The unaware mystery of the Mahabharata- Part 2

Spread the love
Story ahead from Part-1

The end of Tripurasur by Shankar-

Shankar made charioteer to complete the firing to kill Tripurasur. The sun and the moon became wheels of that chariot. The sky made the flag and made the bow of the Mount Sumeru. Vashuki made string, and Narayan Vishnu himself became the weapon of that bow. Brahma started running the chariot.

There were three regions in the sky of Tripurasur. He used to roam the sky. Nobody knew where Tripurasur is, and it was not known to anyone. Shankar thought that on the day that these three regions will come in a straight line in the sky, they will kill Tripurasur on the same day. After a long time, the day that Shankar was waiting to come, the day Shankar finished the Tripurasur monster along with all his three regions.

Tripurasur’s killing sin to Shankar –

After this Vishnu asked Shankar that Tripurasur was a great devotee that is why you have even sinned to kill the devotee. Its remedies are that you go roaming for begging on earth, If possible, take Brahmakpal too so that both of your sins can end together.

Shankar becomes sin free –

According to Vishnu, Shankar started roaming around asking for alms. Shankar had been freed for a short time from one of the two sins, but now wanted to remove the sin of killing the devotee. He wanted his sin to transfer someone else. Thinking that one day he reached the palace of Lakshmi to ask for begging.

There were thousands of doors in the palace of Lakshmi In the door to which Shankar used to go, one leg was kept in front of the door and kept a leg out and asked for alms. But Lakshmi (The wife of Vishnu) knew that if Shankar pulled out his leg outside the door while taking a beggar then I would get his sin. That is why she wanted that Shankar should stand out from the door and ask for begging. Every time she tells Shankar to come from another door. But in every gate, he stands with the same style. In this way, Shankar could not succeed in getting a begging from Lakshmi.

After a long time, Shankar donated Pinddan (The offering of libations of water to the Gods) and the sin of killing the devotee was exempt from them.

Shankar live near Godavari river

Shankar came to roaming south India and stayed there and took the water of Godavari river water. Narad saw this and went to Kailash Mountain. There Parvati and Ganga asked him where Shankar is?  Have you seen somewhere? Narad said that he is consuming river Godavari. He has forgotten you. Both of them were very upset after hearing this.

One day when Shankar reached Kailash, Ganga and Parvati asked, why did you need to settle on Godavari side while we are here? Why did you go there? Both of them attacked a lot on Shankar.

Shankar said that I am very tired and you are attacking. He got very angry Shankar had straightened the Ganda in his head; He told Ganga that you go and get born in the earth. Parvati was afraid that if Shankar would send me anywhere in anger. That is why she held the feet of Shankar and said that you calm down your anger. I had already received a curse of having five husbands from Kamdhenu.

Where Shankar was going to be silent, he told Parvati that I will be born as a Pandavas in Dwapar era and you born there in Dhrupad home. Then I will marry you at that time.

Pandava in the form of Shiv Parvati

Parvati was born as Droupdi and was part of Shankar was Pandava. Ganga after landing on earth became the wife of Shantanu. There was a king Susharma. Sushila was his wife. One day the King was playing the forest hunting game. At that time, Sushila had a desire to become a child. He ordered his maid to go and bring the king’s semen. I have to produce a child from that semen.

The maid made the form of a cat before bringing the semen of the king. While coming back, when she was crossing the Ganges River, so the semen fell to the river. The semen was eaten by a fish, from which Matsygandha was born.

When Shantmanu married Ganga at the time of marriage, the Ganga took a pledge of peace that they would not oppose them in any work.

After marriage, the eight objects appear towards Ganga and say that we have received the curse of being born in the earth but have not received the curse of living. That’s why we want to be born from your womb. You leave us as soon as we are born.

Does Ganga say that even after producing eight people, I will not get a child then what is the advantage? She says that if one of the eight children I can care then ready to get you started from my womb.

Origin of Gangeya-

When Ganga made the first child, then she poured it into the water. Similarly, he did the second, third, fourth, fifth, sixth and seventh child also. Shantanu was seeing all this happening. He was thinking that he could not say anything.

When the Ganga gave birth to the eighth child, Shantanu thought that it would shed it too. That is why he objected to the Ganges. Ganga said that you had promised not to stop any work from me. But you did not play it. I myself wanted to tell you that we will get this child. The Ganga took that child with him and kept saying that now I do not have to stay with you.

Ganga’s child care

Going from there, Ganga nurtured the boy and named him Gangeya. In those days, it was custom to keep the name of the child in the name of the mother. She sent Gurukul to Gangeya for his education. When Gangeya came back from school, Ganga asked what happened today. He said that today there was the talk of that Rama was great or Parasurama was great?

On asking the mother, Gangeya said that these questions were asked to me too. When Ganga was asking this question, then Parasurama was passing from there. His focus was on communicating what the child answered.

The boy said that I told Shri Ram was great than Parsurama because Parasurama had suffered was transient. On father’s call, he separated his mother’s head from the fur, who has twinned again by requesting his father. While the other side, by ordering the father’s command, Shri Ram took a lot of hardship while cutting the fourteen years in the dense forest. After this, he also performed well as a king of Ayodhya. That’s why I consider Ram as a great personality.

Remaining part of the story in – part 3….

 

महाभारत का अनजान रहस्य । भाग दो

शंकर द्वारा त्रिपुरासुर का अंत-

शंकर जी ने त्रिपुरासुर का वध करने के लिये पूरी धूनी को रथ बनाया। सूर्य और चन्द्र उस रथ के पहिये बने। आकाश ध्वजा बना और सुमेरु पर्वत को धनुष बनाया। वाशुकी की प्रत्यञ्चा बनाई तथा खुद नारायण उस धनुष के नारायण अस्त्र बने। ब्रह्मा जी रथ चलाने लगे।

त्रिपुरासुर के आकाश में तीन लोक थे। वह आकाश में घूमते रहते थे। त्रिपुरासुर किस लोक में है, यह किसी को पता नहीं चलता था। शंकर जी ने विचार किया कि जिस दिन ये तीनों लोक आकाश में एक सीध में आ जाएंगे, उसी दिन वे त्रिपुरासुर का वध करेंगे। काफी समय बीतने के बाद शंकर जी को जिस दिन का इंतजार था, वह दिन आ गया और शंकर जी ने एक ही वाण से त्रिपुरासुर राक्षस के साथ-साथ उसके तीनों लोकों का भी समाप्त कर दिया।

भक्त को मारने का पाप शंकर जी को –

इसके बाद विष्णु जी ने शंकर जी से कहा कि त्रिपुरासुर बड़ा भक्त था इसलिये भक्त को मारने का पाप भी आपको लगा है। इसका उपचार यह है कि तुम धरती पर भिक्षा मांगते हुए घूमो, हो सके तो ब्रह्मकपाल को भी ले लो ताकि तुम्हारे दोनों पापों एक साथ खत्म हो जायें।

शंकर जी का पाप मुक्त होना-

विष्णु जी के कहे अनुसार शंकर जी भिक्षा मांगने के लिये घूमने लगे। शंकर जी दोनों पापों में से एक से तो थोड़े समय के लिये छुटकारा पा गये थे मगर अब भक्त की हत्या का पाप हटाना चाहते थे। वह चाहते थे कि उनका यह पाप किसी और के पास चला जाये। यह सोचकर वे एक दिन लक्ष्मी जी के महल में भिक्षा मांगने पहुंच गये।

लक्ष्मी के महल में हज़ारों दरवाज़े थे। शंकर जी जिस दरवाज़े में जाते तो अपना एक पैर दरवाज़े के अंदर ओर एक पैर बाहर रखकर भिक्षा मांगते थे। मगर लक्ष्मी जी जानती थी कि कहीं शंकर जी ने भिक्षा लेते समय अपना पैर दरवाज़े के बाहर खींच लिया तो उनका पाप मुझे लग जायेगा। इसलिये वह चाहती थी कि शंकर जी दरवाज़े के बाहर से खड़े होकर भिक्षा माँगे। वह हर बार शंकर जी से दूसरे दरवाज़े से आने को कहती। मगर शंकर जी जिस दरवाज़े से जाते, उसी स्टाइल के साथ खड़े हों जाते। इस प्रकार वे लक्ष्मी जी से भिक्षा पाने में सफल नहीं हो पाये।

बहुत समय बाद शंकर जी ने उसका पिंड दान किया तो भक्त की हत्या का पाप उनसे छूट गया।

शंकर जी का गोदावरी पर रहना-

शंकर जी घूमते-घूमते दक्षिण भारत आ गये और वहाँ रहकर गोदावरी नदी के पानी का सेवन करने लगे। नारद जी ने यह सब देखा, और कैलाश पर्वत पर गये। वहाँ पार्वती और गंगा ने उनसे पूछा कि शंकर जी कहाँ हैं, क्या आपने कहीं देखा है? नारद जी ने कहा कि वे गोदावरी नदी का सेवन कर रहे हैं। वह तुमको भूल गये हैं। यह बात सुनकर दोनों बहुत परेशान हुई।

एक दिन शंकर जी कैलाश पहुंचे तो गंगा और पार्वती ने पूछा कि हम दोनों के रहते आपको गोदावरी के किनारे बसने की क्या जरूरत पड़ गयी। आप वहाँ क्यों चले गये थे ? उन दोनों ने शंकर जी के ऊपर खूब हल्ला मचाया।

शंकर जी ने कहा कि मैं बहुत थक गया हूँ और तुम हल्ला मचा रहे हो। उनको बहुत गुस्सा आया। उन्होंने गंगा को अपनी जटाओं में साधते हुए कहा कि तुम जाओ और भू लोक में पैदा हो जाओ। पार्वती जी डर गयी कि शंकर जी गुस्से में मुझे भी कहीं और न भेज दें। इसलिये उन्होंने शंकर जी के पैर पकड़ लिये और कहा कि आप अपना गुस्सा शांत करिये। मुझे तो पहले ही कामधेनु से पाँच पति होने का श्राप मिला है।

शंकर जी ने पार्वती से कहा कि मैं द्वापरयुग में पांडवों के रूप में जन्म लूंगा और तुम ध्रुपद के वहाँ जन्म ले लेना। तब मैं उस समय तुम्हारे साथ शादी करूँगा।

पांडव शिव पार्वती के स्वरूप-

पार्वती द्रोपदी के रूप में पैदा हुई और पाँडव शिव के अंश थे। गंगा भूलोक में उतरकर शान्तनु की पत्नी हो गयी। एक सुसर्मा नाम का राजा था। सुशीला नाम की उसकी पत्नी थी। एक दिन राजा शिकार खेलने जंगल गया था। तभी सुशीला को सन्तान उत्पत्ति की इच्छा हुई। उसने अपनी दासी को आदेश दिया कि जाओ और राजा का वीर्य लेकर आओ। मुझे उस वीर्य से सन्तान उतपन्न करनी है

दासी ने राजा का वीर्य लाने से पहले एक बिल्ली का रूप बना लिया। वापस आते समय जब वह राजा का वीर्य लेकर गंगा नदी को पार कर रही थी, तो वीर्य नदी में गिर गया। वीर्य को एक मछली ने खा लिया, जिससे मत्स्यगंधा पैदा हुई। शान्तनु जब गंगा से शादी की। शादी के समय गंगा ने शान्तनु से वचन लिया कि वे किसी भी कार्य में उनका विरोध नहीं करेंगे।

शादी होने के बाद गंगा से अष्ट वस्तुऐं प्रकट होती हैं और कहती हैं कि हमको भू लोक में पैदा होने का श्राप मिला है परंतु जीने का श्राप नहीं मिला है। इसलिये हे गंगे हम तुम्हारे गर्भ से पैदा होना चाहते हैं। तुम हमें पैदा होते ही छोड़ देना। गंगा कहती है कि आठ लोगों को पैदा करके भी मुझे सन्तान प्राप्ति नहीं होगी तो क्या फायदा। गंगा कहती है कि आठ में से एक संतान का सुख प्राप्त होता हो तो मैं तुमको अपने गर्भ से उतपन्न करने को तैयार हूं।

गांगेय की उतपत्ति-

जब गंगा ने पहली संतान उतपन्न करी तो उसे पानी में बहा दिया। इसी प्रकार उन्होंने दूसरी, तीसरी, चौथी, पांचवी, छटी और सातवीं संतान के भी साथ किया। शान्तनु ये सब होते हुए देख रहे थे। वह सोच रहे थे कि वह कुछ कह भी नहीं सकते।

गंगा ने जब आठवीं संतान को जन्म दिया तो शान्तनु ने सोचा कि यह इसे भी बहा देगी। इसलिये उसने गंगा से आपत्ति कर दी। गंगा ने कहा कि तुमने मुझसे किसी भी काम नहीं टोकने का वचन दिया था। मगर तुमने उसे नहीं निभाया। मैं तो स्वयं तुमको बताना चाहती थी कि इस संतान को हम पालेंगे। गंगा ने उस संतान को अपने साथ लिया और यह कहते हुए चल दी कि अब मुझे तुम्हारे साथ नहीं रहना है।

गंगा द्वारा गांगेय का पालन-

वहाँ से जाकर गंगा ने बालक का पालन पोषण किया और उसका नाम गांगेय रखा। उन दिनों बालक का नाम माता के नाम से मिलता जुलता रखने का रिवाज था। गंगा के उसे विद्या हेतु गुरुकुल भेजा। एक जिन जब गांगेय विद्यालय से वापस आया तो गंगा ने पूछा कि आज क्या हुआ। गांगेय ने कहा कि आज वहाँ इस बात की चर्चा थी कि राम महान थे कि परसुराम ?

माता के पूछने पर गांगेय ने कहा कि मेरे से भी ये प्रश्न पूछा गया। जब गंगा यह प्रश्न पूछ रही थी तो वहाँ से परसुराम गुज़र रहे थे। उनका ध्यान संवाद पर था कि बालक क्या उत्तर देता है। बालक ने कहा कि मैंने श्री राम को महान बताया क्योंकि परसुराम ने जो दुख झेला था वह तो क्षणिक था। पिता कहने पर उन्होंने अपनी माता का सर धड़ से अलग कर दिया था जिसे पिता से अनुरोध करके फिर से जुड़वा लिया था। जबकि पिता की आज्ञा पाकर श्री राम ने चौदह वर्षों का बनवास काटते हुए बहुत कष्ट उठाये। इसके बाद उन्होंने अयोध्या का राज-काज का भी बखूबी निर्वहन किया। इसलिये मैं राम को महान मानता हूँ।

……….शेष महाभारत का अनजान रहस्य भाग 3 में

 
 

2 Comments

  1. Hi, santkabir.org

    I’ve been visiting your website a few times and decided to give you some positive feedback because I find it very useful. Well done.

    I was wondering if you as someone with experience of creating a useful website could help me out with my new site by giving some feedback about what I could improve?

    You can find my site by searching for “casino gorilla” in Google (it’s the gorilla themed online casino comparison).

    I would appreciate if you could check it out quickly and tell me what you think.

    casinogorilla.com

    Thank you for help and I wish you a great week!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *