Kabir’s Bhandara

Spread the love

 

Once the Brahmins held a meeting in the Kasi Nagar and there was concern about the growing difference in their business due to the growing respect of Kabir and the redemption of blind faith, casteism, and giving them people with fearless knowledge, by spreading them in society Revealed. Proposal was proposed to reduce the growing influence of Kabir Das and kill them. The great Brahmin sitting in the assembly said, by the direction of Delhi Emperor Sikandar Lodhi, his minister Sakhtagi best tried to kill Kabir fifty two times but could not be killed and Kabir Ji became more immortal. Kasi’s kings became their disciple, Gorakhnath defeated in knowledge of scriptures; the pundits of our society also became their disciples. Ramanand ji joined him along with his one thousand eighty four disciples, Nanak just recently taking the Kabir cult knowledge and carrying Satyaam and running his creed. Now Kabir’s glory has increased rapidly and spreading fast. What to do? It’s the question of our life.

Then Jyotish (Astrologer), Acharya (Spiritual Teacher), Vaidya (Doctors) , Purohit (Worshiper) , Panda (Instructor) etc. began to say that Kabir ended our employment. Our system does not run any machinery. What is the solution for this? A astrologer said, there may be a solution, we would have to call false invitations by the name of Kabir and all people make their way to the like of the Kabir’s followers and spread out in all-over India’s well known pilgrim places throughout the year. According to the plan, one of the twelve fraud saints, went to Rameswaram, a Dwarka, a Badrinath, a Jagannath, a Hinglaj, a Karacha Brahmadesh, a Balwa Kund, a Parasuram Kund, a Nepal Godavari Naimisharanya, a Haridwar, a Mathura, a Brindavan, a Ayodhya side The devotees of Yogi, Jangam, Sevada, Sanyasi, Darveesh, Brahmin Ramandani, Madhavacharya Vishnu, Swami Maharaj and the Bawana Akhada were also called Kasi and gave invitation for bhandara from Kabir’s side. The invitation of the General Bhandara and a leaf of besel would be given to  all hands. These twelve hypocrites were non-vegetarian, among them, Yadunath, Jyotish Haramurai, Vaidya Ramnath Pandey, Ram Prasad, Acharya Gatei Dwe, Pandya Gunoram Jha, Madrash Shakta, Guna Triambak, Ram Tantrik Mulur Tewari, Harbansh Jee Sukh, Premrao Mishra, Choubeji Hridaynath  used to put  a tilak in forehead, a white tall hat on head, a nappy, and wear Brahma Achala. The number of Sadhus who came to the monastery told them that after completing twelve years,  Kumbh Mela has come, and after bathing the Aquarius, on the Basant Panchami at Kabir Chaura,  Kabir will start the Bhandara, then it will be parting later. The fair will be managed by the emperor and the king of kasi himself. As many as the monks, from Kashi temple to Kabir Chaura, Lahar Tara lake, they will also be arranged for food, asana, hemp, dessert, snack, milk, sweet drink and fire has been arranged for their food. That is why a year ago we have invited the people and you must definitely go to the fair.

Thus, on the occasion of Prayag Kumbh, all the sadhus, ascetics, saints and mahants started gathering after taking bath after reaching Kashi. Ramanand ji’s ashram was the intervention of Kabir. This place is known as Kabir Chaura. There was Kamdhenu cow, Ashsha siddhi Nav nidhi came and sat down. Baikunthdham Vishnu ji thought that so many siddha, saint and mahatma people are coming out, so food should be arranged for them. Vishnu took the form of Banjara and took a sign board from Mirzapur to Prayag and Kasi for Kabir bhandara that people who have taken the vow should stay in Dharmalas and get food.  All saints came from the Prayag to Kasi through their own arena. Some people reached Basant Panchami on the day. With the help of Banjara (Nomad),

Lord Vishnu came in with nine lacs oxen in which five five pearls were engaged, and before the farewell, the beads which used to spend before farewell were to be dropped.  By the sound of Jai Kabir at the time of food, the saints, the mahants, the sadhus, the saints, gave thanks. The sky began to sound like the voice of Jai Kabir. The Delhi emperor also heard that Kabir has given a huge huge reservoir, and he also come used to take lakhs of warriors to visit Kabir, Riva’s king Veer Singh, Maghar’s king Bizli khan Pathan also brought his people. The Kasi kings arranged all the arrangements for their reception and the rich people of Kasi Nagar arranged for a lot of money in the city and they used to distribute soft drink and drinking water  in the whole city, so that nobody would have any problem. The Kasi King instructed the cleaning staff to keep the whole city clean until it was done; there was no defect from anywhere. In the whole city, guard the security guard on behalf of King so that the thieves cannot be the looters. It was a big fair, all invites met each other.

Where are Kabir ji asked the King emperor Sikandar Lodhi ? People said, since the Bhandara has begun before one and a half months ago but Kabir did not come yet. Emperor went to Neeru’s house but there too Kabir Ji was not present. Now they came to Ramanand ji. There they met twelve froad sages who invited the people to come to Bhandara. He asked to them anyone of you see Kabir? Tell me where is Kabir? False Dhongi Sadhu replied that they do not know where kabir lives. The King saw the Kamaal, so he took hold his hands and asked where the Kabir ji is? Let’s come to the cave said kamaal, the emperor went to the cave and touched Kabir ji’s feet and said, ‘You made such a huge Bhandara and I did not even know?’ Kabir says I do not know anything. Richest people of Delhi also came with the King with diamonds, pearls and jewels, and he kept him at the feet of Kabir. So all the Mahant said, Kabir ji these twelve disciples have made you great, they have invited us here by your name? Kabir Ji said, “These are the people who are beyond us.” We are telling the truth to the society so they are getting paradoxi. Sakhtagi said these are all big evils. These people were trying to provoke me against you, and encourage me to give you fifty two punishments. The King said, What punishment should be given to them? Upon hearing this, they began to apologize by holding the feet of the Kabir. Kabir said why to kill them, they are already dead, like shining gold on fire, it is shiny on the side, whatever they did, and it was good in my favor. If they do not invite all, it was not possible such a bigger Bhandara. Twelve Imposter Sage said, forgive us and make your disciple. Kabir said, go to the place you went to, and fearlessly make our discourse aware the society and distribute the fearless knowledge and make “Kabir Chaura” there. Addressing to richer person of Delhi and their brought gems and ornaments, he said these are like a stone for me; divide them to the saints present here. All Saint Mahantas present there raised all ornaments and divided them. The sound of Jai Kabir Jai Kabir started. Everyone greeted Kabir and went to their places.

Kabir Das JI is a very kind person who hates them, he also forgives them.

Where is Supreme God


हिंदी अनुवाद —

एक बार कासी नगरी मे ब्राह्मणों ने एक सभा की और उसमें कबीर के बढ़ते सम्मान के कारण और उनके द्वारा समाज मे फैले अंधविस्वास, जातिवाद का भृम दूर करके लोगों को निर्भय ज्ञान देकर मुक्त करने के कारण उनके व्यवसाय में अत्यधिक फर्क आ जाने को लेकर चिंता प्रगट की। प्रस्ताव रखा गया कि कबीर के बढ़ते प्रभाव को कैसे कम किया जाए और उनको मार दिया जाये। सभा मे बैठे श्रेष्ठ ब्राह्मण बोले कि सेखतगी ने बावन बार कबीर को मारना चाहा, पर मार नहीं पाया और कबीर अमर हो गये। कासी नरेश उनके शिष्य हो गए, गोरखनाथ जी शास्त्र ज्ञान मे उनसे हार गए, हमारे समाज के पंडित भी उनके चेले बन गए।रामानंद जी अपने चौदह सौ चौरासी चेलों समेत उन्हीं के पक्ष में हो गए, नानक जी ने अभी हाल ही मे इन्हीं से ज्ञान लेकर सत्यनाम धारण किया ओर अपना पंथ चलाया। अब कबीर की महिमा बहुत बढ़ गयी है। क्या उपाय करें ?

तब ज्योतिष, आचार्य, वैद्य, पुरोहित, पंडा आदि मिलकर कहने लगे कि कबीर ने हमारा तो रोज़गार ही खत्म कर दिया। हमारा तंत्र मंत्र यंत्र कुछ नहीं चलता।इसके लिए क्या उपाय करना होगा ? एक ज्योतिषी बोला एक उपाय सूझा है। कबीर के नाम से झूठा निमंत्रण दे दो और सभी लोग अपनी भेष भूषा कबीर के चेलों की तरह बना लो और कमण्डल हाथ मे लेकर पूरे भारत वर्ष में फैल जाओ। योजना के अनुसार  एक रामेश्वरम की तरफ, एक द्वारिका , एक बद्रीनाथ, एक जगन्नाथ, एक हिंगलाज, एक करांची ब्रह्मदेश, एक बलवा कुंड, एक परसुराम कुंड, एक नेपाल गोदावरी नैमिशारण्य, एक हरिद्वार, एक मथुरा, एक बृंदावन,एक अयोध्या ओर चारों धाम सातों पुरी अड़सठ तीर्थ जाकर योगी ,जंगम, सेवड़ा,सन्यासी, दरवेश, ब्राह्मण रामानंदी, माधवाचार्य विष्णु, स्वामी महाराज ओर बावन अखाड़ा के साधुओं को कबीर की तरफ से कासी नगरी मे  होने वाले महा भंडारे का निमंत्रण दिया और सबके हाथ मे एक एक तुलसी का पत्ता दिया। ये बारह पाखंडी लोग मांसाहारी थे, इनमें यदुनाथ, ज्योतिष हरमुखराय, वैद्य रामनाथ पांडे, रामप्रसाद, आचार्य गटई दुवे, पंडा गुनोराम झा, माधोराम शाक्त, गुनिया त्रयम्बक, राम तांत्रिक मुलुराम तेवारी, हरबंश जी सुक्र, प्रेमराव मिश्र, चौबे जी हृदयनाथ ये लोग नाख मैं तिलक लगाकर, सिर पर खड़ी टोपी, लंगोट कसके, ब्रह्म अचला बांध कर चले थे। जितने भी साधू सन्यासी मिलते उनसे कहते प्रयाग मे बारह वर्षों के बाद कुम्भ मेला आया है, कुम्भ मैं स्नान करके बसंत पंचमी के दिन कबीर चौरा मैं भंडारा सुरु होगा, बाद मे बिदाई होगी। मेले का प्रबंध कमाल ओर बादशाह खुद करेंगे। कासी मंदिर से कबीर चौरा लहर तारा तालाब तक जितने साधू होंगे, उनके खाने के लिए भोजन, आसन, गांजा, मिठाई, जलपान, दूध, शर्बत ओर धुनि के लिए लकड़ी का भी प्रबंध किया जाएगा।इसलिए एक साल पहले आप लोगों को निमंत्रण दिया है, मेले मैं अवश्य पधारें।

इस प्रकार प्रयाग कुम्भ के अवसर पर सब साधू सन्यासी, संत, महंत एकत्रित होने लगे स्नान करने के बाद कासी पहुंचने लगे।मेला सुरु हुआ। रामानंद जी के आश्रम मैं कबीर का ही दखल था। यह स्थान कबीर चौरा के नाम से जाना जाता तहस। वहां पर कामधेनु गाय थीं, अष्टसिद्धि नवनिधि आकर विराजमान हुई। बैकुंठधाम विष्णु जी ने विचार किया कि इतने सारे सिद्ध, साधू ओर महात्मा लोग कासी आ रहे है इसलिए इनके लिए भोजन का प्रबंध करना चाहिए। विष्णु जी ने बंजारा का रूप धारण करके भोजन पाने के लिए मिर्ज़ापुर से प्रयाग ओर कासी तक कबीर के नाम से साइन बोर्ड लगवा दिए कि जिन लोगों ने व्रत लिया है वे लोग धर्मसालाओं मे ठहरें ओर भोजन पायें। प्रयाग से सारे संत अपने अपने अखाड़ा लेकर कासी पहुँचे।कुछ लोग बसंत पंचमी के दिन पहुंचे। बंजारे का वेश रखकर विष्णु भगवान ने नॉ लाख बैलों मे रखे लड्डू जिनमें पांच पांच मोती लगे हुए थे, लेकर आये और विदाई से पहले जिन अखाड़ों मैं जितने लोग ठहरते, उतने मोती गिरा देते। भोजन के समय जय कबीर की आवाजें लगाकर संत, महंत, साधू, सन्यासी लोग धन्यवाद देते।आकाश मैं जय कबीर की ध्वनि गूंजने लगी।दिल्ली बादशाह ने भी सुना, कबीर ने बड़ा भारी भंडारा दिया है तो वो भी लाख फ़ौज़ लेकर कबीर के दर्शन करने आ गए। रीवा नरेश वीर सिंह, मगहर पति बिजली खां पठान भी अपने लोगों को लेकर आये। कासी नरेश ने उनके स्वागत के लिए सारे इंतज़ाम करे और कासी नगर के सेठ लोगों ने खूब धन दौलत का इंतज़ाम करके पूरे शहर मे शर्बत पिलाने और पानी पीने के प्याऊ की छावनी लगवाई ताकि किसी को कोई तकलीफ न हो। कासी नरेश ने सफाई कर्मचारियों को हुक्म दिया कि बिदाई होने तक पूरे शहर को बिल्कुल साफ रखा जाए, कहीं से कोई  दुर्गंध न आने पाये। पूरे शहर मे राजा जी की तरफ से सुरक्षा गार्ड तैनात कराए ताकि चोर लूटेरे जनता को परेसान न कर सकें। बड़ा भारी मेला लगा, सब एक दूसरे से मिले।

बादशाह सिकंदर लोधी बोले कबीर जी कहाँ हैं? लोग बोले डेढ़ माह से भंडारा लगा है पर कबीर जी नहीं आये। बादशाह नीरू के घर गए पर वहाँ भी कबीर जी का पता नहीँ चला। अब वे रामानंद जी के वहाँ आये। वहाँ वे बारह ढोंगी साधू मिल गए जिन लोगों ने भंडारे मे आने का निमंत्रण दिया था। उन्होंने पूछा दो माह से भंडारा चल रहा है, किसी को  कबीर जी नहीं दिखाई दिए? बताइये कबीर जी कहाँ हैं? झूठे ढोंगी साधू बोले कबीर जी कहाँ रहते है हमको नहीं पता। इतने मे बादशाह को कमाल दिखाई दिए, उन्होंने कमाल का हाथ पकड़कर पूछा, गुरुजी कहाँ हैं? कमाल बोले चलिए गुफा मे। बादशाह ने गुफा मे जाकर कबीर जी के पैर छुवे ओर बोले आपने  इतना बड़ा भंडारा किया और मुझे पता भी नहीं चला ? कबीर बोले मुझे तो कुछ मालूम नहीं है। दिल्ली के सेठ भी बादशाह के साथ हीरे, मोती ओर आभूषणो को लेकर आये थे, उन्होंने कबीर के चरणों में रख दिये।इतने मैं सब महंत बोले कबीर जी आपके इन बारह चेलों ने बड़ा कमाल कर दिया, आपके नाम से भंडारा करा दिया ?  कबीर जी बोले अरे ये तो वही लोग है जो हमसे परेसान है। हम समाज को सत्य बता रहे है तो इनको परेसानी हो रही है। सेखतगी बोले ये सभी बड़े दुष्ट हैं। इन्हीं लोगों ने मुझे भी आपके खिलाफ भड़काकर मुझसे आपको बावन सज़ायें दिलवाई थीं। बादशाह बोले इनको क्या सज़ा दी जाए ? ऐसा सुनकर वे बारह ढोंगी साधू कबीर की पैरों को पकड़कर माफी मांगने लगे ओर बोले ह्मार्स अपराध क्षमा करो।  कबीर बोले इनको क्या मारोगे, ये तो पहले ही मरे हुए हैं, जैसे सोने को आग मे जलाने पर वह ओर चमकदार होता है, इन लोगों ने जो भी किया, मेरे हक़ मे अच्छा हुआ। झूठा निमंत्रण दिया। इतना बढ़िया ओर बड़ा भंडारा होता ही नहीं। बारह ढोंगी साधू बोले हमको माफ कर दो और अपना चेला बना लो। कबीर बोले जिस स्थान मे तुम गये थे, वहीं जाओ और निडर होकर हमारे प्रवचन से समाज को अवगत कराकर निर्भय ज्ञान बांटो ओर कबीर चौरा का निर्माण करो।  कबीर जी सामने बैठे दिल्ली के सेठों से बोले ये रत्न आभूषण मेरे लिए कंकर पत्थर के समान है, इनको साधू संतों को बांट दो। वहां उपस्थित सभी संत महंतों ने सारे आभूषण उठा लिए ओर बांट लिए । जय कबीर जय कबीर की ध्वनि होने लगी। सब लोग कबीर को प्रणाम कर अपने अपने स्थानों को चले गये।

सतगुरू बड़े दयालु हैं, जो उनसे द्वेश रखते हैं, उनको भी माफ कर देते हैं।

1 Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *