Shiva’s Prasadam

Spread the love
Mahadev Shankar

The people of the village were very religious. Most of them women and men used to go to the temple to worship and worship Mahadev Shiva in the month of Sawan and worshiped him by offering flowers and Bel’s tree leaflets to their worship. Sravana is the fifth month of the Hindu year, beginning in late July from the first day of the full moon and ending in the third week of August.


bilva tree (Aegle marmelos)

Bel patra is a leaf of Bel / bilva tree (Aegle marmelos). It is widely used in worship of Hindu dieties, especially Shiva. … It is said that the one who offers a trifoliate bel patra to the Shivlinga with devotion, Lord Shiva blesses him/her with whatever he/she desires.

Lingam

Shivalinga (meaning symbol, mark or sign) is also called Linga, Lingam or Shiva Lingam. It is a statue of the Hindu god Shiva. It is naturally established in Swayambhu and most Shiva temples.

It is said that the God whose temple we go to, the qualities of that God come inside us. According to Vedic religion, the month of Shravan is considered to be the best for praising Mahadev Shiva. As the month of Sawan approaches, devotees try to please Mahadev Shankar. There is a law to offer Ganga water as well as Bel leafs on Shivling.

Village View

There was great prosperity in the village. All the people used to celebrate the holy festivals together. Due to excessive rains in the month of Shravan, the fields fill the water in the barns and the risk of diseases also increases due to various types of germs.

Vaidya

Once an epidemic spread in the village due to which many people became ill. There was also no hospital around the village. There lived a Vaidya who used to cure sick people through herbs. Due to the outbreak of epidemics, there used to be sick people coming there.

Once a sick person asked Vaidya that the whole Shravan month fasted Lord Shiva but still the disease surrounded him. What could be the reason for this? Vaidya said that you may not have worshiped Lord Shiva properly. Many diseases are cured by their offerings themselves. Vaidya asked that you could not get any benefit from the Bel Patri you had offered to Lord Shiva. The sick person asked why?

Bel Leaflets

Vaidya said that by touching the bell leaf to Lord Shiva and bringing the bell leaf as his prasadam, if you had taken his diet, you would not have fallen ill because he has the unique ability to fight heart diseases. Taking the form of Prasad doubles its capacity. Nature has given us many such plants which we can call a boon, out of which the vine letter is one such tree. In reducing high blood pressure, poor cholesterol, obesity, sugar, bell leaf is considered to be the best medicine.

There is no use of leaving Bel Patri in the temple. The priests throw those bell leaves in the garbage heap. Which does not benefit anyone? The material offered to God is his offering. In this way, following the opinion of the Vaidya, grinding the five leaves of Bel Patri into a stone and boiling it in plenty of water, cooling it and drinking it made many sick people in the village healthy.

शिव का प्रसाद

गांव के लोग बड़े धार्मिक थे। उनमें से ज्यादातर महिलायें व पुरुष सावन के महीने में भगवान शिव की आराधना व पूजा करने के लिये मंदिर में जाते थे और अपने आराध्य को फूल व बेल पत्री चढ़ाकर उनकी आराधना किया करते थे। कहते हैं कि हम जिस ईस्वर के मंदिर में जाते हैं तो उस ईस्वर के गुण हमारे भीतर आ जाते हैं। वैदिक धर्म के अनुसार श्रावण का महीना भगवान शिव की स्तुति करने के लिये श्रेष्ठ माना जाता है। सावन का महीना आते ही श्रद्धालु महादेव शंकर को प्रसन्न करने की कोशिश में जुट जाते हैं. शिवलिंग पर गंगाजल के साथ-साथ बेल पत्र भी चढ़ाने का विधान है

गांव में बड़ी खुशहाली थी। सभी लोगों पवित्र त्योहारों को मिल जुलकर मनाते थे। श्रावण के महीने में अत्यधिक बरसात होने के कारण खेत खलिहानों मे पानी भर जाता है तथा तरह- तरह के कीटाणुओं के पनपने के कारण बीमारियों का खतरा भी बढ़ने लगता है।

एक बार गाँव में महामारी फैल गयी जिस कारण बहुत सारे लोग बीमार हो गये। गाँव के आसपास कोई अस्पताल भी नहीं था। वहाँ एक वैद्य रहते थे जो जड़ी बूटियों के माध्यम से बीमार लोगों का उपचार किया करते थे। महामारी फैलने के कारण वैद्य के वहाँ बीमार लोगों का आना जाना लगा रहता था।

एक बार एक बीमार व्यक्ति ने वैद्य से पूछा कि पूरे श्रावण महीने भगवान शिव का उपवास किया लेकिन फिर भी बीमारी ने घेर लिया। इसका क्या कारण हो सकता है। वैद्य ने कहा कि शायद तुमने भगवान शिव की आराधना ठीक प्रकार से नहीं की होगी। उनके प्रसाद से तो बहुत सारी बीमारियाँ खुद ही ठीक हो जाती हैं। वैद्य ने पूछा कि तुमने जो बेल पत्री भगवान शिव को चढ़ाई थी, उसका तुमको कोई लाभ न मिल सका। बीमार व्यक्ति ने पूछा कि ऐसा क्यों

 वैद्य ने कहा कि भगवान शिव को बेल पत्री स्पर्श कराकर उनके प्रसाद के रूप में बेल पत्री को लाकर यदि तुम उसका आहार कर लेते तो तुम बीमार ही नहीं पड़ते क्योंकि उसमें ह्रदय रोगों से लड़ने की अदभुद क्षमता होती है। । कुदरत ने हमें कई ऐसे पौधे दिए हैं जिन्हें हम वरदान कह सकते हैं इनमे से बेल पत्र  भी ऐसा ही एक पेड़ है |  प्रसाद रूप में लेने से उसकी क्षमता दुगुनी हो जाती है। उच्च रक्तचाप, खराब कैलेस्ट्रोल, मोटापा, शुगर, को कम करने में बेल पत्री सर्वोत्तम ओषधी मानी जाती है।

 बेल पत्री को मंदिर में छोड़कर आने का कोई फायदा नहीं है। पुजारी उन बेल पत्री को कूड़े के ढेर में फेंक आते हैं। जिसका किसी को कोई फायदा नहीं होता। ईस्वर को चढ़ाई गयी सामग्री ही उनका प्रसाद होती है। इस प्रकार से वैद्य के राय मानकर बेल पत्री के पाँच पत्तों को पत्थर में पीसकर तथा पानी में खूब उबालकर, ठंडा करके पीने से गाँव के बहुत से बीमार लोग स्वस्थ हो गये।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *