Mahabharata Law of law?

Spread the love

It is important to know that the war of Mahabharata was the law of law or there were other reasons for it. Through this blog, we try to get into its root.

After the war of Mahabharata ended, Pandav went to heaven to give his kingdom to King Parikshit. After the reign of King Prakshit, the king of Hastinapur became Janamejaya. One day, Maharishi Vyas reached Hastinapur and wanted to meet the king. They came to know that King Jemmayya is not there and he has gone to the forests along the Ganges river. Vyas also walked towards the jungles.

Wandering in the forests, Vyas Ji got king Jemmejai. The king welcomed Maharishi Vyas and washed his feet with respectfully sitting on a flat stone. King Jemayjaya said that you are a triad-sighted person, keep current, past and future information. Knowing all this that there will be a lot of blood in the battle of Mahabharata, why did you allow this fight? Why did not you try to stop the Mahabharata? Did you know that thousands of people will be killed in this battle?

Vyas said that whatever has happened has become asleep. The night went and talked. King Janamejaya began to say that I do not believe that even after knowing, why did not you stop this fight? I want to know. So please tell me the reason for this. Vyas, Ji said how no one could avoid the law of the law.

Law of law-

Vyas Ji began to say that no one can stop the law of law with its force, intellect, and discretion. Whatever happened to him, he had to be. King Jemayjaya said, no, how did it happen? After knowing, this should not have happened.

Vyas said that I tell you about an event that will happen. This event will happen in your life in six months. If you can stop it, stop it. King Jemayjaya began to ask what is going to happen to me. Please tell me soon.

Vyas said that a person will come with a horse from the north direction; you do not buy the horse from him. You do not even see the horses. If you have bought a horse then do not ride on it. If you have to ride even if you do not go to the forest, If you go to the forest, do not kill the lion, if the lion is to be killed then do not talk to the girl who comes out of it. If you have to talk to him then do not marry him. If you marry then do not make it your own. If you have to make her own also, do not do Ashwameag Yagna on her say. If Ashwamedh also did, then do not invite Brahmins there. If the Brahmins are also called, do not kill them.

All of this will happen in your life in six months. If you can save yourself, then save. After that remember me, I will come. King Jemayjaya said that it is okay to see what happens.

Two four months have passed. The matter has come and gone. He forgot what Vyas ji said

In the state of King Jemajaya, there was a fair market to sell animals. One day the horse sellers from the north direction came to their state. Seeing the horses, King remembered the matter of Vyas Ji. There were large-scale traders coming to sell horses. The merchants of the horses went to the king and gave an invitation letter to inaugurate the fair and requested Maharaj that you also liked horses.

King said that I will not come there. If the trader says that you will not come only then how will the market be inaugurated? If you do not want to come, then only start once and come back. The king said that okay I will come there but will not buy horse.

When the king came to the fair to start the fair, then there he saw a special kind of horse called Panchkalyani horse. He liked the horse. The king started thinking that he is such a big king, and he does not have this kind of  horse. If such a horse is not with a king, it is worthless to be a king. The king decided that he would buy a horse but would not ride on it. By buying a horse, they tied him in front of his room in the palace.

He used to watch the horse from the palace. One day a thought came to his mind that even if he did not ride in such a wonderful horse, what advantage would it be? They decided that they would ride a horse but would not go towards the forest.

One day, as soon as the king boarded a horse, he ran towards the forest. When the horse was running towards the forest, suddenly a lion came in front of the horse. King Jemayjaya thought that if he does not kill the lion, then that lion will eat them. So they killed that lion with their bow arrow.

Once the lion dies, one girl comes out of it. The king asked him who are you? Are you a sage girl or god girl? Are you a snake girl or a daughter of a monster? She said that I am a sage girl. My dad, at the time of death, I was not able to marry you so you can find your husband own self. They also said to see a king named Jemmajaya. I’m out to find my husband.

King Jemayjaya said that I am Jemmejay. If you want you can make me your husband. King Jemmejay and The girl got married only in the forest and the king came back to the palace with the girl. After a few days, the king made him his guardian.

One day she quotes that “O King” let start the Ashwamedh Yagya sacrifices. The king said that no, I do not have to do the sacrifice of Ashwamedh. Did she ask why not? Do not you have the army, or you do not have the power? The King said that is okay, we will do Ashvmegh Yagya. But he was avoiding yagya. She continued to insist on offering sacrifice, so one day he decided that it would have to sacrifice. When the King made preparations for Ashwamedh Yagya, he invites Brahmins children instead of their parents in it.

Beginning of Ashwamedh Yagya-

When King was leaving the horse’s tail for sacrifice, children standing there were laughing at this. King Janamejaya was humiliated by the laughter of the children, so he pulled out his sword and cut off all the heads of the children. Here he killed eighteen children and put them in the fire. The fierce fire started to ignite and the burning of his kingdom Hastinapur was started. King Jemayjaya became leprosy and he fell to the ground. The king remembered Vyas.

Vyas heard the call of the heart of the king and he came there. Maharishi Vyas told king Jaijayjaya that I had told you not to do all this. But then he also knew it now. You have been caught in the sin of Brahman. The king said that whatever happened; now make me free from sin. Vyas said that is fine.

Empowering the King by Maharishi Vyas

Vyas ordered eighteen pots and covered them with blue cloth. Vyas told King Janmejay that I tell you the story of your ancestors but when you hear the story do not doubt any incident. The king said that well, I will no doubt. You heard the story.

Vyas started the story of ancestors of king Jainmayya from Shantanu. He told him how his ancestors were born. They started saying that when the battle of Mahabharata was started, then at that time the commander of the Kurus was Dronacharya. When he composed Chakravyuh, he placed five hundred elephants in a straight line in front of the Pandavas.

Suspect the King

In Pandavas, Bhima was the most powerful and he had the strength of ten thousand elephants. Bhima raised elephants one by one and started to flutter towards the sky. The elephants they were throwing in the sky, the elephants were hanging in the sky.

King Janamejaya thought that it could never happen. But they kept quiet. Due to the king’s doubts, except for a pot, the clothes above all the cloths became white. Only the clothes of a pitcher remained blue.

Vyas said that the colors of all the cloth changed, but the color of a pitcher’s cloth did not change, did you doubt in the story? They asked the king where you doubted. Vyas said that because of your doubts, you still remain the sin. The king told Vyas that he had doubts about hanging in elephants’ sky.

He continued telling the king that Bhima had such a power, that if he wanted, he could throw elephants out of the earth’s gravitational boundary. But Krishna Ji had said to deny them to do so that you have to hand elephants towards south towards Sri Lanka in the south direction. On the strength of his Yogamaya, Shri Krishna allowed some elephants hanging in the sky. The remaining elephants had fallen into Sri Lanka.

Vyas said that at that time Sri Lankan’s queen was Mandodari. At that time man’s age was very long. People used to live for thousands of years. When Bhim was throwing the elephant from Hastinapur, then at that time Pandav Mandodari had reached for help to fight. Mandodari asked Pandavas how many people of yours and the Kurus’ army are. Pandavas said that both the army is of 18 Akshyohini approx forty lacs.

According to the Mahabharata, in the war of Kurukshetra, 18 Akshyohini armies had fought in the war there. 11 Akhushini were in favor of Kauravas, while 7 had fought in favor of Pandavas. There are twenty-one thousand eight hundred and seventy chariots, twenty-one thousand eight hundred seventy elephants, one lakh nine thousand three hundred fifty soldiers, and fifty-five thousand six hundred and ten horses in the total of 1 Akhushinis force.

Mandodari had said that such a small army, Is this a fight?  When my husband, Ravana, went to fight with Rama, the same quantities of soldiers were the only bandwagon playwright. So I will not help you anymore. Sri Krishna knew that Mandodari would not provide any help of Pandavas, so he planned to throw these elephants in Sri Lanka.

Vyas Ji now called a number of Brahmins to free the king from sin. Vyas Ji told him that you People take a little bit sin of the king and make them free. All said that it is okay, but if they take the sin themselves, then their sin will take us.

Vyas suggest that when you take alms, then if the beggar will give alms to you from within his door then this sin will get it. Who will come out of the door and give alms, he will get the blessing of charity. According to rules of alimony, begging was given in a soup. Grains in the soup were kept. After getting a beggar, the beggar took five bags of grain from his bag and put it back in the soup. The beggar would have mixed the grain with the grain kept in his house. It was considered to be the blessing of begging.

Thus, Vyas Ji said that king Jeymayjaya was free from sin and said that ‘O King’ could no longer recite the law of law. As you know everything, even after you committed sin, in the same way, I also let the Mahabharata happen.

महाभारत क्यों हुई?

यह जानना जरूरी है कि महाभारत की लड़ाई होना क्या विधि का विधान था या इसके कोई और कारण थे। इस ब्लॉग के माध्यम से हम इसकी जड़ में जाने का प्रयास करते हैं।

महाभारत की लड़ाई खत्म होने के बाद पांडव अपना राज़काज राजा परीक्षित को देकर स्वर्गारोहिणी को चले गए। राजा परीक्षित के राज के बाद हस्तिनापुर के राजा जनमेजय बने। एक दिन महर्षि व्यास राजा से मिलने की इच्छा रखकर घूमने फिरने हस्तिनापुर पहुँच गये। उनको पता चला कि राजा जनमेजय वहाँ नहीं हैं और वह गंगा नदी के किनारे जंगलों की ओर गये हैं। व्यास भी जंगलों की ओर चल दिये।

जंगलों में घूमते हुए व्यास जी को राजा जनमेजय मिल गये। राजा ने महर्षि व्यास का स्वागत किया और पास ही पत्थर की शिला पर आदरपूर्वक बैठाकर उनके चरण धोये। राजा जनमेजय ने कहा कि आप त्रिकालदर्शी हो, वर्तमान, भूतकाल और भविष्य की जानकारी रखते हो। ये सब जानते हुए कि महाभारत की लड़ाई में बहुत खून बहेगा, आपने इस लड़ाई को क्यों होने दिया? आपने महाभारत को रोकने के प्रयास क्यों नहीं किये ? आप तो जानते थे इस लड़ाई में हज़ारों लोग मारे जाएंगे?

व्यास जी ने कहा कि जो हो गया सो हो गया। रात गयी और बात गयी । राजा जनमेजय कहने लगे कि मुझे यकीन नहीं हो रहा कि जानने के बाद भी आपने इस लड़ाई को रोका क्यों नहीं? मैं जानना चाहता हूँ । इसलिये आप कृपया मुझे इसका कारण बतायें। व्यास जी ने कहा कि कोई भी विधि के विधान को नहीं टाल सकता था।

विधि का विधान-

व्यास जी कहने लगे कि बल, बुद्धि और विवेक से कोई भी विधि के विधान को नहीं टाल सकता। वो जो कुछ भी हुआ, उसको होना ही था। राजा जनमेजय ने कहा कि नहीं, ऐसा कैसे हो गया ? आपके जानने के बाद तो ऐसा नहीं होना चाहिये था।

व्यास जी ने कहा कि मैं तुमको एक होने वाली घटना के बारे में बताता हूँ। जिससे तुमको पता चल जाएगा कि विधि के विधान को कोई नहीं टाल सकता। यह घटना तुम्हारे जीवन में छः महिने में घटित होगी। अगर तुम इसको रोक सकते हो तो रोक लो। राजा जनमेजय पूछने लगे कि मेरे साथ क्या होने वाला है कृपया मुझे शीघ्र बतायें।

व्यास जी ने कहा कि उत्तर दिशा से एक व्यक्ति घोड़े लेकर आएगा, तुम उससे घोड़े मत खरीदना। तुम घोड़ों को देखना भी नहीं। यदि तुमने घोड़ा खरीद भी लिया तो उस पर सवारी मत करना। अगर सवारी भी करनी पड़ी तो तुम जंगल की ओर मत जाना, जंगल को चले भी गये तो शिकार मत करना, शिकार भी करना पड़े तो शेर को मत मारना, यदि शेर को भी मारना पड़े तो उसमें से जो कन्या निकलेगी उससे बात मत करना। यदि उससे बात भी करानी पड़े तो उससे शादी मत करना। यदि शादी भी करनी पड़े तो उसको अपनी पटरानी मत बनाना। यदि पटरानी भी बनानी पड़े तो उसके कहने पर अश्वमेघ यज्ञ मत करना। यदि अश्वमेघ यज्ञ भी कर लिया तो उनमें ब्राह्मणों को मत बुलाना। यदि ब्राह्मणों को भी बुला लिया तो उनकी हत्या मत करना।

यह सब तुम्हारे जीवन में छः माह में घटित होगा। यदि तुम अपने आप को बचा सकते हो तो बचा लेना। उसके बाद मुझे याद कर लेना, मैं आ जाऊंगा। राजा जनमेजय ने कहा कि ठीक है, देखते हैं क्या होता है।

दो चार महीने बीत गये। बात आयी और गयी हो गयी। राजा व्यास जी की कही बातों को भूल गया।

राजा जनमेजय के राज्य में पशुओं को बेचने का मेला लगता था। एक दिन उत्तर दिशा से घोड़े बेचने वाले उनके राज्य में आये। घोड़ों को देखकर राजा को व्यास जी की बात याद आयी। घोड़ों का बाज़ार लगा। वहाँ बड़े -बड़े व्यापारी घोड़े बेचने के लिए आये थे। घोड़ों के व्यापारियों ने राजा के पास जाकर मेले का उद्घाटन करने के लिये निमंत्रण पत्र दिया और महाराज से विनती की कि आप भी घोड़ों को पसंद करें।

महाराज ने कहा कि मैं वहाँ नहीं आऊँगा। व्यापारी बोले कि आप ही नहीं आयेंगे तो फिर बाज़ार का उद्धघाटन कैसे होगा। यदि आप नहीं आना चाहते तो केवल एक बार वहाँ का मुहूर्त कर दीजिये और वापस चले आइये। राजा ने कहा कि ठीक है मैं वहाँ आऊंगा पर घोड़े नहीं खरीदूंगा।

राजा मेले का मुहूर्त निकालने के लिये मेले में आये तो उनको वहाँ एक खास किस्म का घोड़ा दिखाई दिया। जिसे पंचकल्याणी घोड़ा कहते हैं।घोड़ा राजा जनमेजय को पसंद आ गया। राजा सोचने लगे कि वह इतने बड़े राजा हैं, और यह पँचकल्याणी घोड़ा उनके पास नहीं है। यदि ऐसा घोड़ा किसी राजा के पास न हो तो उसका राजा होना ही बेकार है। राजा ने निर्णय किया कि वह घोड़े को ख़रीदेंगे पर उसपर सवारी नहीं करेंगे। घोड़े को खरीदकर उन्होंने उसे महल में अपने कक्ष के सामने बंधवा दिया।

वह महल से घोड़ा दिखाई देता था और वे घोड़े को देखते रहते थे। एक दिन उनके मन में विचार आया कि इतना बढ़िया घोड़ा होकर भी उसमें सवारी नहीं की तो क्या फायदा? उन्होंने निर्णय लिया कि वह घोड़े की सवारी करेंगे पर जंगल की ओर नहीं जायेंगे।

एक दिन राजा जैसे ही घोड़े पर सवार हुए, वह जंगल की ओर दौड़ पड़ा। जब घोड़ा जंगल की ओर भाग रहा था तो अचानक घोड़े के सामने एक शेर आ गया। राजा जनमेजय ने सोचा कि यदि शेर को नहीं मारते हैं, तो शेर उनको खा जायेगा। इसलिये उन्होंने धनुष बाण से शेर को मार दिया।

शेर के मरते ही उसमें से एक कन्या निकली। राजा ने उससे पूछा कि तुम कौन हो ? क्या तुम कोई ऋषि कन्या हो या देव कन्या हो, नाग कन्या हो या किसी राक्षस की कन्या हो ? कन्या ने बताया कि मैं ऋषि कन्या हूँ। मेरे पिताजी ने मरते समय कहा था कि जीते जी मैं तुम्हारी शादी नहीं कर सका इसलिये तुम अपना वर खुद ही ढूंढ लेना। उन्होंने ये भी कहा कि एक राजा जिनका नाम जनमेजय है, उनको भी देख लेना। मैं अपने पति को ढूंढने के लिये निकली हूँ।

राजा जनमेजय ने कहा कि मैं ही जनमेजय हूँ। अगर तुम चाहो तो मुझे अपना पति बना सकती हो। राजा जनमेजय और लड़की ने जंगल में शादी कर ली और राजा लड़की को लेकर महल वापस आ गये। राजा ने कुछ दिनों बाद उसको अपनी पटरानी बना दिया।

राजा जनमेजय ने कहा कि मैं ही जनमेजय हूँ। अगर तुम चाहो तो मुझे अपना पति बना सकती हो। राजा जनमेजय और लड़की ने जंगल में शादी कर ली और राजा लड़की को लेकर महल वापस आ गये। राजा ने कुछ दिनों बाद उसको अपनी पटरानी बना दिया।

एक दिन पटरानी बोली कि हे महाराज अश्वमेघ यज्ञ करते हैं। राजा ने कहा कि नहीँ, मुझे अश्वमेघ यज्ञ नहीं करना है। पटरानी ने कहा कि क्यों नहीं करना है ? क्या आपके पास सेना नहीं है, या आपमें सामर्थ नहीं है ? राजा ने पटरानी को टालने के लिए कहा कि ठीक है, हम अश्वमेघ यज्ञ करेंगे। मगर वह यज्ञ को टालते जा रहे थे। पटरानी हर रोज यज्ञ करने की जिद्द करती थी, इसलिये एक दिन उन्होंने निर्णय किया कि यज्ञ करना ही पड़ेगा। राजा ने अश्वमेघ यज्ञ की तैयारियाँ करवाई पर उन्होंने ब्राह्मणों को निमंत्रण नहीं दिया। उन्होंने ब्राह्मणों के बच्चों को बुलवाया।

अश्वमेघ यज्ञ की शुरुआत-

राजा अश्वमेघ यज्ञ के लिये जब घोड़े की पूँछ पकड़कर छोड़ रहे थे, तो वहाँ पर खड़े बच्चे यह सब देखकर हँस रहे थे। राजा जनमेजय को बच्चों की हँसी अपना अपमान लगी इसलिये उन्होंने अपनी तलवार निकाली और सभी बच्चों के सर काट दिये। यहाँ इन्होंने अठ्ठारह बच्चों की हत्या करके अग्नि कुंड में डाल दिये। भयंकर अग्नि प्रज्वलित होने लगी और हस्तिनापुर जलने लगा। ब्रह्महत्या होने के कारण राजा को कोढ़ हो गया और वह जमीन पर गिर पड़े। राजा ने व्यास जी को याद किया।

राजा के दिल की पुकार सुन व्यास जी वहाँ आये। महर्षि व्यास ने राजा से कहा कि मैंने तुमसे यह सब नहीं करने को कहा था। परन्तु फिर भी तुमने ये सब किया। तुमको ब्रह्महत्या का पाप लग गया है। राजा ने कहा कि जो कुछ हुआ सो हुआ, अब मुझे पाप मुक्त करिये। व्यास जी ने कहा कि ठीक है।

महर्षि व्यास द्वारा राजा को पापमुक्त करना-

व्यास जी ने अठ्ठारह कलश मंगवाये और उनको नीले कपड़े से ढकवाया। व्यास जी ने राजा जन्मेजय से कहा कि मैं तुमको तुम्हारे पूर्वजों की कथा सुनाता हूँ पर तुम किसी भी घटना पर संदेह मत करना। राजा ने कहा कि ठीक है, मैं संदेह नहीं करूंगा। आप कथा सुनाइये।

व्यास जी ने राजा जनमेजय के पूर्वजों की कथा की शुरुवाद शांतनू से की। उन्होंने बताया कि तुम्हारे पूर्वज कैसे-कैसे पैदा हुए। वे कहने लगे कि जब महाभारत की लड़ाई शुरू हुई थी, तो उस समय कौरवों के गुरु द्रोणाचार्य सेनापति थे। जब उन्होंने चक्रव्यूह की रचना की तो उन्होंने पाँच सौ हाथियों को लाइन में लगाकर पांडवों के सामने खड़ा कर दिया।

राजा का संदेह करना-

पांडवों में भीम सबसे अधिक शक्तिशाली थे और उनमें दस हज़ार हाथियों के बराबर ताक़त थी। भीम ने हाथियों को एक-एक करके आकाश की तरफ फैंकना शुरू किया। जिन हाथियों को वे आकाश में फेंक रहे थे, उनमें से कुछ हाथी आकाश में है लटक जा रहे थे और कुछ दिखाई नहीं दे रहे थे।

राजा जन्मेजय ने विचार किया कि क्या ऐसा कभी हो सकता है। मगर वे चुप रहे। राजा के संदेह करते ही एक घड़े को छोड़कर सभी घड़ों के ऊपर के कपड़े सफेद हो गये। केवल एक घड़े का कपड़ा नीला ही रह गया।

व्यास जी ने कहा कि सभी घड़ों के कपड़े के रंग बदल गये पर एक घड़े के कपड़े का रंग नहीं बदला, क्या तुमने कथा में संदेह किया? उन्होंने राजा से पूछा कि तुमने कहाँ संदेह किया ? व्यास जी ने कहा कि तुम्हारे संदेह करने के कारण तुममें अभी भी ब्रह्महत्या का पाप रह गया है। राजा ने व्यास जी को बताया कि उन्हें हाथियों के आकाश में लटके रहने पर संदेह हो गया था।

व्यास जी ने राजा से कहा कि भीम के पास इतनी अधिक शक्ति थी, कि वह चाहते तो हाथियों को पृथ्वी की गुरुत्वाकर्षण सीमा से बाहर फेंक सकते थे। लेकिन कृष्ण जी ने उनसे ऐसा न करने का इशारा करते हुए कहा था कि तुम हाथियों को दक्षिण दिशा में श्री लंका की तरफ फैंकना। श्री कृष्ण ने अपनी योगमाया के बल पर कुछ हाथियों को आकाश में ही लटकने दिया। शेष हाथी श्री लंका में जाकर गिरे थे।

व्यास जी ने कहा कि उस समय श्री लंका की रानी मन्दोदरी थी। उस समय मनुष्य की उम्र बहुत लंबी होती थी। लोग हजारों वर्षों तक जिया करते थे। जब भीम हस्तिनापुर से हाथी उठाकर फैंक रहा था, तो उस समय पाँडव मन्दोदरी के पास लड़ाई के लिये सहायता लेने पहुँचे थे। मन्दोदरी ने पांडवों से पूछा कि तुम्हारी और कौरवों की सेना कितने लोगों की है। पाँडवों ने बताया कि दोनों सेना अट्ठारह अक्षौहिणी की है।

महाभारत के अनुसार, कुरुक्षेत्र में हुए कौरव-पांडवों के युद्ध में कुल 18 अक्षौहिणी सेनाओं ने युद्ध किया था। इनमें से 11 अक्षौहिणी सेना कौरवों के पक्ष में थी, वहीं 7 ने पांडवों के पक्ष में युद्ध किया था। 1 अक्षौहिणी सेना में इक्कीस हज़ार आठ सौ सत्तर रथ, इक्कीस हज़ार आठ सौ सत्तर हाथी, एक लाख नौ हज़ार तीन सौ पचास सैनिक व पैंसठ हज़ार छः सौ दस घोड़े होते हैं।

मन्दोदरी ने कहा था कि इतनी कम सेना, ये भी कोई लड़ाई है। जब मेरे पति रावण, राम के साथ लड़ाई करने गये थे तो इतने सिपाही तो केवल बैंड बाजा बजाने वाले ही थे। इसलिये मैं तुम्हारी कोई सहायता नहीं करूँगी। श्री कृष्ण यह जानते थे कि मन्दोदरी पाँडवों की कोई सहायता नहीं करेगी, इसलिये उन्होंने ये हाथी भीम से श्री लंका में ही फिकवाये थे।

राजा को पुनः पापमुक्त करना-

व्यास जी ने अब राजा जनमेजय को पापमुक्त करने के लिए बहुत सारे ब्राह्मण बुलवाये। व्यास जी ने उनसे कहा कि तुम लोग राजा का थोड़ा-थोड़ा पाप ले लो और इनको पापमुक्त कर दो। सब ने कहा कि ठीक है, मगर यदि वे पाप खुद ले लेंगे तो उनका पाप हमको लग जायेगा।

व्यास जी ने कहा कि जब तुम भिक्षा लेने जाओगे तो यदि भिक्षा देने वाला अपने दरवाजे के भीतर से तुमको भिक्षा देगा तो यह पाप उसको लग जायेगा। जो दरवाज़े के बाहर आकर भिक्षा देगा, उसको दान का पुण्य मिलेगा। इस प्रकार व्यास जी ने राजा जनमेजय को पाप मुक्त करते हुए कहा कि हे राजा विधि के विधान को कोई नहीं टाल सकता। जिस प्रकार सब कुछ जानने के बाद भी तुमने पाप किया, उसी प्रकार मैंने भी महाभारत को हो जाने दिया।

भिक्षा देने के नियम-

भिक्षा देने के नियमों के अनुसार भिक्षा एक सूप में रखकर दी जाती थी। सूप में देने वाले अनाज को रखा जाता था। भिक्षा पाने के बाद भिखारी अपने झोली से पाँच मुठ्ठी अनाज निकालकर सूप में वापस डालता था। उस अनाज को भिक्षा देने वाला अपने घर में रखे अनाज के साथ मिला लेता था। इसे भिक्षा मांगने वाला का आशीर्वाद माना जाता था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *