Kabir view on Soul

Spread the love

KABIR’S VIEW

All of us know the value of money because we get very trouble without money, so we consider its importance very well, working strive  day night to earn it, but we do not know the importance of self-realization that this unique happiness is unlimited, it never decreases, like money decreases, it is unique one.

We do come home so that the ultimate reality is closer to blockages we discovered we lack? First of all, see what human being is doing for doing enlightenment and salvation, and is it appropriate?

Whatever efforts the person is doing, he is treating him as right. If someone  is doing yoga, he is saying that it is the best.  who is doing the pilgrimage. He is saying that this is the best, one who is fulfilling the praying, he is saying that the best instrument. Sant yogi is saying that this is the most appropriate means that whatever point is on it, it is always considered to be eternal, should we let the means of achieving the permutations go like this?

We have to think that what is the proper way to make it easier to reach the soul and the divine. Should we remain on such beliefs?

Man has created many Gods for his own interests and selfishness and in future he will be able to make much more divine person even further. The creation of these innovative new beings is the creation of the interests and interests of the human beings.

We must honestly think that what is the most suitable means of achieving God and what is the final path, because the one whom the person caught the way here has always believed him.

Some people are also saying that there is nothing ,just enjoy the thing which are made available to you in this universe.  It is difficult to ascertain here that what is the most suitable means of obtaining?,it is that people are doing many actions and deeds, this is the birth of various and aspirants.

Whenever the patient goes to the doctor, first of all, the doctor decides to know what the disease is ? The second tries to know what the cause of the disease is?,The third attempt is to remove the disease. And after all, he tell the remedy for not having a disease again.

As long as the disease is not detected, how will the disease fully cure from the beginning ? Similarly, if our soul is in bondage, it is important to  know first that what is the bondage, is the factor of how it will be lost and what is the solution?,

One thing that is a thing of the past is that the essence of religion is also the same, Is God inside you, then what is the distraction of the outside?

Kabir Sahib said in the light of the common man that the musk-shaped horoscope settled and found the deer. The soul is a pure consciousness. The soul is auspicious. The soul is meditation. In the books we get its proof.

There was a king named Janak, he asked to the people of his state, that in a moment can anyone of you can give me  the knowledge of soul?  He announced that he will give him his all assets and ornaments.

Ashtavakra  said, I will give an enlightenment in one moment. The story of  Ashtavakra is mentioned in Bhagwat Geeta also. Ashtavakra said that O King Janak if you want to enlighten by me, you would have to take some decision now.

First of all you dedicate your body and wealth to me? The King Janak said that I am agree to give you my body and wealth.  He said yes, yes, its your by now.  Atavakkra said, today your body is mine. Do not think that you have wife, child, brother, sister a relative etc .

You gave me your mind ,now you are mine. Everything from this body is  mine, it is not yours. The King Janak has said okay.

Oh father, your money is also mine, Gold,money, diamond , gems, Army, weapons, castle etc. All this is not yours, King Janak said okay, all this I will give you by Now, I will do it.

Ashtavakra said now you will not think of anything from this mind too because your mind has also been mine. I command you to see inside you, resolve any decision, and do not do any action. See what is left now with you?

The King Janak closed his eyes to see inside deep and said, “Guruji, today you have given me the knowledge of the soul.” I got the knowledge of the soul.

Here a question arises that whether Ashtavakra removed his soul from the King Janak body and showed that the father’s view  that your soul,? If it is fact than would have had three people there?, if it were so.

Therefore, there is no seer of this soul. These senses can not see this soul because the soul is beyond the limits of it. Of the mind that remains after the stop of ego mind, That is the soul.

That is why all Religious books are saying meditating meditation meditation. Speaking to look at meditation. All are saying to meditate because when we are concentrated, this soul has ability to work without the eyes, without nose  and without ears. all the parts of  body can do all these things, If the meditation becomes concentrated , then you will know yourself.

Therefore, if the mind does not concentrate, it wants to keep the meditation confused all the time. In Gita Krishna told Arjuna that Your name  is not the name of this soul, yet he can see it from all directions. Similarly the  Ear of soul can  hear from all directions. Soul does not have the feet, yet he can move from all directions and work again.

The realization of spiritual knowledge, Shri Krishna has given Arjuna to the Gita To attain enlightenment, O Arjuna, you should take control of your mind. It means that whatever is being contemplated inside us, it is not the soul too, the soul is beyond the resolution of the choice.

Whatever we are remembering is that To work is to do that work, it is not a soul too. Whatever physical activity we perform everyday, this is not a soul too. It is a mind. We are all confused with this activity of mind. We have always forgotten something, so there is something to do. Inside Busy body it is an experience rather mind.

Just like an empty pitcher, there is a void inside it when the blossom broke out, where did it go, the naught was where it was. The naught was still because the zeros spread out after breaking the pot, it remained zero.

Similarly the soul is present everywhere. The soul is stable, while the mind is unstable . The spirit is experiencing the body due to its existence.

Therefore, the creature stays in the options for hours and resolutions. This is the game of mind. The mind is not leaving us free even for a moment. Thus the mind keeps this soul confusing at all times. The body mechanism and the things do not allow the soul to go to the original person’s original place.

Now you should notice that when a child is crying, Distributes meditation and he stop crying. Mother gave a toy and removed her attention from the original and made it and done it.

For example, it is not known from anywhere that no one has ever kept her mind confused like this. Goswami ji  said that it is not possible to understand this story as well, This soul is bound. It is false, but it seems to be true even now. The spirit has assumed this body with ignorance, it has kept hold of it, otherwise no one can hold the soul.

Such monkey catch nuts without opening the clay inside the pitcher Similarly, the creature can not free himself without understanding the mind.

When the soul embraces life, then it becomes a creature. When the soul leaves life, then it becomes the soul. If the soul is aware of its original home then it will leave the bonds of death and go to Satylok, but if you do not know the house then you will wander.

——————————————————————————————————————————–‘

हिंदी अनुवाद—-

हम सब लोग पैसे का महत्व जानते है कि जीवन के हर छेत्र मै बगैर पैसे के बहुत परेशानिया आती हैं और हमको धन की आवश्यकता पड़ती है इसलिये हम इसकी महत्वताओं को भली प्रकार समझते है तभी तो इसको कमाने पाने के लिए रात दिन भागीरथी प्रयास करते है परंतु आत्मदेव के महत्व को हम भली प्रकार जानते नही है कि यह अनूठा आनंद है यह अविरल है यह कभी घटता नही जैसे धन घटता है यह स्वरूपानंद अनूठा है परंतु जब भी हम उस परमतत्व की ओर बढ़ते है तो कई रुकावटें आ जाती है।क्या हमारी खोज मै कमी है?

सबसे पहले ये देखते है कि मनुष्य आत्मज्ञान और मोक्ष की प्राप्ति के लिए क्या क्या कर्म कर रहा है और क्या वह उपयुक्त है? जो भी जिस प्रयास को कर रहा है वो उसको सही मान रहा है।जो योग कर रहा है वो कह रहा है यही उत्तम है जो तीर्थ कर रहा है वो कह रहा है यही उत्तम है जो डान पूण्य कर रहा है वो कह रहा है यही उत्तम साधन है जो हठ्योग कर रहा है वो कह रहा है यही है सबसे उपयुक्त यानि जो भी जिस बिंदु पर है वह उसी को नित्य मान रहा है  क्या हमको परमतत्व की प्राप्ति के साधनो को एसे ही चलने देना चाहिए?

हमको विचार करना ही होगा कि आखिर उपयुक्त रास्ता क्या है ताकि आत्मा और परमात्मा तक पहुँचना आसान हो जाये।क्या हम ऐसी मान्यताओं पर ही रहें? इन्सान ने अपने हितों और स्वार्थ के लिए बहुत से पर्मात्माओं का सृजन किया है और आप विस्वास करना आगे भी इन्सान बहुत परमात्मा बना देगा।ये नवीन नवीन पर्मात्माओं  का जो सृजन किया जा रहा है इससे इन्सान के हितों और स्वार्थों की पुर्ति होती है। हमको यह ईमानदारी से विचार करना होगा कि परमात्मा को पाने का सबसे उपयुक्त साधन और आखरी रास्ता क्या है क्योंकि यहाँ जिसने जिसको पकड़ा है वो उसी को नित्य मान बैठा है कुछ लोग तो ये भी कह रहे है कि एक ही बात है। यहाँ पर निश्चय करना मुश्किल हो रहा है कि उसको पाने का सबसे उपयुक्त साधन क्या है।

लोग अनेकानेक क्रियाएँ और कर्म कर रहे है इसी से नाना मत और मतांतरों का जन्म हुआ है।जब भी डॉक्टर के पास मरीज जाता है तो सबसे पहले डॉक्टर यह जानने की कोसिस करता है की रोग क्या है उसको जानने के लिए उसके पास संसाधन है ।दूसरा वह जानने का प्रयास करता है कि रोग का कारण क्या है तीसरा प्रयास वह रोग की निवर्ति का करता है और आखिर मै रोग दुबारा न होने का उपाय बताता है।जब तक रोग का पता नही चलेगा रोग कैसे मिटेगा?

इसी प्रकार यदि हमारी आत्मा बंधन मै है तो सबसे पहले ये जानना जरूरी है कि बंधन क्या है उसका कारक कोन है उसकी निवृति कैसे होगी और उपाय क्या है।लाख बात की एक बात है धर्मसास्त्रों का सार भी यही है वाड़ियों मै भी यही आ रहा है परमात्मा आपके अंदर है तो फिर बाहर का भटकाव कैसा?

कबीर साहिब ने आम आदमी की भाषा मे कहा कि

कस्तूरी कुंडली बसे और मृग ढूंढे बन माय।

ऐसे घट घट साईयां मूरख जानत नाही।

आत्मा एक शुद्ध चेतना है।आत्मा सुरुति है।आत्मा ध्यान है।शास्त्रों मै इसका प्रमाण भी मिलता है।

राजा जनक ने प्रजा से कहा कि कोई एक पल मै आत्मज्ञान दे सकता है।विद्वानों और महान ज्ञानियों ऋशियों महा पुरुषों व् आचार्यों की सभा करायी गयी थी।अष्टावक्र उठे बोले मै एक पल मै आत्मज्ञान दूंगा।

अष्टावक्र का भगवतगीता मै भी उल्लेख है।अष्टावक्र ने कहा कि हे रजा जनक यदि आप मुझसे आत्मज्ञान चाहते हैं तो तन मन और धन मुझे समर्पित करो।राजा जनक ने कहा कि तन मन धन मैंने आपको दिया।

अष्टावक्र बोले  हे जनक आज से तुम्हारा तन मन धन मेरा हुआ।राजा जनक ने कहा हाँ आपका हुआ। अष्टावक्र बोले आज से आपका तन मेरा है तुम मत सोचना कि आपके बीबी बच्चे है भाई है बन्धु है माता है पिता है घर है नातेदार है।तुमने तन मुझे दे दिया तुम मेरे हो।इसमे से कुछ भी तुम्हारा नही है यह तन मेरा है।राजा जनक बोले ठीक है।

हे जनक तुम्हारा धन भी मेरा है रुपया पैसा हीरे जवाहरात सेना फोज़ किले इत्यादि यह सब अब् तुम्हारा नहीँ है जनक बोले ठीक है ये सब मैं आपको समर्पित करता हूँ।अष्टावक्र बोले हे जनक खबरदार अब तुम इस मन से भी कुछ नहीँ सोचोगे क्योंकि तुम्हारा मन भी मेरा हो चुका है।मेँ तुमको आज्ञा देता हूँ कि इस मन से कोई भी संकल्प विचार निर्णय याद और कोई क्रिया भी नहीं करना।खामोश होकर देखो क्या बचा है अब तुम्हारे पास।

राजा जनक ने ऑंखें बंद की और बोले हे गुरुवर आज आपने मुझे आत्मा का ज्ञान करा दिया।मुझे आत्मा का ज्ञान हो गया।

यहाँ पर यह सवाल उठता है कि क्या अष्टावक्र ने राजा जनक को उनकी आत्मा क्या निकालकर दिखायी कि हे जनक देखो ये है तुम्हारी आत्मा अगर ऐसा होता तो तीन लोग होते।एक अष्टावक्र एक जनक और एक जनक की आत्मा।इसलिये इस आत्मा का कोई द्रष्टा नहीं है।ये इन्द्रियाँ इस आत्मा को नही देख सकतीं।क्योंकि आत्मा इनसे सर्वथा परे है।मन बुद्धि चित्त अहंकार के रुकने के बाद जो शेष बचता है वह आत्मा है।

इसलिये सभी धर्मशास्त्र ध्यान ध्यान ध्यान कह रहे है।ध्यान लगाने को बोल रहे है।सभी ध्यान लगाने को इसलिये बोल रहे है क्योंकि जब हम एकाग्र होते है तो इस आत्मा मै बगैर ऑंखों के ही देखने की क्षमता है बगैर नाक कान मुंह शरीर यह इनके सारे काम कर सकती है।यदि ध्यान एकाग्र हो गया तो आप अपने को जान जाएंगे।इसलिये मन एकाग्र नहीँ होने देता वह ध्यान को हर समय भ्रमित करके रखना चाहता है।

गीता मै श्री कृष्ण ने अर्जुन से कहा था कि हे अर्जुन इस आत्मा कि आँखे नहीँ हैं फिर भी ये सभी दिशाओं से देख सकती है,हे अर्जुन इस आत्मा के कान नहीँ हैं फिर भी सभी दिशाओं से सुन सकती है।हे अर्जुन इस आत्मा के हाथ पैर नहीं फिर भी सभी दिशाओं से चल फिर और काम कर सकती है।आत्म ज्ञान का बोध श्री कृष्ण ने गीता मै अर्जुन को दिया था।इसलिये आत्मज्ञान को पाने के लिए हे अर्जुन तुम मन का निग्रह करो।

इसका तात्पर्य यह है कि जो हमारे अंदर चिंतन हो रहा है यह भी आत्मा नहीँ है,आत्मा संकल्प विकल्प से परे है।जो हमें याद आ रहा है  कि यह काम करना है वह काम करना है यह भी आत्मा नहीँ है।जो शारीरिक क्रियाएँ हम रोज करते हैं यह भी आत्मा नही है।यानि यह मन है।

आम आदमी इसी मै उलझा हुआ है।कभी कुछ याद आ रहा है कभी कुछ करना है इसलिये आत्मा व्यस्त हो गयी।आत्मा के शरीर मै होने कि यह मन की एक अनुभूती है।जैसे एक खाली घड़ा है उसके अंदर एक शून्य है जब घड़ा फूट गया तो शून्य कहाँ गया।शून्य तो वहीँ रहा क्योंकि शून्य घड़ा फूटने के बाद फैला थोड़ी वह शून्य वही रहा।

इसी तरह आत्मा सब जगह विद्यमान है।आत्मा स्थिर है जबकि मन अस्थिर है।आत्मा का अनुभव शरीर होने के कारण हो रहा है।इसलिये जीव चोबीशों घंटे संकल्प अओर विकल्प मै घूमता रहता है।यह मन का खेल है।मन एक पल के लिये भी जीव को फ्री नहीं छोड़ रहा है।इस प्रकार यह मन इस आत्मा को हर समय भ्रमित करके रखता है। मन और माया आत्मा को अपने मूल स्थान परम पुरुष की तरफ नहीं जाने देतीं।

अब आप गौर करें कि जब छोटा बच्चा रोता है तो माँ उसके हाथ मै खिलौना देकर उसका ध्यान बंटा देती है और वो रोना बंद कर देता है।माँ ने खिलौना देकर उसका ध्यान मूल से हटा कर कहीँ और कर दिया।उदाहरण से  पता नहीं चलता कि कही न कहीँ हमको भी मन ने ऐसे ही उलझा रखा है।

गोस्वामी जी ने कहा कि

सुनहु तात ये अकथ कहानी समझत बिरहे न जाय बखानी,

ईश्वर अंश जीव अविनाशी चेतन अमल सहज सुखराशी,

सो माया बस भयो गुशाइ बन्धयो कीर मर्कट के माही।

यह आत्मा बंध गयी है।यह गठान झूठी है परंतु फिर भी सच लग रही है।आत्मा ने अज्ञान वस इस शरीर को धारण किया हैं इसको पकड़कर रखा है वरना आत्मा को कोई पकड़ नहीं सकता।

जैसे बन्दर चनों को घड़े के अंदर मुठी खोले बिना अपने को मुक्त नहीं कर सकता उसी प्रकार जीव भी मन को समझे बिना उससे टक्कर नहीं ले सकता ।

आत्मा ने जब प्राणों को धारण किया तब वह जीव बना.जब जीव प्राणों को छोड़ देता है तो वो आत्मा बन जाता है.यदि आत्मा को अपने मूल घर का ठीक ठीक पता होगा तो वह  जन्म मृत्यु के बंधनों से छूटकर सतलोक चला जायेगा परन्तु यदि घर का पता नहीं तो भटकता रहेगा.

सत्य साहिब

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *