Sant Kabir Advice

Spread the love

Kabir’s philosophical tenets were extremely simple. He was known as the guiding spirit of the Bhakti Movement. He preached Bhakti or ‘Devotion’ through the medium of his ‘Dohas’. Kabir’s Dohas touched everybody’s heart and he was endeared by all.

कबीर के दार्शनिक सिद्धांत बेहद सरल थे। उन्हें भक्ति आंदोलन की मार्गदर्शक भावना के रूप में जाना जाता था । उन्होंने अपने ‘दोहा’ के माध्यम से भक्ति का प्रचार किया । कबीर के दोहों ने हर किसी के दिल को छू लिया और वह सभी से प्रभावित थे ।

कंचन काई ना लगे, आग ना कीड़ा खाय
बुरा भला होये वैषनु, कदि ना नरके जाय ।


KANCHAN KAAI NA LGEY, AAG NA KIDA KHAAY
BURA BHALA HOYE VAISHNU, KADI NA NARKEY JAAY

सोना में कभी काई नहीं लगता और आग को भी कीड़ा नहीं खा सकता है । इसी तरह वैष्णव बुरा या भला हो कभी नरक नहीं जा सकता है ।

Gold is never getting moss and insects cannot eat fire. Similarly, Vaishnavas (Lord Vishnu devotee) can never go to hell if they are bad or good.

आबत गारी ऐक है, उलटत होय अनेक
कहै कबीर नहि उलटिये, वाही ऐक का ऐक ।

AABAT GAARI EK HAI, ULTAT HOY ANEK
KHEY KABIR NHI ULATIYE, WAHI EK KA EK

कोई एक गाली देता है तो उलटकर उसे भी गाली देने पर वह अनेक हो जाता है । यदि उलट कर पुनः गाली नहीं दिया जाये तो वह एक का एक ही रह जाता है ।

If someone abuses one, then in turn he becomes abusive too. If not abused again, it remains the same.

कबीर आप ठगाइये, और न ठगिये कोई
आप ठगायै सुख उपजय, और ठगाये दुख होई ।

KABIR AAP THAGAAEYE, OR N THAGIYE KOI
AAP THAGAYE SUKH UPJAY, OR THAGAYE DUKH HOI

कबीर कहते हैं कि आप ठगे जाये तो कोई बात नहीं । आप किसी को मत ठगे । आप ठगे जायेंगे तो सुख मिलेगा पर दूसरे को ठगने से आप को दुख होगा ।

Kabir says that if you get cheated there is nothing. Do not cheat anyone. If you get cheated you will get happiness, but cheating others will hurt you.

कबीरा खड़ा बजार मे, मांगे सबकी खैर
ना काहु से दोस्ती, ना काहु से बैर ।

KABIRA KHADA BAZAAR MAI, MANGEY SABKI KHAIR
NA KAHU SE DOSTI, NA KAHU SE BAIR

कबीर संसार के बाजार में खड़े होकर सबके कल्याण की कामना करते हैं । उनकी न किसी से मित्रता है और नहीं किसी से शत्रुता । वे सबके लिये समता का भाव रखतें है ।

Kabir stands in the market of the world and wishes for the welfare of all. He is neither friend of anyone nor he has enmity with one. He maintains a sense of equality for all.

चतुर को चिंता धनी, नहि मूरख को लाज
सर अवसर जाने नहीं, पेट भरन सु काज ।

CHATUR KO CHINTA DHANI, NAHI MURAKH KO LAAJ
SER AVSER JANE NAHI, PET BHARAN SU KAAJ

एक चालाक व्यक्ति को हमेशा चिंता बनी रहती है और मूर्ख को कभी लज्जा नहीं आती है । दोनों को समय-कुसमय अवसर की चिंता नहीं होती और उन्हें केवल अपना पेट भरने से मतलव रहता है।

A clever person always worries and a fool is never ashamed. Both are not worried about the occasion of time and they only feel nauseous by filling their stomach.

जिन ढ़ूढ़ा तिन पाईया, गहरे पानी पैठ
जो बउरा डूबन डरा, रहै किनारे बैठ ।

JIN DHUNDA TIN PAAEYA, GAHREY PANI PAITH
JO BAURA DOOBAN DARA, RAHEY KINAREY BAITH

जो गहरे पानी में डूब कर खोजेगा उसे ही मोती मिलेगा । जो डूबने से डर जायेगा वह किनारे बैठा रह जायेगा । आत्म ज्ञान प्राप्ति के लिये गहन साधना करनी पड़ती है ।

The one who drowns in deep water will find the pearl. The one who is afraid of drowning will be sitting on the shore. To attain self-knowledge, deep meditation has to be done.

जग मे बैरी कोई नहीं, जो मन सीतल होये
या आपा को डारि दे, दया करै सब कोये ।

JUG MAI BAIREE KOI NAHI, JO MUN SEETAL HOYE
YA AAPA KO DAARI DE, DAYA KREY SUB KOYE

इस संसार में तुम्हारा कोई शत्रु नहीं हो सकता यदि तुम्हारा हृदय पवित्र एंव शीतल है । यदि तुम अपने घमंड और अहंकार को छोड़ दो तो सभी तुम्हारे उपर दयावान रहेंगे ।

You cannot have any enemy in this world if your heart is pure and cold. If you leave your arrogance and ego, then everyone will be kind to you.

जो तोको कांटा बुबये, ताको बो तू फूल
तोहि फूल को फूल है, वाको है तिरसूल ।

JO TOOKEY KANTA BUBYE, TAAKO BO TU FOOL
TOHI FOOL KO FOOL HAI, BAAKO HAI TIRSHUL

जो तुम्हारे लिये कांटा बोये तुम उसके लिये फूल बोओ । तुम्हारा फूल तुम्हें फूल के रुप में मिल जायेगा, परंतु उसका कांटा उसे तीन गुणा अधिक के रुप में मिलेगा । अच्छे कर्म का फल अच्छा बुरे का फल तीन गुणा बुरा मिलता है ।

Sow flowers for anyone who sows thorns for you. You will get your flower as a flower, but his thorn will get three times as much. The fruit of good deeds is good and for bad deeds it become three times.

बंदे तू कर बंदगी, तो पावै दीदार
औसर मानुस जनम का, बहुरि ना बारंबार ।

BANDEY TU KAR BANDAGI, TOH PAAVE DEEDAAR
OUSAR MANUS JANAM KA, BAHURI NA BARAMBAR

हमे ईश्वर की भक्ति से उनका दुर्लभ दर्शन प्रप्त हो सकता है । मानव जीवन का यह दुर्लभ अवसर बार-बार नहीं लौटेगा ।

We can get his rare vision by devotion to God. This rare opportunity of human life will not return again and again.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *