The unaware mystery of the Mahabharata- Part 3

Spread the love
Story ahead from Part-2

To learn the weapon of Gangeya-

Parasuram was very pleased to hear this. He came to the Ganges and said that if you want, I want to teach this child the weapon. With the consent of the Ganga, he took the child to his hermitage and trained him in weapon and handed him over to the mother Ganga.

The End of Vichitravirya and Chitrangad-

Vichitravirya was the son of the king Shantanu and Queen Satyavati. His elder brother’s name was Chitrangad. After the death of father Shantanu, Chitrangad sat on the throne, but he could not rule for a long time. He was killed in the hands of a Gandharva of Chitrangad. After this, Vichitravirya became the official of the throne. The cause of their death itself is to doubt them. It was suspected that why Bhishma’s lives in our house at night.

One day when Bhishma’s came to meet his mother at night, he started to secretly see what he did. He saw that Bhishma’s was suppressing the feet of his mother like he was suppressing his grandmother. Seeing this incident, both the brothers were very upset over the incident.

The next day he asked Bhishma Pitamah if one suspects his brother or mother’s character, then what is the provision of punishment for them? Bhishma easily replied that such people should sit in the hollow root of Peepal’s dry tree and burn them.

Marriage of Vichitrvirya by Bhishma –

Bhism by their own self kidnapped three daughters of King Kashi from a marriage celebration in Kurukshetra. Many of his kings opposed him. They also fought with Shakya but none of the other warriors could win. Bhishma married two daughters with Vichitravirya in King’s palace. His names were Ambika and Ambalika.

The third Princess Amba told that she has already got married to Shalev by her mind, so she should be sent with shelve. Vichitravirya was of Sexual tendency and used to drink alcohol. He had doubts about his mother, so he got death in the meanwhile.

Satyavati was anxious to pursue the generation ahead. Bhishma had taken the Brahmacharya fast (Avoiding compulsive sexual intercourse). Satyavati, as the mother of the mother, called Dwepayan, who could give the son. Dwepayan was the son of Satyavati’s childhood. Seeing the ugliness of Vyas at the time of sex, Ambika bowed his eyes, so her son Dhritarashtra had born blind by birth. On seeing Vyas, Ambalika becomes yellow, so her son Pandu born yellow.

Satyavati sent Ambika to Vyas with the wishes of one more son, but Ambika sent her maid. Vidur was born to him.

Son of Pandu-

According to the Mahabharata, Pandu was the son of Vichitrvirya the King of Hastinapur and son of his second wife Ambalika. He was born as a boon to Maharishi Ved Vyas. He was the father of the Pandavas and the younger Brothers of Dhritarashtra. At the time when Dhritarashtra was being nominated to handle the throne, then Vidur opposes by the political ground that a blind person could not be a king. So the Pandu was declared the king of Hastinapur.

Once Maharaj Pandu was roaming in the forest with his two queens, Kunti and Madri. He turned arrows into the confusion of deer which hit a sage… At that time, sage was Coitus with his wife. Therefore, he cursed Pandu that just as I am going to die, in the same way, you will die when you will be on cursed with your wife.

There was no child of Pandu at that time and for this reason, he got distracted. He told this to his great queen Kunti. Then she said that sage Durvasa had given him a boon that she could appeal to any god and get children from them.

On the sayings of Pandu, Kunti appealed to several Gods one by one. Thus Madri also appealed to the Gods. Kunti got three sons and Madri got two sons, Yudhishthira was the eldest in all sons. The other sons of Kunti were Bhima and Arjuna and Nakul and Sahdev by Madri.

One day it was a rainy day and Pandu and Madri were walking in the forest. At that time, Pandu could not control his sexual arousal and did sexual intercourse with her co-wife Madri. Then the curse of the sage became fruitful as the death of Pandu.

Teaching of weapon to Pandu’s son Pandava by Sage Shukra-

Pandava had big eyes like bulls. After the successful rite of childhood, they become perfect in Veda’s knowledge and in weapon handling.

Bharat was a son of the Shariati dynasty, whose name was Shuk. He was perfect to defeat enemies with his power. He had taken possession of the entire Earth at some time on the strength of his bow. By worshiping hundreds of big yajna like Ashwamedha and worshiping all Gods and ancestors, the ultimate intelligent King Shuk came to Shatashrung Mountain and practiced penance while having a vegetarian diet. The same ascetic king enhanced the ability of Pandava’s by their superior equipment and education. All Pandavas became proficient to fire bow by the grace of sage Shuk.

Bhimsen was proficient in mud operation and Yudhishthar in throwing Tomar. Among the best and powerful men, both Madi’s son was a master of the art of running the sword. Arjuna was a learned scholar of Dhanurveda (Dexterous). When the Shanku realized that Arjuna became a knower of the same treasure, Then they were very pleased and gave a lot of energy, khadg, arrows, palm-like palm-like fur and shimmery bow and leeks, and slogans to Arjuna.

Weapon etc. All types of arrows were ornamented with wings of the vulture. They would have liked to look like big snakes. Arjuna was very happy to find all these weapons. He began to feel that no hero of the world is similar to him. There was a difference of about one year in the life of Shatudaman and Pandev. All the sons of Kunti and Madri grew up in a short time.

Dhritarashtra-

In Mahabharata, Dhritarashtra was the son of Ambika, the first wife of King Vichitravirya of Hastinapur. He was born as a boon to Maharishi Ved Vyas. Dhritarashtra was the father of a hundred sons and a daughter. His wife’s name was Gandhari. Later, these hundred sons were called Kauravas. Duryodhana and the Dushashan were the first two sons respectively.

Bhishma seeks Master for the Kauravas-

For a long time, Bhishma was looking master for the Kauravas. While searching, he saw some children playing in the ground and he stays there for some time. Then the children’s ball fell into a deep well. The children went to Bhishma and asked how did the ball come out? At the same time, one more person was passing from there. He said that call the person that he will get your ball out. That person was Dronacharya.

When the children went to Dronacharya, they were very angry. The children said that our ball has fallen deep in the well, it has to pull out… Dronacharya said that if someone has a bow and arrow, then bring it. The children brought and he drove the ball out of the well. Dronacharya proceeded forward.

Bhishma’s told the children to bring that person to me. The children called to Dronacharya and brought to them. Bhishma asked Dronacharya: Can you teach weaponry to the children of Dhritarashtra?

Dronacharya had been insulted in Dhrupad’s house and he was fluttering in the fire of exchange. They were thinking about how to revenge them. He agreed on the matter of Bhishma proposal so that he could take revenge from Dhrupad with the help of the sons of Dhritarashtra. Now he had got one hundred and five children to teach weapons training. He taught weapons training to all children.

The Kauravas received Dronacharya such a master who was filled with a sense of revenge. This feeling of the influence of the master was filled in the Kauravas from childhood. This becomes also a reason for the battle of Mahabharata. If the Kauravas were to meet master like Vashishta instead of Dronacharya then there might have been some good relation between the Kauravas and the Pandavas.

Dronacharya to humiliate Drupada-

After teaching weaponry, Dronacharya asked Kauravas to bring Drupada instead of donation of the Master. Kauravas went to the house of Drupada and arrested him to present him to Dronacharya. Dronacharya, taking revenge for his insult, kept half of the land of the total state of Drupada with him and released him with the rest of the state.

Drupada plans to teach a lesson to the Kauravas-

After defeating the master Dronacharya, King Drupada was very ashamed and began to think about revenge from Kauravas. In this same concern, once he roamed and reached the town of Brahmins of Kalyani Nagar. There he met great karmakandi Brahmin (who practices according to Vedas) brothers named Yajj and Upayaaj.

King Drupada pleased and served him and asked the remedy to kill Dronacharya. On their request, the elder brother Yajj said, “Please arrange a huge Yagna for you and pleasing Agniveer (Fire God) so that they will give you boon to get the son of extreme power.”

According to his words, Drupada used to do Kameshti Yajna. Pleased with his sacrifice, Agnideva gave him a son who was equipped with a whole armament and armor coil. After that, a girl was born from that Yagya, whose eyes were as bright as the lotus blazed, the eyebrows were like the moon curve and her color was bluish.

As soon as she was born, oracle heard (sound coming from the sky) that the girl was born for the destruction of Kshatriyas and the destruction of Kauravas. The name of the child son is Dhrishtadyumna and the name of the child girl is named Krishna, Later she is called Draupadi due to being the daughter of King Drupada.

To give blessings to Pandavas by Krishna-

Draupadi woke up in the middle of the night and kept his hair open; she used to burn ignition on the head. After that, she goes to the temples of village deities located in that area and came back after eating upstream. Bhima had to stay awake to protect the Pandavas in the night. Because of this, Bhima used to see Draupadi doing all this.

One day Bhima told Krishna this story. Krishna said that she was born only to kill you all. Bhima said how to protect us from this. Krishna suggested that someday you ask for a boon from him.

Draupadi used to see Bheem every day. Because of this, she started to like them. One day Draupadi asked Bhima what you want. Bhima said that give me a boon that we five brothers do not have died from an enemy. Draupadi boasted Bhima and from that day all the power of Draupadi was over.

Draupadi got five husbands –

Draupadi was the daughter of a great sage in the previous birth. She was beautiful, good quality, and virtuous, but because of the actions of the ancestors, nobody accepted him as his wife. Sadly, she started doing penance. Lord Shiva was pleased because of his fierce penance. So he said to Draupadi, “You demand a boon of your wish. Draupadi was so pleased. she said repeatedly five times that I want a husband.

Lord Shankar said, “You have prayed five times to get a husband. So you will find five husbands. Then Draupadi said, “I want only one husband from your grace.” Shankar said that my blessing cannot be wasted. So you will get five husbands.

Remaining part of the story in – part 4…..

 

महाभारत का अनजान रहस्य । भाग 3

गांगेय का अस्त्र-शस्त्र विद्या सीखना-

यह बात सुनकर परसुराम बहुत प्रसन्न हुए। वह गंगा के पास आये और कहा कि यदि आप चाहें तो मैं इस बालक को शस्त्र विद्या सिखाना चाहता हूँ। गंगा की सहमति से वह बालक को अपने आश्रम ले गये और शस्त्र विद्या में पारंगत करके बालक को गंगा को सौंप गये।

विचित्रवीर्य और चित्रांगद का अंत-

विचित्रवीर्य महाराज शान्तनु और सत्यवती के पुत्र थे। इनके बड़े भाई का नाम चित्रांगद था। पिता शान्तनु की मृत्यु के बाद चित्रांगद ही राजगद्दी पर बैठे, किंतु वे अधिक समय तक राज्य नहीं कर पाये। चित्रांगद नाम के ही एक गन्धर्व के हाथों वे मारे गये। इनके बाद विचित्रवीर्य ही राजगद्दी के अधिकारी बने। इनकी मृत्यु का कारण खुद इनका संदेह करना बना। इनको यह संदेह हो गया था कि भीष्म पितामह रात में हमारे घर में क्यों रहता है।

एक दिन जब भीष्म पितामह रात को उनकी माता से मिलने आये तो ये चुपके से देखने लगे कि आखिर ये करते क्या हैं। उन्होंने देखा कि भीष्म पितामह उनकी माता के पैर इस प्रकार दबा रहे हैं जैसे वे अपनी माता के दबा रहे हों। इस घटना को देखकर दोनों भाइयों को अपने ऊपर बहुत ग्लानि हुई। अगले दिन उन्होंने भीष्म पितामह से पूछा कि यदि कोई अपनी बहिन, भाई या माता के चरित्र के ऊपर संदेह करता है तो उसकी क्या सज़ा होती है। भीष्म पितामह ने सहज ही उत्तर दिया कि ऐसे लोगों को पीपल के सूखे पेड़ की खोखली जड़ में बैठकर जल जाना चाहिए।

भीष्म पितामह द्वारा विचित्रवीर्य की शादी –

भीष्म काशीराज की तीन कन्याओं का अपने बाहुबल से स्वयंवर से अपहरण करके ले आए। उनका अनेक राजाओं ने विरोध किया। शाल्य से भी उनका युद्ध हुआ। लेकिन अन्यतम योद्धा भीष्म के आगे किसी की भी नहीं चली। राजमहल में कन्याओं को लाकर दो के साथ भीष्म ने विचित्रवीर्य का विवाह कर दिया। उनके नाम थे अम्बिका और अम्बालिका।

तीसरी राजकुमारी अम्बा ने बताया कि वह मन से शाल्व का वरण कर चुकी है। इसीलिए उसे शाल्व के पास भेज दिया जाये। विचित्रवीर्य कामी प्रविर्ती का था और मदिरा पान करता था। उसे अपनी माता पर संदेह हो गया था इसलिये वह असमय में ही मृत्यु को प्राप्त हुआ।

सत्यवती कुल परम्परा को आगे बढ़ाने के लिए चिन्तित थीं। भीष्म ने ब्रह्मचर्य व्रत ले रखा था। सत्यवती ने राजमाता होने के कारण व्यास द्वैपायन को बुलवाया, जो पुत्र दे सके। द्वैपायन सत्यवती के कुमारी अवस्था के पुत्र थे। समागम के समय व्यास की कुरुपता को देखकर अम्बिका ने नेत्र मूँद लिये। अतः: उसका पुत्र धृतराष्ट्र जन्म से अंधा पैदा हुआ। अम्बालिका व्यास को देखकर पीतवर्णा हो गई, इससे उसका पुत्र पाण्डु पीला हुआ।

सत्यवती ने एक और पुत्र की कामना से अम्बिका को व्यास के पास भेजा, लेकिन उसने अपनी दासी को भेज दिया। उससे विदुर का जन्म हुआ।

पांडु के पुत्र-

महाभारत के अनुसार पाण्डु हस्तिनापुर के महाराज विचित्रवीर्य और उनकी दूसरी अम्बालिका के पुत्र थे । उनका जन्म महर्षि वेद व्यास के वरदान स्वरूप हुआ था। वे पाण्डवों के पिता और धृतराष्ट्र के कनिष्ट भ्राता थे। जिस समय हस्तिनापुर का सिंहासन सम्भालने के लिए धृतराष्ट्र को मनोनीत किया जा रहा था तब विदुर ने राजनीति ज्ञान की दुहाई दी कि एक नेत्रहीन व्यक्ति राजा नहीं हो सकता, तब पाण्डु को नरेश घोषित किया गया।

एक बार महाराज पाण्डु अपनी दोनों रानियों कुन्ती और माद्री के साथ वन विहार कर रहे थे। उन्होंने मृग के भ्रम में बाण चला दिया जो एक ऋषि को लग गया। उस समय ऋषि अपनी पत्नी के साथ सहवासरत थे और उसी अवस्था में उन्हें बाण लग गया। इसलिए उन्होंने पाण्डु को श्राप दे दिया की जिस अवस्था में उनकी मृत्यु हो रही है उसी प्रकार जब भी पाण्डु अपनी पत्नियों के साथ सहवासरत होंगे तो उनकी भी मृत्यु हो जाएगी।

उस समय पाण्डु की कोई संतान नहीं थी और इस कारण वे विचलित हो गए। यह बात उन्होंने अपनी बड़ी रानी कुन्ती को बताई। तब कुन्ती ने कहा की ऋषि दुर्वासा ने उन्हें वरदान दिया था की वे किसी भी देवता का आवाहन करके उनसे संतान प्राप्त सकतीं हैं।

पाण्डु के कहने पर कुन्ती ने एक-एक कर कई देवताओं का आवाहन किया। इस प्रकार माद्री ने भी देवताओं का आवाहन किया। कुन्ती को तीन और माद्री को दो पुत्र प्राप्त हुए जिनमें युधिष्ठिर सबसे ज्येष्ठ थे। कुंती के अन्य पुत्र थे भीम और अर्जुन तथा माद्री के पुत्र थे नकुल व सहदेव।

एक दिन वर्षाऋतु का समय था और पाण्डु और माद्री वन में विहार कर रहे थे। उस समय पाण्डु अपने काम वेग पर नियंत्रण न रख सके और माद्री के साथ सहवास किया। तब ऋषि का श्राप महाराज पाण्डु की मृत्यु के रूप में फलित हुआ।

शुक द्वारा पाण्डु पुत्रों को धनुर्वेद की शिक्षा देना-

बैलों के समान बड़े-बड़े नेत्रों वाले वे यशस्‍वी पाण्‍डव चूड़ाकरण और उपनयन के पश्चात् उपाकर्म करके वेदाध्‍ययन में लगे और उसमें पारंगत हो गये।

भारत शर्यातिवंशज के एक पुत्र पृषत् थे, जिनका नाम था शुक। वे अपने पराक्रम से शत्रुओं को संतप्त करने वाले थे। शुक ने किसी समय अपने धनुष के बल पर पूरी पृथ्‍वी पर अधिकार कर लिया था। अश्वमेध जैसे सौ बड़े-बड़े यज्ञों का अनुष्ठान एवं सम्‍पूर्ण देवताओं तथा पितरों की आराधना करके परम बुद्धिमान् महात्‍मा राजा शुक शतश्रृंग पर्वत पर आकर शाकाहारी आहार करते हुए तपस्‍या करने लगे। उन्‍हीं तपस्‍वी नरेश ने श्रेष्ठ उपकरणों और शिक्षा के द्वारा पाण्‍डवों की योग्‍यता बढ़ायी। राजर्षि शुक के कृपा से सभी पाण्‍डव धनुर्वेद में पारंगत हो गये।

भीमसेन गदा संचालन में पारंगत हुए और युधिष्ठिर तोमर फेंकने में। र्धयवान् और शक्तिशाली पुरुषों में श्रेष्ठ दोनों माद्री पुत्र ढाल तलवार चलाने की कला में निपुण हुए। अर्जुन धनुर्वेद के पारगामी विद्वान् हुए। जब शंकु ने जान लिया कि अर्जुन मेरे समान धनुर्वेद के ज्ञाता हो गये, तब उन्‍होंने अत्‍यन्‍त प्रसन्न होकर शक्ति, खड्ग, बाण, ताड़ के समान विशाल अत्‍यन्‍त चमकीला धनुष तथा विपाठ, क्षुर एवं नाराच अर्जुन को दिये।

विपाठ आदि सभी प्रकार के बाण गिद्ध की पंखों से युक्त तथा अलंकृत थे। वे देखने में बड़े-बड़े सर्पों के समान जान पड़ते थे। इन सब अस्त्र-शस्त्रों को पाकर अर्जुन को बड़ी प्रसन्नता हुई। वे अनुभव करने लगे कि भूमण्‍डल के कोई भी वीर मेरी समानता नहीं कर सकता। शत्रुदमन और पाण्‍डवों की आयु में लगभग एक वर्ष का अन्‍तर था। कुन्‍ती और माद्री के सभी पुत्र थोड़े ही समय में बढ़कर सयाने हो गये।

धृतराष्ट्र-

महाभारत में धृतराष्ट्र हस्तिनापुर के महाराज विचित्रवीर्य की पहली पत्नी अंबिका के पुत्र थे। उनका जन्म महर्षि वेद व्यास के वरदान स्वरूप हुआ था। हस्तिनापुर के ये नेत्रहीन महाराज सौ पुत्रों और एक पुत्री के पिता थे। उनकी पत्नी का नाम गांधारी था। बाद में ये सौ पुत्र कौरव कहलाए। दुर्योधन और दु:शासन क्रमशः पहले दो पुत्र थे।

भीष्म पितामह द्वारा कौरवों के लिये गुरु की तलाश-

बहुत समय से भीष्म पितामह कौरवों के लिए गुरु की तलाश में थे। तलाश करते हुए एक दिन उन्होंने कुछ बच्चों को मैदान में खेलते देखा तो वे कुछ समय के लिये वहाँ खेल देखने लगे। तभी बच्चों की बॉल एक गहरे कुंवे में गिर गयी। बच्चों ने जाकर भीष्म पितामह से कहा कि बॉल कैसे निकलेगी ? तभी वहाँ से एक और व्यक्ति गुज़र रहा था। उन्होंने कहा कि उस व्यक्ति को बुला लाओ वह तुम्हारी गेंद निकालेगा। वह व्यक्ति द्रोणाचार्य थे।

बच्चे द्रोणाचार्य के पास गये तो वह बहुत गुस्से में दिखाई दे रहे थे। बच्चों ने कहा कि हमारी गेंद गहरे कुंवे में गिर गयी है उसको निकालना है। द्रोणाचार्य ने कहा कि यदि किसी के पास धनुष बाण है तो ले आओ। बच्चों ने उनको धनुष बाण लाकर दिया और द्रोणाचार्य ने तीर चलाकर गेंद को कुंवे से बाहर निकाल दिया। द्रोणाचार्य आगे चल दिये।

भीष्म पितामह ने बच्चों से कहा कि उस व्यक्ति को मेरे पास बुलाकर लाओ। बच्चे द्रोणाचार्य को बुलाकर भीष्म पितामह के पास ले आये। भीष्म ने द्रोणाचार्य से कहा कि क्या आप धृतराष्ट्र के बच्चों को शस्त्र विद्या सिखा सकते हैं ?

द्रोणाचार्य का ध्रुपद के घर में अपमान हुआ था और वह बदले की आग में सुलग रहे थे। वे यही सोच रहे थे कि उससे कैसे बदला लिया जाये। वह भीष्म पितामह की बात पर सहमत हो गये ताकि धृतराष्ट्र के पुत्रों के द्वारा वह ध्रुपद से बदला ले सकें। अब उन्हें शस्त्र विद्या सिखाने को एक सौ पाँच बच्चे मिल गये थे। उन्होंने सभी बच्चों को शस्त्र विद्या सिखायी।

कौरवों को द्रोणाचार्य ऐसे गुरु मिले जो बदले की भावना से भरे हुए थे। गुरु के प्रभाव की यही भावना कौरवों में बचपन से ही भर गयी थी। महाभारत की लड़ाई का एक कारण यह भी बना। यदि कौरवों को द्रोणाचार्य के अलावा वशिष्ठ जैसे गुरु मिलते तो शायद कौरव और पाँडव भाइयों के बीच सम्बन्ध कुछ और होते।

द्रोणाचार्य द्वारा द्रुपद को अपमानित कराना-

शस्त्र विद्या सिखाने के बाद द्रोणाचार्य ने कौरवों से गुरुदक्षिणा देने के बदले द्रुपद को बंदी बनाकर लाने को कहा। कौरव द्रुपद की सभा में गये और उन्होंने द्रुपद को बंदी बनाकर द्रोणाचार्य के समक्ष प्रस्तुत किया। द्रोणाचार्य ने अपने अपमान का बदला लेते हुए द्रुपद का आधा राज्य स्वयं के पास रख लिया और शेष राज्य देकर उसे रिहा कर दिया।

द्रुपद द्वारा कौरवों को सबक सिखाने की योजना बनाना-

गुरु द्रोण से पराजित होने के बाद महाराज द्रुपद अत्यन्त लज्जित हुये और उन्हें किसी प्रकार से नीचा दिखाने का उपाय सोचने लगे। इसी चिन्ता में एक बार वे घूमते हुये कल्याणी नगरी के ब्राह्मणों की बस्ती में जा पहुँचे। वहाँ उनकी भेंट याज तथा उपयाज नामक महान कर्मकाण्डी ब्राह्मण भाइयों से हुई।

राजा द्रुपद ने उनकी सेवा करके उन्हें प्रसन्न कर लिया एवं उनसे द्रोणाचार्य के मारने का उपाय पूछा। उनके पूछने पर बड़े भाई याज ने कहा, “इसके लिये आप एक विशाल यज्ञ का आयोजन करके अग्निदेव को प्रसन्न कीजिये जिससे कि वे आपको वे महान बलशाली पुत्र का वरदान मिलेगा।

महाराज ने याज और उपयाज से उनके कहे अनुसार पुत्र कामेष्ठी यज्ञ करवाया। उनके यज्ञ से प्रसन्न हो कर अग्निदेव ने उन्हें एक ऐसा पुत्र दिया जो सम्पूर्ण आयुध एवं कवच कुण्डल से युक्त था। उसके पश्चात् उस यज्ञ कुण्ड से एक कन्या उत्पन्न हुई जिसके नेत्र खिले हुये कमल के समान देदीप्यमान थे, भौहें चन्द्रमा के समान वक्र थीं तथा उसका वर्ण श्यामल था।

उसके उत्पन्न होते ही एक आकाशवाणी हुई कि इस बालिका का जन्म क्षत्रियों के सँहार और कौरवों के विनाश के हेतु हुआ है। बालक का नाम धृष्टद्युम्न एवं बालिका का नाम कृष्णा रखा गया जो की राजा द्रुपद की बेटी होने के कारण द्रौपदी कहलाई।

कृष्ण का पांडवों को वरदान दिलवाना –

द्रौपदी आधी रात को उठती थी और अपने बाल खुले रखकर, अपने सिर पर एक दिया जलाती थी। उसके बाद उस क्षेत्र में स्थित ग्राम देवताओं के मंदिरों में जाकर आये चढावे को खाकर वापस आ जाती थी। भीम को रात में पांडवों की रक्षा करने हेतु जगा रहना पड़ता था। इस कारण भीम द्रौपदी को यह सब करते देखता रहता था।

एक दिन भीम ने यह बात कृष्ण को बताई। कृष्ण ने कहा कि इसका जन्म तो तुम सब लोगों को मारने के लिये ही हुआ है। भीम ने कहा कि इससे अपने को कैसे सुरक्षित किया जाय। कृष्ण ने कहा कि किसी दिन तुम इससे वरदान मांग लेना।

द्रौपदी भीम को रोज़ देखा करती थी। इस कारण वह उनको चाहने लगी थी। एक दिन द्रौपदी ने भीम से पूछ लिया कि तुमको क्या चाहिये? भीम ने कहा कि मुझे वरदान दो कि हम पाँच भाइयों की किसी के हाथ से मृत्यु न हो। द्रौपदी ने भीम को वरदान दे दिया और उसी दिन से द्रौपदी की सारी शक्ति समाप्त हो गयी।

द्रौपदी को मिले पांच पति –

द्रौपदी पूर्व जन्म में एक बड़े ऋषि की गुणवान कन्या थी। वह रूपवती, गुणवती और सदाचारिणी थी, लेकिन पूर्वजन्मों के कर्मों के कारण किसी ने उसे पत्नी रूप में स्वीकार नहीं किया। इससे दुखी होकर वह तपस्या करने लगी। उसकी उग्र तपस्या के कारण भगवान शिव प्रसन्न हो गये और उन्होंने द्रौपदी से कहा तू मनचाहा वरदान मांग ले। इस पर द्रौपदी इतनी प्रसन्न हो गई कि उसने बार-बार कहा मैं सर्वगुणयुक्त पति चाहती हूं।

भगवान शंकर ने कहा तूने मनचाहा पति पाने के लिए मुझसे पांच बार प्रार्थना की है। इसलिए तुझे एक नहीं पांच पति मिलेंगे। तब द्रौपदी ने कहा मैं तो आपकी कृपा से एक ही पति चाहती हूं। इस पर शिवजी ने कहा मेरा वरदान व्यर्थ नहीं जा सकता है। इसलिए तुझे पांच पति ही प्राप्त होंगे।

 
 
 
 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *