Science of psychic centres (Chakras)-

Spread the love
seven psychic centres

Meditation and yoga practice have a profound effect on a person. By continuously meditating following the restrained and equitable rules, the Kundalini gradually begins to awaken.

Kundalini is a divine power which is like a snake, with three and a half rounds. As snakes shed their skin through sloughing, they are symbols of rebirth, transformation, immortality, and healing. It is located in “Muladhara” the base of spine.It is described as a sleeping, dormant potential force in the human organism. It is one of the components of an esoteric description of the “subtle body“, which consists of nadis (energy channels), chakras (psychic centres), prana (subtle energy), bindu (drops of essence) and Sadhana (Sadhana is a spritual yoga activity to achieve a goal).

 According to Vedic rules, all living things are created by and comprised of energy. If a person’s energy rises from “Muladhara” and reaches “Sahasrar”, then that person attains divine power…

The names of the seven chakras are as follows-

  • Muladhara Chakra
  • Swadhisthan Chakra
  • Manipur Chakra
  • Anahata Chakra
  • Visuddhi Chakra
  • Aagya Chakra
  • Sahasrar Chakra

Muladhara Chakra

This chakra is the first psychic centre of chakra sadhana and yoga practice and is located between the genitals and the anus at the base of the spine. Muladhara sadhana is associated with the endocrine gland (pineal gland). It is related to the unconscious mind, in which the deeds and experiences of past lives are stored. Lord Ganesha is meditated at this place.

It is the energy of (red color) whose frequency is (UT- 396 Hz). It is the mantra (Om Lung) to awaken it. Chanting “Om Lung” ends the insecurity in your mind and brings prosperity in your life.

If your energy is strong in the base, then eating and sleeping will be the most powerful trends in your life”

Swadhisthan Chakra

This chakra is the second psychic centres of chakra sadhana and Yoga practice and is located slightly above the genitals and an inch below the navel. It is also called “Swadhisthan Chakra”. The literal translation of ‘swa‘ means itself and ‘sthan‘ means place. Human understanding begins with the centre. It has been said that this centre is the residence of the mind or the house of the unconscious mind.

The color of this energy is (orange) and the mantra to awaken it (Om Wong). The frequency of this energy is (RA-417 Hz). Lord Brahma is meditated at this place.

“If man’s energy is strong on this chakra, then enjoyment and luxury will be the most important in his life. Most of his time will be spent seeking and enjoying happiness in materiality.”

Manipur Chakra

This chakra is the third psychic centre of chakra sadhana and Yoga practice and is situated in the navel. This energy is of (yellow) colour and the mantra to awaken it (Om Rung). The frequency of this energy is (MI-528 Hz). Lord Vishnu is meditated at this place.

“If man’s energy is strong on this chakra, then you will be more active in activities. You will do many things in the world”.

Anahata Chakra

This chakra is the fourth cycle of chakra sadhana and Yoga practice and it is situated at a soft spot just below the ribs meet. This energy has a color (green) and a mantra to awaken it (Om yan). Lord Shiva is meditated on this cycle. The frequency of this energy is (FA-639 Hz).

” If the energy of man is strong on this chakra, then you will be a very creative person”.

Visuddhi Chakra

This chakra is the fifth cycle of chakra sadhana and yoga practice and is located in the pit below the throat. The color of this energy is (blue) and the mantra to awaken it (Om Hung). Lord Mother Jagadamba is meditated on this centre. The frequency of this energy is (SOL-741 Hz).

If the energy of man prevails on this chakra, then you will become a very powerful person”.

Aagya Chakra

This chakra is the sixth psychic centre of chakra sadhana and yoga practice and it is situated between the two eyebrows. The color of this energy is (dark blue) and the mantra to awaken it (Om). This centre is meditated upon. The frequency of this energy is (LA-852 Hz). It is also called the third eye of the soul and the circle of consciousness. The pineal gland (six senses) is estimated from here.

If the energy of man is strong on this chakra, then you reach the command, then you become enlightened at the intellectual level as well as peaceful, but you do not become enlightened at the level of experience. Regardless of what is happening outside, there remains a kind of peace and stability in you“.

Sahasrar Chakra

It is the seventh chakra of the chakra sadhana and yoga practice and is situated in a soft place above the head. This energy has a color (purple). Brahma is meditated on this cycle. The frequency of this energy is (963 Hz). If man’s energy is strong on this chakra, then there is an explosion of ecstasy inside you, ie “Myself Brahmasmi” (The knowledge in which a person is detached from the world and gets absorbed in God).

Whatever you feel inside you is just an expression of your life-energy. Happiness, sorrow, anger, peace, joy and infinite joy are all different levels of expression of the same energy. These are the seven dimensions which are under Brahm and through which every person expresses himself”.

The Guru (Spiritual Master) occupies the eighth position above the body. The ninth place is that of “Parbrahma” (beyond all descriptions and concept) and the tenth place is that of “Purna Brahm” (Best soul/ Supreme God).

The best example of defining Brahm, Parbrahm, Purn Brahm, world and its creature is given by “Sant Kabir”.He says that this is an reverse tree in which seed is “Purn Brahm’, Roots of tree is “Par Brahm”, trunk is“Brahm”, branch are “God and Goddesses” and  leaves are “all Creature of world”. The one who knows this is aware of the Vedas.

In mahabharata, giving Gita knowledge, Shri Krishna told Arjuna in Kurukshetra that it is an indestructible tree. Its roots are upward and branches are downwards which develop from the three qualities of the organism, Satoguna, Razoguna and Tamoguna. Its leaves are Vedic source. Its leaves are subject to senses.

चक्रों का विज्ञान

ध्यान और योग साधना का व्यक्ति पर गहरा प्रभाव होता है। संयमित और सम्यक नियमों का पालन करते हुए लगातार ध्यान करने से धीरे-धीरे कुंडलिनी जाग्रत होने लगती है। कुंडलिनी एक दिव्य शक्ति है जो सर्प की तरह साढ़े तीन फेरे लेकर शरीर के सबसे नीचे के चक्र मूलाधार में स्थित होती है। वैदिक नियमों के अनुसार यदि किसी व्यक्ति की ऊर्जा मूलाधार से उठकर सहस्त्रार तक पहुंच जाए तो वह व्यक्ति दैवीय शक्ति प्राप्त कर लेता है।

सात चक्रों के नाम इस प्रकार हैं

मूलाधार चक्र

यह चक्र योग साधना का पहला चक्र है तथा रीढ़ की हड्डी के आधार पर जननेन्द्रियों और गुदा-द्वार के बीच स्थित है। मूलाधार साधना अंतःस्रावी ग्रंथि (पीनियल ग्लैंड) से जुड़ी है। इसका संबंध अचेतन मन से है, जिसमें पिछले जीवनों के कर्म और अनुभव संचित रहते हैं। इस स्थान पर भगवान गणेश का ध्यान किया जाता है।

यह (लाल रंग) की ऊर्जा है जिसकी आवृति (UT- 396 हर्ट्ज) है। इसको जाग्रत करने का मंत्र ( लं) है। “ॐ लं” का जाप करने से आपके जहन में मौजूद असुरक्षा का भाव समाप्त होता है और आपके जीवन में समृद्धि आती है।

अगर आपकी ऊर्जा मूलाधार में प्रबल है, तो खाना और सोना आपके जीवन में सबसे प्रबल प्रवृत्तियाँ होंगी।

स्वाधिष्ठान चक्र

यह चक्र योग साधना का दूसरा चक्र है तथा जननेन्द्री से थोड़ा ऊपर और नाभि के एक इंच नीचे यह चक्र स्थित है। इसे धार्मिक चक्र अथवा उदर चक्र भी कहा जाता है। `स्वा‘ का शाब्दिक अनुवाद स्वयं और `स्थान‘ का मतलब जगह होता है । स्वाधिष्ठान चक्र से मानवी समझ की शुरूआत होती है। ऐसा कहा गया है कि यह चक्र मन का आवास अथवा अचेतन मन का घर होता है।

इस ऊर्जा का रंग (नारंगी) है और इसको जाग्रत करने का मंत्र ( वं) है। इस ऊर्जा की आवृति (RA-417 हर्ट्ज) है। इस स्थान पर भगवान ब्रह्मा का ध्यान किया जाता है।

यदि मनुष्य की ऊर्जा इस चक्र पर प्रबल है, तो उसके जीवन में भोग-विलास सबसे ज़्यादा अहम होगा। उसका अधिकांश समय भौतिकता में सुख को ढूंढने व उसका आनंद लेने में व्यतीत होगा।

मणिपुर चक्र

यह चक्र साधना का तीसरा चक्र है तथा नाभि के ठीक नीचे स्थित है। इस ऊर्जा का रंग (पीला) है और इसे जाग्रत करने का मंत्र (रँ) है। इस ऊर्जा की आवृति (MI-528 हर्ट्ज) है। इस स्थान पर भगवान विष्णु का ध्यान किया जाता है।

यदि मनुष्य की ऊर्जा इस चक्र पर प्रबल है, तो आप गतिविधियों में ज़्यादा सक्रिय होंगे। आप दुनिया में अनेक काम करेंगे।

अनाहत चक्र

यह चक्र योग साधना का चौथा चक्र है तथा यह पसलियों के मिलने की जगह के ठीक नीचे का कोमल स्थान पर स्थित है। इस ऊर्जा का रंग (हरा) है और इसे जाग्रत करने का मंत्र ( यं) है। इस चक्र पर भगवान शिव का ध्यान किया जाता है। इस ऊर्जा की आवृति (FA-639 हर्ट्ज) है।

यदि मनुष्य की ऊर्जा इस चक्र पर प्रबल है, तो आप काफी सृजनशील इंसान होंगे।

विशुद्ध चक्र

यह चक्र तंत्र और योग साधना का पाँचवा चक्र है तथा यह गले के नीचे के गड्ढे में स्थित है। इस ऊर्जा का रंग (नीला) है और इसे जाग्रत करने का मंत्र ( हं) है। इस चक्र पर माँ जगदम्बा का ध्यान किया जाता है। इस ऊर्जा की आवृति (SOL-741 हर्ट्ज) है।

यदि मनुष्य की ऊर्जा इस चक्र पर प्रबल है, तो आप एक बहुत शक्तिशाली इंसान बन जाएंगे।

आज्ञा चक्र

यह चक्र तंत्र और योग साधना का छटा चक्र है तथा यह दोनों भौंहों के बीच स्थित है। इस ऊर्जा का रंग (गहरा नीला) है और इसे जाग्रत करने का मंत्र () है। इस चक्र पर का ध्यान किया जाता है। इस ऊर्जा की आवृति (LA-852 हर्ट्ज) है। इसे आत्मा की तीसरी आँख व चेतना चक्र भी कहा जाता है। पीनियल ग्लैंड (six sense) का अनुमान यहीं से होता है।

यदि मनुष्य की ऊर्जा इस चक्र पर प्रबल है, तो आप आज्ञा पर पहुँच जाते हैं, तब आप बौद्धिक स्तर पर प्रबुद्ध होने के साथ–साथ शान्तिमय हो जाते हैं, लेकिन आप अनुभव के स्तर पर प्रबुद्ध नहीं बनते। बाहर चाहे जो कुछ भी घटित हो रहा हो, उसके बावजूद आपके अंदर एक तरह की शांति और स्थिरता बनी रहती है।

सहस्त्रार चक्र

यह चक्र तंत्र और योग साधना का सातवाँ चक्र है तथा यह सिर के ऊपर कोमल स्थान पर स्थित है। इस ऊर्जा का रंग (बैगनी) है । इस चक्र पर ब्रह्म का ध्यान किया जाता है। इस ऊर्जा की आवृति (963 हर्ट्ज) है। यदि मनुष्य की ऊर्जा इस चक्र पर प्रबल है, तो आपके अंदर परमानंद का विस्फोट होता है यानी अहंम ब्रह्मास्मि। जिसे समझाया नहीं जा सकता।

आपको अपने भीतर जो भी अनुभव होता है, वह बस आपकी जीवन- ऊर्जा की अभिव्यक्ति मात्र है। सुख, दुख, क्रोध, शान्ति, खुशी, आनन्द और असीम आनन्द, यह सब एक ही ऊर्जा की अभिव्यक्ति के अलग- अलग स्तर हैं।  यही वो सात आयाम हैं जो ब्रह्म के अधीन हैं तथाजिनके माध्यम से हर इंसान ख़ुद को व्यक्त करता है।

शरीर के ऊपर आठवां स्थान गुरु का है। नवाँ स्थान परब्रह्म का तथा दसवाँ स्थान पूर्णब्रह्म का है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *