Niranjan Brahma’s Management

Spread the love

 

Sant Kabir  told that in the court of Niranjan Brahma, there are four angels always in the court. Their names are Brahma, Vishnu, Mahesh and Yamraj. They have also called Zibriel, Macaulay, Israifil and Israel in Arabic. It has been described in Vedas also.

Brahma (Zibriel) does the task of delivering orders of Niranjan Brahma and give to the prophets.

The work of Vishnu (Macaulay) is to provide for all and to arrange food.

Planet Destroy  work to Mahesh (Israfil)

and lifting of life from the body of an organism  work of Yamraaj (Israil).

When Mahesh was born, he had a lot of penance through his austerities. Kalan Niranjan Brahma gave a boon to him and gave him a boon that he gives unlimited power to you. The hair that you have in your body will be as much as the mouth. There will be innumerable tongues in one mouth. Giving my garland ten times a million with one swan from every mouth. Devas will be generated from every stock and their appearance will be yours. He gave them the names of the gods named Angel (Firishte). When Brahma was five hundred years old, then Vishnu was born. He dives in the river three hundred and sixty times every day. As droplets fall from their body, tense niranan produces as much angel. They all are subject to Brahma. Five hundred years of Brahma were born Yamrah (Israel).

After that Kal Niranjan Brahma born death. The body of death was bigger than the Sky, seeing that all the angels became unconscious and kept lying on the earth for a thousand years. Seeing this, Kal Niranjan gave Yamraj so much power to subdue death. Kalan Niranjan gave Yumraj a number of eyes.  Yama Raj’s eyes look at all the directions in all directions at all the times. When an organism dies, one of their eyes falls, but once an organism is created, one eye becomes again.

Thus, Niranjan Brahma conducts the activities of this universe, and the work of creation, observance and death of the living creates continuously in the world.

Kl Niranjan Brahma, who is, how were born? What is the secret of the life and death of the creature born in this world? Through these blogs you will get full information.

Sacrifice and penance


हिंदी अनुवाद—

सतगुरु कबीर साहिब ने  बताया कि काल निरंजन ब्रह्म के दरबार में हमेशा चार दूत रहते हैं। उनका नाम ब्रह्मा, विष्णु, महेश और यमराज हैं। अरबी भाषा में उनको जिब्राइल, मैकाइल,ईसराफिल और ईसराईल है। हदिशों में इसका वर्णन किया गया है। काल निरंजन ब्रह्म के आदेशों को पहुँचाने का काम ब्रह्मा करते हैं और पैगम्बरों को देते हैं। विष्णु का काम सबको पालना और भोजन की व्यवस्था करना है। महेश  का काम महाप्रलय करना और यमराज का काम जीव कर प्राणों को निकालना है। जब महेश (ईसराफील पैदा हुए तो अपनी तपस्या से काल निरंजन की खूब तपस्या की। काल निरंजन ने खुस होकर उनको वरदान दिया कि तुमको में असीम शक्ति प्रदान करता हूँ। तेरे शरीर में जितने भी बाल हैं उतने ही मुँह होंगे। एक एक मुँह में असंख्य जीभ होंगी। हर मुँह से एक एक स्वांस से दस दस लाख बार मेरी माला जपना। हर माला से देवता उतपन्न होंगे और उनकी शक्ल तेरे से मिलेगी। उन देवताओं को उन्होंने फरिश्ते नाम दिया। ब्रह्मा (जिब्राइल) की उत्पत्ति के बाद पांच सौ वर्ष बाद विष्णु (मैकाइल) पैदा हुए। उनके दस लाख आंखें हैं ओर उनकी आँखों से हमेसा आँसू बहते रहते हैं। आंसुओं की प्रत्येक बूंद से एक फरिश्ता पैदा होता है जीने काम लोगों तक भोजन पहुंचाना है।  जब विष्णु (मैकाइल) को पाँच सौ वर्ष हो गये तो तब महेश (ईसराफिल) पैदा हुए। उसके बाद काल नीरंजन ने मृत्यु को पैदा किया। मृत्यु का शरीर आकास से भी बहुत बड़ा था, जिसको देखकर सारे फरिस्ते बेहोश हो गये ओर एक हजार सालों तक पृथ्वी पर पड़े रहे। यह देखकर काल निरंजन ने यमराज (इज़राइल) को इतनी शक्ति दी कि उसने मृत्यु को अपने अधीन कर लिया। यमराज को काल निरंजन ने अनगिनत आंखें प्रदान की।यमराज की आंखें हर समय हर दिशाओं में जीवों को देखती रहती हैं। जब एक जीव मरता है तो उनकी एक आंख गिर जाती है लेकिन एक जीव पैदा होने पर एक आंख फिर से हो जाती है।

इस तरह काल निरंजन ब्रह्म इस सृष्टि के कार्यों  का संचालन करते हैं  और संसार में जीवों की उत्पत्ति, पालन और मृत्यु का कार्य  लगातार चलता रहता है।

काल निरंजन ब्रह्म कौन है, कैसे उत्पन्न हुए ? इस संसार में जन्मे जीव के जीवन और मृत्यु का क्या रहस्य है? इन ब्लॉगों के माध्यम से आपको पूरी जानकारी मिलती रहेगी

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

1 Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *