का ईंधन।

पुरुष के प्रकाश को उछालने से जो आत्माएँ उतपन्न हुई वो उनका शब्द पुत्र नहीँ हैं।जैसे अपना बच्चा होता है जिसे हम स्वयं पैदा करते हैं और एक वह बच्चा होता है जिसे गोद लिया जाता है।परम पुरुष के द्वारा सोलह शब्द पुत्र उत्पन्न हुए । जिनके नाम हैै कूर्म,,ज्ञानी,विवेक,तेज़,सहज,संतोष,सुरति,आनन्द, क्षमा,निष्काम,जलरंगी,अचीन्तय,प्रेम,दयाल,धैर्य और योगजीत।

एक आत्मा का प्रकाश सोलह सूर्यों के बराबर था। जिस प्रकार हम आग जलाते है तो उसमै से चिंगारी उठती है पर यह चिंगारी उस आग का ही तदरूप है, परंतु आग और चिंगारी की मात्रा मै अंतर होता है, इसी प्रकार एक बूंद जल और समुन्द्र का धातु तो एक ही है पर समुन्द्र मै हम डूब जाते है एक बून्द मै  नहीं डूबते।

इस प्रकार बहुत समय गुजरा तब निरंजन ने परम पुरुष का ध्यान करना शुरू किया।सत्तर युगों तक ध्यान किया, तब परम पुरुष ने उनसे कहा कि क्या चाहते हो ? निरंजन ने कहा कि मुझे ऐसा स्थान चाहिए जहाँ मेरा वर्चस्व हो। परम पुरुष ने निरंजन को मानसरोवर द्वीप प्रदान किया।इस द्वीप को पाकर निरंजन बहुत खुस  हुए।

मानसरोवर द्वीप मै निरंजन ने फिर सत्तर युगों तक तपस्या की।परम पुरुष ने कहा कि अब क्या चाहते हो ?  निरंजन ने कहा कि या तो अपना अमरलोक मुझे दो, ताकि यहाँ का मै राजा रहूँ या फिर मुझे एक अलग लोक दे दो,जहाँ केवल मेरा वर्चस्व हो, मेरी हुकूमत हो। परम पुरुष निरंजन की तपस्या से प्रसन्न थे , बोले जाओ मै तुमको सत्तर चौकड़ी असंख्य युगों का राज प्रदान करता हूँ।तुम तीन लोक की रचना करो।

निरंजन ने कहा तीन लोक कैसे बनाऊँ ? मुझे संसाधन पता नहीँ है।परम पुरुष ने कहा कि मेरे पुत्र कुर्म के पास जाओ।कुर्म के पास सृष्टी बनाने का सभी सामान है। आकाश तत्व भी उनके ही पास है। कूर्म जी 98 करोड़ योजन आकार के थे । इस ब्रह्माण्ड से भी विशाल कई गुना बड़े।

निरंजन को तपश्या के कारण अहंकार था । निरंजन परम पुरुष की आज्ञा पाकर कुर्म जी के पास गये।कुर्म जी से दण्ड प्रणाम किये बगैर जबरदस्ती उनके तीन अंश ले लिये और उदर विदार करके सृस्टि बनाने का साजो सामान ले लिया।

प्रथम बार मै शून्य यानी आकाश तत्व से वायू निकली, वायू से अग्नि उत्पन्न हुई, अग्नि से जल निकला और जल से पृथ्वी बनीं।यह पृथ्वी करोडों सालों तक पहले वैसी ही रही।इस प्रकार निरंजन ने ब्रह्माण्डों की रचना की।यह विश्व बन गया लेकिन एक भी आत्मा नहीँ थी।

कुर्म जी ने परम पुरुष से कहा आपने किसको भेजा था उसने जबरदस्ती मेरे से सृस्टि बनाने का साजोसामान ले लिया कोई आग्रह तक नहीं किया।परम पुरुष ने कहा यदि निरंजन से गलती हो गयी है तो तुम बडे हो छोटे को माफ़ कर दो ।कुर्म जी ने निरंजन को माफ़ कर दिया।

निरंजन ने विचार किया कि ब्रह्माण्ड तो तैयार हो गया पर इसमे आत्माये नहीं हैं तो फिर मेरी हुकूमत कैसी।तीसरी बार निरंजन ने फिर परम पुरुष की तपश्या की।यह घोर तपश्या 64 युगों तक की।परम पुरुष ने कहा कि  अब क्या चाहते हो ?

निरंजन ने कहा मुझे आत्माऐं दो।तब परम पुरुष ने आदि शक्ति माँ दुर्गा जगदम्बा को उत्पन्न किया और सारी आत्मायें  उनमें प्रवेश करा दी।माता जगदम्बा ने परम पुरुष से आज्ञा मांगी कि हे परम पुरुष आपकी क्या आज्ञा है ? परम पुरुष ने कहा कि तुम और निरंजन दोनो मिलकर शून्य मै सृष्टी करना ,परन्तु  सृष्टी यथार्थ होनी चाहिए इसका ख्याल रखना, किसी भी आत्मा को कष्ट नहीं होना चाहिए इसका ध्यान रखना ।

जब आदिशक्ति परम पुरुष की आज्ञा पाकर निरंजन के पास पहुँची तो निरंजन ने कहा की ये आत्माऐं हमें दो।आदिशक्ति ने कहा कि नहीं  ये आत्मायें में आपको नहीं दे सकती, परम पुरुष की यह आज्ञा नहीं है।उनकी आज्ञा है कि सच्ची सृष्टी करनी है।ऐसा सुनकर निरंजन ने आदिशक्ति को पकड़कर निगल लिया।तभी से निरंजन का नाम कालनिरंजन पड़ा। ब्रह्मदेव को कालनिरंजन ब्रह्म के नाम से भी सम्भोदित किया जाता हैं।

आदि शक्ति ने परम पुरुष को पुकारा और कहा कि निरंजन ने मुझको निगल लिया है तो आदिशक्ति की पुकार सुनकर परम पुरुष ने विचार किया कि इस निरंजन को समाप्त कर देते है पहले तो इसने जबरदस्ती कर कुर्म जी से सृष्टि का सामान ले लिया और अब आदि शक्ति को निगल लिया,  परंतु परम पुरुष को याद आया कि मैंने निरंजन को वचन दिया है  ओर मैंने 17 चोकड़ी असंख्य युगों का राज इसको दिया है इसलिए इसको समाप्त नहीं करेंगें, नहीं तो मेरा वचन झूठा हो जायेगा।

परम पुरुष ने काल निरंजन को श्राप दे दिया कि सवा लाख जीव तुम प्रतिदिन उत्पन्न करोगे और एक लाख जीवों का तुम प्रतिदिन आहार कर पाओगे और पुनः तुम अमरलोक नहीं आ पाओगे।यानी कि मेरा दर्शन अब तुमको प्राप्त नहीं होगा।ध्यान करने से भी नहीं।

ध्यान पद्धती ही यही है जो जिसका ध्यान करेगा वह वहीँ पहुँच जायेगा क्योंकि ध्यान ही तो आत्मा है।सदगुरु कवीर साहिब ने इस पर कहा कि

जाकी सुरति लाग रह जहवां,कह कवीर पहुचाऊं तहवाँ।

जब निरंजन को परम पुरुष का यह श्राप मिला तो निरंजन बहुत व्यथित और परेसान हुए। परम पुरुष ने श्राप देने के साथ ही  साथ निरंजन को मानसरोवर से इस ब्रह्माण्ड मै फेक दिया यानी पारगती दे दी।

ब्रह्माण्ड मै निरंजन के आते ही आदि शक्ति निकलीं और कहा कि ये मै कहाँ आ गयीं। कालनिरंजन ने कहा कि सुनो हम पुरुष है और तुम हो नारी , इसलिये हम दोनों मिलकर यथार्थ के बजाय  स्थूल सृष्टी करेंगे।आदि शक्ति बोलीं कि नहीं परम पुरुष ने केवल यथार्थ सृष्टि करने को कहा है मै ऐसा नहीँ कर सकती। निरंजन ने आदि शक्ति से कहा कि देखो तुम्हारा वर्चस्व ही मेरी उपासना से है।इस प्रकार निरंजन ने नाख़ून से भगद्वार बनाया।

प्रथम बार स्थूल सृष्टि मैं आदिशक्ति से ब्रह्मा विष्णु और महेश जी को उत्पन्न किया और आदि शक्ति दुर्गा से कहा कि तुम हमारे पुत्रों को आत्मा का कोई परिचय मत देना नहीं तो सभी आत्मयें परमपुरुष के  अमरलोक को चले जायेँगी। हमें श्राप मिला है इसलिये जीवों को यहीँ रखना है।

चार वेद भी निरंजन के माध्यम से उत्पन्न हुए है।जब तीनो पुत्र बड़े हुए तो माता आदि शक्ति ने उनको समुन्द्र मंथन के लिए भेजा।समुन्द्र मंथन से सबसे पहले वेदों की उतपति हुई।ब्रह्मा जी ने चारों मुखों से उनको सुना।वेद और कितेक दोनों निरंजन के ही हैं।इसलिये पूरा संसार उसी मै भ्रमित रह गया। मन द्बारा आत्मा को अज्ञान मै रखने का यही कारण है।वह इसलिये कि आत्मा आनंदमयी है।आत्मा के माध्यम से मन को कार्य करना है और मन श्रापित है मन अस्थिर है यह स्थिर नहीं बैठता।इसका आनंद यही है जो इन्द्रियों का आनंद है शरीर का आनंद है इसके अलावा इसका कोई आनन्द नहीं है।इसलिये मन तंग कर रहा है।यह वजह है तंग होने की।

इस प्रकार मन ने सूक्ष्म मै निवास कर लिया।सूक्ष्म मै मन ने इसलिये वास किया क्योंकि वहां अंधकार है।गलत कार्य करने वाला अंधकार को पसंद करता है ।अंधकार उसका पोषक है।गलत कार्य करने वाला चाहता है उसको पहचाना न जाये और दूसरा वह चाहता है कि उसको पकड़ा भी न जाये।इसलिये मन और उसकी राजधानी सुषुम्ना के अंदर है।वहाँ पर आकाश तत्व है।वहीँ पर बैठकर मन अपना काम करता है वहीँ से मस्तिक्ष को सन्देश छोड़ता है और आत्मा को भ्रमित करके रखता है।

सतगुरु कवीर साहिब ने इस पर कहा

मन ही स्वरूपी देव निरंजन तोही राग भरमाई,

हे हंसा तू अमरलोक का पड़ा काल परछायी।

यदि मन ने इस आत्मा को भ्रमित करके नहीँ रखा होता तो ये आत्मा कभी भी इस गंदे शरीर को धारण नहीं करती।इसको गंदगी से भरा शरीर इसलिये कहा गया कि इसमैं कुल मिलाकर नों छिद्र हैँ और कोई ऐसा नहीं है जिससे गंदगी ना निकल रही हो।गंदगी शरीर मै है तभी तो बाहर निकल रही है।जिस आवरण के भीतर गंदगी भरी हो उसको स्वच्छ कैसे कहा जा सकता है।आत्मा इस शरीर को कभी धारण नहीं करतीं यह अपने आप को शरीर मानकर कभी नही जीती।आत्मा आनंदमयी है जबकी शरीर कष्टकारी है।

दुनिया की मान्यता भी यही है कि आत्मा निर्लेप है आनंदमयी है।इतना तो हम सब जानते हैं फिर भी हम सब शारिरिक जीवन जी रहे है।इसलिये सुषुम्ना के अंदर बैठकर मन इस आत्मा को भ्रमित करके रखता है कि तेरा असली आनंद इस शरीर मैं है।

सवाल यह उठता है कि आत्मा शरीर मैं कहाँ है।आत्मा का भी कोई रोल है या इंद्रियाँ वगेरह ही अपना पूरा काम कर रहीँ हैं।मन बुद्धि चित्त अहंकार काम क्रोध लोभ मोह ही अपना पूरा काम कर रहे है ?

शेष अगले ब्लॉग में ……

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *