Questionable Question

Spread the love

Once Lord Rishabhdev was doing religious discussion in court with his hundred sons. Muni, the wise, the scientist, the scholar, the ministers, and the people were all sitting. At that time few sons were jumping in the lap of Lord Rishabhdev. They broke their Yagyopaveet (Many people keep wrapping a thread from left to right to the right side).  He feels uncomfortable and stood up. Some of the sons fell from his lap and began cried and rest of the son ran away. 

Kabir asked, ‘O father, why did you stand in disgrace against all the children when you were superstitious?’ What is the reason for this? Rishabhdev said that my thread was broken in the jump. Kabir said, “This world is immersed in all respect. There are very few people in the world, they who really pray God. It seems that your theory is like the temporary world. Did not you feel compassion in your heart when your son suffered injury and the hurt of the children’s spirit?

You stand up Giving rise or spirit? Keep Fasting is bound to the body. It is the name of virtuousness. Such as Brahmacharya (A stage of life from childhood to twenty-five years of age), practicing spiritual books, Truthfulness, Mercy, Unbridled, Nonviolence, not condemning anyone, renunciation of hatred. All these are concerned to the body and not by the living. All these are confusion spread things. So leave the thread and value the soul. This is the world’s pretense. My opinion is true or the fact is false?

Lord Rishabhdev said, O Muniyo, scientists, scholars and ministers, consider this matter and answer to me? All agreed and said, O Lord, if we break the limits of this sacrifice, then the extent of Varanashram (The character is a state. According to the scriptures, every person is born as a Sudra and reaches other character states through effort and development) is broken. If truth is spoken, it can not be spoken because lord Niranjan (Brahms) has mentioned it in Vedas for livings. So this is a boy asking questions. In your reply, you can say it is impossible.

Then Kabir asked, where are lord Shiv Shankar ( Shiv ji )? Everyone said he lives in Kailash mountain. Kabir said I go there now to ask answer and saying that at the time of evening he went towards Uttarakhand (A state in north India). Lord Rishabhdev said, don’t worry, the boy is going home I can guess, but Kabir walked towards the mountains. The meeting ended here and all the people walked towards their house.

Out of hundred, ninty nine sons began to eat, then he knew that the eldest son is absent here.  He asked, where is he? and ordered to find. The founders did not search him anywhere. Kabir reached Kailash, stood up and searched for Lord Shiv. An angel came in front of him and said who are you? Where do you go? Kabir said, will you take me to lord place? Then he said, come, sit on my shoulder, I match you with them.

Two patrols were standing at the door, taking permission of him, went inside and saw Lord Vishnu was sitting in quadrangle form with Maha laxmi (Lord Vishnu’s wife) under the tree of heaven, wearing a yellowish garment in the same body as hundreds of millions of Kamdev (God of love and lust). Kabir bowed down to them. Lord Vishnu says your parents are all alright? Tell me how you came and he grabbed the boy and sat next to him.  Kabir told the whole story to him and said, Now should you tell us whether Yagyopavita is important or sadness of the soul of the creature?

Lord Vishnu thought that if the creature is big, then the limit of the world will disappear. Therefore, he sent Kabir to Lord Shiv ji to answer the question.

Kabir reached Shivalok (Residence of Lord Shiv). Saw there is a banyan tree on top of the Kailash mountain and surrounded by vermicomial surroundings. There are elephants, Gandharva, Kinnar, Apsarao, monsters, ghosts, Frantic, Bhairav, Bhavani, Virbhadra, Nandy bull, Ganesha, Kartik, and provens are being decorated with serpents and under the vat. The tigress is thrown under the throne and Shiva. Wearing a necklace of the head skull and sitting there. The stream of the Ganges is flowing on their head and the half moon teal is rising on their forehead. Seeing such a form, Kabir saluted them. Lord Shiva pleased and embraced them and blessed him with love and said come here, boy ?

Kabir said it is your grace. I have a doubt in my mind. Tell me what?.  Lord Shiv has said. Kabir asked “We all brother were playing in the lap of the father, suddenly their thread is broken by someone jump and they stood. When he stood up, we fell to the ground and we got hurt. Father did not even have mercy. Seeing it hurt our soul. Now you tell me whether the Yagyopavit was important to him or the sadness of our soul?

Listening to question, Lord Shiv took to silence. Kabir said if the soul is big? he replied hmm. If the soul is not big than Yagyopavit is bigger? Shiva ji said. Hmmmm. Kabir asked to him, did you get angry? Lord Shiv ji didn’t reply. Kabir asked then where should I go now to answer? Lord Shiv said to his wife Parvati, you decide, please. She redirects the issue to her son Ganesha.

Ganesha ji thought, if my parents not answered then why me? This will disqualify him, and redirected to his brother Karthikesh. Unfortunately, no one could answer the question of Kabir.   

Kabir, get frustrated and went from there, came again to Lord Vishnu and said, I went to Shivaji but my question was not answered. Now you make some decisions. But he didn’t get any reply from there and finally, he went back to his father.

All the people were pleased when he returned to the home. Kabir said I did not find the courage in anyone to say truth against Lord Niranjan Brahm law. Therefore, I am firmly determined to speak only fearless knowledge even if the world’s limit is broken or not. I will not care. 

Origin of loi devi

 

हिंदी अनुवाद—-

एक बार भगवान ऋषभदेव अपने सौ पुत्रों के साथ कचहरी मे धर्मसभा कर रहे थे। मुनि, ज्ञानी, विज्ञानी, पंडित,दीवान,प्रजागण सब विराजमान थे। उस समय भगवान ऋषभदेव की गोद मे कुछ पुत्र उछल कूद मचा रहे थे। इतने मे उनका यग्योपवित टूट गया। ऋषभदेव खड़े हो गये। कुछ पुत्र गिर पड़े और रोने लगे और बांकी पुत्र भाग गये। तब योगेश्वर कबीर कहने लगे कि हे पिताजी आप परम सतोगुणी होने पर हम सब बालकों को तिरस्कार कर क्यों खड़े हो गये? इसका क्या कारण है ? ऋषभदेव ने कहा कि खेल कूद मे यग्योपवित टूट गया। तब योगेश्वर कबीर बोले, ये संसार सब खेल कूद मे ही मग्न है।भजन मे तो बहुत कम संतगण ही रहते हैं।आप तो ब्रह्म विवेकी हो मगर आपका सिद्धांत दुनिया जैसा है। यग्योपवित टूटने पर आपके पुत्रो को चोट लगी और  बच्चों की आत्मा को जो  चोट पहुची, इसका विचार कर आपके हृदय मे दया भाव नहीं आयी? आप खड़े हो गये । यग्योपवित बड़ा हुआ या आत्मा ?  ब्रत का बंधन शरीर से होता है। ब्रत यानी सदाचार का नाम होता है। जैसे ब्रह्मचर्य,विद्याभ्यास, सत्यभाषण, दया, छलरहित, अहिंसा, किसी की निंदा न करना, राग द्वेष का त्याग। ये सब शरीर से होते हैं ना कि यग्योपवित से। ये सब भृम मात्र है। इसलिए आप भृम त्याग कर यग्योपवित हो छोड़ो। ये दुनिया का ढोंग है। बोलिये मेरी बात सत्य है कि असत्य?

भगवान ऋषभदेव ने कहा, हे मुनियो, ऋषियो, पंडितो ओर दीवानो, इस बात पर विचार कर उत्तर दो। तो सब मिलकर बोले कि हे प्रभू ,यदि हम इस यग्योपवित की मर्यादा तोड़ते है तो वर्णाश्रम की हद टूट जाती है। और अगर सत्य बोला जाये तो वह बोला नहीं जा सकता। इसलिए सवाल पूछने वाला ये तो लड़का है, आप ही कह दो असम्भो है। तब लड़के श्री योगेश्वर कहते हैं शम्भो कहाँ हैं? सबने कहा शम्भो कैलाश मे रहते हैं। योगेश्वर कबीर बोले मैं कैलाश मे जाता हूँ, और ऐसा कह साम के वक़्त उत्तराखंड की तरफ चल दिये। ऋषभदेव बोले, लड़का है घर जा रहा है पर योगेश्वर कबीर जंगल की तरफ चल दिये। यहां धर्मसभा समाप्त हुई और सभी लोग अपने घर की तरफ चल दिये।

निन्यानवे पुत्र भोजन करने लगे तब माता पिता को मालूम हुआ कि बड़ा पुत्र योगेश्वर कबीर नहीं है। भगवान ऋषभदेव ने उसको खोजने का हुक्म दिया। ढूंढने वालों को योगेश्वर कबीर का कहीं पता नहीं चला। उधर योगेस्वर कबीर कैलाश पहुँच गये और खड़े होकर शंकर जी को खोजने लगे। इतने मे सामने से एक देव निकल कर आया और बोला तुम कौन हो ? कहाँ जाते हो ? योगेश्वर कबीर बोले, क्या आप मुझे कैलाषपुर के पास ले जाओगे ? तब वह देव बोला, आइये, मेरे कंधे पर बैठ जाओ, मे कैलाश को ले जाता हूं। योगेश्वर कबीर बैठे और वह देव उनको बैकुण्ठ के द्वार पर जहां द्वार पर दो पहरेदार खड़े थे, उनकी इज़ाज़त लेकर अंदर चले गये। वहां भगवान विष्णु करोड़ों कामदेव के समान श्याम शरीर मे पीले वस्त्र पहने हुए कल्पव्रक्ष के नीचे महालष्मी के साथ चतुर्भुज रुप मे बैठे हुए थे। योगेश्वर कबीर ने उनको प्रणाम किया। भगवान विष्णु जी बोले आपके माता पिता सब कुशल से हैं ना ? आपका आना कैसे हुआ बताओ ओर लड़के को पकड़कर अपने पास बैठा लिया। योगेश्वर कबीर ने पूरी बात उनको बताई और कहा अब आप ही बताइये कि यग्योपवित बड़ा हुआ या जीव की आत्मा का दुखना?  विष्णु जी ने सोचा यदि जीव बड़ा है कहूंगा तो जगत की मर्यादा मिट जायेगी। इसलिए उन्होंने योगेश्वर कबीर को शंकर जी के पास भेज दिया।

योगेश्वर कबीर शिवलोक पहुंच गये। वहां देखते है कैलाश पर्वत के ऊपर एक वट का झाड़ है और चारों तरफ वर्फ़ से घिरा हुआ है। वहां यक्ष, गंधर्व, किन्नर, अप्सरायें, राक्षस, भूत प्रेत, पिसाच, बैताल, भैरव, भवानी, वीरभद्र, नंदी, गणेश, कार्तिक ओर सिद्ध गण  सहित नागों से सुशोभित हो रहे है और वट के नीचे बाघम्बर सिंहासन बिछा है और शिवजी नर मुंडों की माला पहनकर उसमें विराजमान हैं। उनके सर से गंगा की धारा बह रही है और उनके माथे के ऊपर अर्ध चंद्राकार तिलक सोभायमान हो रहा है।ऐसे रूप को देखकर योगेश्वर कबीर ने उनको प्रणाम किया। शिवजी ने प्रसन्न होकर उनको गले से लगा लिया और आशिर्वाद दिया और प्रेम से बोले भगवान ऋषभदेव आनंद पूर्वक है ? योगेश्वर कबीर बोले आपकी कृपा है। मेरे मन मे एक शंका है । शंकर जी बोले क्या है बताओ। योगेश्वर कबीर ने कहा हम सब भाई पिता जी की गोद मे खेल रहे थे, अचानक उनका यग्योपवित टूट गया और वे खड़े हो गए। उनके खड़े होने से हम लोग जमीन मे गिर गये ओर हमको चोट लग गयी। पिता को दया भी न आयी । यह देख हमारी आत्मा को दुःख पहुंचा।  अब आपही बताइये यग्योपवित बड़ा हुआ या आत्मा का दुखना ? इतना सुन शिवजी ने मौन धारण कर लिया। योगेश्वर कबीर बोले तो क्या आत्मा बड़ी है ? शिवजी बोले हूँ। योगेश्वर कबीर बोले तो क्या यग्योपवित बड़ा है ?  शिवजी बोले हूँ। योगेश्वर कबीर ने भगवान शंकर से कहा, क्या आप नाराज़ हो गए ? भगवान शंकर जी बोले हूँ, योगेश्वर कबीर बोले तो क्या मे चला जाऊं? भगवान शंकर बोले पार्वती जी आप इसका फैसला कर दीजिए। पार्वती जी बोले गणेश कर देंगे। गणेश जी बोले कार्तिकेश कर देंगे। और किसी ने योगेश्वर कबीर के प्रश्न का उत्तर नहीं दिया। योगेश्वर कबीर वहाँ से निरास होकर बैकुण्ठ निवासी भगवान विष्णु जी के पास पहुँचे ओर बोले मै शिवजी के पास गया था पर मेरे प्रश्न का उत्तर नहीँ मिला। अब आप ही कुछ निर्णय लीजिये। पर वहाँ से भी योगेश्वर कबीर को कोई उत्तर न मिला और वे वापस अपने पिताजी के पास चले गये।

योगेश्वर कबीर के वापस आने पर सभी लोग प्रसन्न हो गये। योगेश्वर कबीर बोले काल निरंजन के बताये ज्ञान के  समक्ष बोलने का साहस किसी मे नहीं पाया। इसलिए मै प्रण करता हूँ कि अब मै निर्भय ज्ञान की ही बात करूंगा चाहे जगत की मर्यादा भंग हो या न हो, मुझे इसकी परवाह  नहीं रहैगी।

           

2 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *