Unique Teacher Deciples Dialog

Spread the love

Swamy Ramanand used to sit in mental worship in solitary confinement, he did not worship idols. His daily rule was that he imagined that he used to bath before God, then wiped them with flowers and worn new clothes, then wearing Tilak (A sign in forehead) of sandalwood, wearing worn flowers and wearing a crown on their head and worshiping them after worshiping them.

But since Kabir had come to his ashram, he thought that this little child is an unique without initiation from the Guru, how is it the knowledge of all the whole creation ? Who is this child? Is not it a matter of fact? Therefore, they did not have complete mental peace while worshiping their mental and they would make some mistake.

One day while Kabir was sitting among the devotees, they went on saying that he just come back after worshiping and sits for worshiping in the sitting place and after wearing a posture behind a curtain, they started doing a mental worship.

Today, he made a mistake, he shook the Lord, wiped his body with flowers, put new clothes, applied  sandalwood paste in forehead and worn flowers to God and forgot to cast flower’s garland before wearing a crown. Now he used to repeatedly complain of wearing garland over the crown, but due to the fact that the garland is small, it is repeatedly stuck.

The devotees said, today Guru ji took a lot of time in worship , do not know what is the matter. Then Kabir said, Guruji, you have made a mistake today, you should have worn the garland first. Don’t you have the idea of ​​getting stuck in a garland?

Upon listening to Kabir, Ramananda left worship and said, Kabir! How did you know this thing, I have not told anyone so much about this fact that how do godly worship do? How did you know? You know inner mind. Kabir said Do idol worship, its easy for learning stage. Also it is  better to worship inside the cave?

Ramanand said to Kabir, sometimes Gorakh Nath comes and throws the idols into the Ganges river. He breaks the statues and ticks the tilak. He beat the saints and fries them to eat. We are very afraid of him, he is not less than the Muslims. The one who preach Ram Krishna is teasing with them.

Kabir says you worship idols. They worshiped the idols in the morning, the month of Krishna Ekadasi has pedestal statue of Lord Rama and Krishna and preached louder for long. Knowing this,the  heads of Oghad Nath there went to Nepal and informed them.

Gorakhnath Immediately arrived from Nepal and call on the people to call Ramanand Leave the name of Ramanand and learn knowledge. Immerse the statue of Lord Krishna in the Ganges. Pooja of Shiva or else it will not be right. Ramanand Ji got quiet Then the sages said, Kabir, said that they have worshiped this idol. Call Gorakhnath Boleo Kabir Kabir of the year has barely come to Gorakhnath. he was sitting on the trident.

Kabir said that Guru Ramanand will not respect the glory of Gorakh? Then Ramanand said Gorakh did not want to be respected, he has torn us. Kabir Ji said we should have to do whatever Gorakh wants. Tilak to Guruji Ram Ji, Kabir spoke to guru Ramanand . After taking Tilak, Kabir said, come Gorakh. Today it will be licking Tilak So 1484 followers carried himself Ramanand G Tilak not will. Listening to this, Gorakh Nath came down from the trident (Trisul) and came immediately.

There was a large gathering of saints and monks there. Gorakh Nath started to lick the Tilak with the idol of Ram and came to the navel of Shri Ram while licking, there is the abode of Vishnu. There was no tilak left there and in the middle of the penis and navel, where there is the abode of Brahma which is not worshiped, after licking the tilak there, as soon as the navel came again and put the tongue on the turban of the navel, Gorakh Nath fell to the ground And their stomach blossomed and began to flutter with pain.

Now Gorakhnath cried loudly, I will die by pain than Kabir said, lap and lick. Hey, Oghard Nath brings some medicines for Gorakh and then come good. Then the Gorakh Nath began to shout, the yogi of the four ages is still going to die after being immortal. Save me as a refuge in Kabir. After getting the body, I do not have any such pain. Take this trilogy, this cap, these tongs, all these offerings to you.

Kabir said that no one will trouble, punish innocent saints from today. The person who does this or touches will have his face blackened.

Gorakh Nath says, “Lord, save my life, your worship path is invincible. Bliss is being torn some pity You disciple in the guru. Then Kabir got up specially Gorakh Nath. All the people started speaking shout for joy of Kabir.

Gorakh Nath got up and sat on the Trident. He said to Kabir that sit in my Trident. Kabir asked a devotee to get a Thread.  Kabir lifted it towards the sky, the thread stood in the air and Kabir sat on it.

Gorakh Nath and the crowd were stunned. The thread was hanging from the sky and it was not touching the ground. Kabir said that your trident is bloody. Come to sit down on this lace. Gorakh Nath left from the Trident and said, “It is not my way to reach there.” I sit on the base. You are so unfounded.

Gorakh Nath said I want to try your body. Kabir replied alright, you can try. Gorakh Nath hit the trident seven times, as if some weapon runs in water, there is no sign to cut. He said now trident give me and beat Gorakh Nath’s body, then he would sound like a copper Mattel, Kabir says Gorakh, your body is harsh, if I will hit it harder then it will be disturbed. You have a body which would finish one day.

Then Gorakh Nath said to Kabir for a bath in Ganga River. Both walked there. The huge crowd was behind them; Gorakh went in the water and said, ‘Kabir, find out me? Gorakh got converted into a frog and went into the fringes and said Kabir to got caught, Kabir said Will you catch me? I go to the water, Kabir went into the river and converted and became watery, Gorakh Nath started looking for, all day long people watched the show, everybody returned home after sunset.

Gorakh searched for Kabir for seven days. Here  Kabir came to Ramanand and said If Gorakh come here then take a raw vessel of clay and warm the Ganga water in it, then I will be revealed. Now Gorakh came, Kabir did not know where did he go, did not get it.

Ramanand said do warm Ganga river water into the soil of raw dishes, Gorakh has been amazing so did Kabir became known, said it had not heard and not seen before.

Gorakh Naath said to kabir, give me such a body, Kabir says you are the yogi of four ages. Apart from this body, Gorakhpur will be the son of King in Gujarat, and will be famous by the name of Das of Investigator. Then I will make you a swan element than you will find a body like me.

Enlightenment Lesson


हिंदी अनुवाद —

स्वामी रामानंद जी एक समय एकांत मे मानसिक पूजा मे बैठे थे वे मूर्ति पूजा नही करते थे। उनका रोज़ का नियम था कि काल्पनिक रूप से वह भगवान को पहले नहलाते थे फिर उनको पुष्प से पोंछकर नए वस्त्र पहनाते फिर उनका तिलक चंदन लगाकर फूल की माला पहनाते ओर फिर उनके सर पर मुकुट रखकर उनको प्रणाम करके पूजा करते। पर जब से कबीर उनके आश्रम में आया था, वे सोचते कि यह छोटा सा बालक अदभुद है बगैर गुरु से दीक्षा लिए इसको सारे लोक लोकान्तरों का ज्ञान कैसे है ? ये बालक है कौन? कहीं यह कोई फरिस्ता तो नही ? इसलिए उनकी मानसिक पूजा करते समय पूरी मानसिक शांति नहीँ रह पाती थी और वे कुछ न कुछ गलती कर बैठते।

एक और दिन दिन भक्तों के बीच जहां कबीर भी बैठे थे, ये कहकर चले गए कि आप लोग बैठिये में पूजा करके आता हूँ और एक पर्दे के पीछे आसन लगा कर मानसिक पूजा करने लगे। आज उनसे एक गलती हो गयी उन्होंने भगवान को नहलाया, पुष्प से उनका शरीर पोंछा, नए वस्त्र पहनाये, तिलक चंदन लगाकर भगवान को फूल माला पहनाकर मुकुट लगाने से पहले फूल माला डालना भूल गए। अब वो मुकुट के ऊपर से माला पहनाने की बार बार कोसिस करते पर वह माला छोटी होने के कारण बार बार अटक जाती। भक्त लोग बोले आज गुरुजी ने पूजा में बहुत देर लगा दी पता नही क्या बात है। तभी कबीर बोले गुरुजी आज आपने एक गलती कर दी है, पहले माला पहनानी चाहिए थी फ़ॉर मुकुट पहनाते तो माला के मुकुट मे अटकने की नोबत न आती ? कबीर के बात सुनते ही रामानंद जी पूजा से उठे और बोले कबीर ! ये बात तुमको कैसे पता चली, मैंने तो आजतक ये बात किसी को बताई नही है कि मानसिक पूजा कैसे करते है ? तुमको कैसे पता चला ? तुम अन्तर्यामी हो मन की बात जान लेते हो। मूर्ति पूजा कर लिया करो गुफा के अंदर पूजा क्यों करते है ? रामानंद जी बोले गोरखनाथ आता है और मूर्तियों को गंगा नदी में फेंक देता है। और मूर्तियों को तोड़कर तिलक चाट लेता है। साधुओं को भून कर खा लेता है। हमको उससे बहुत डर लगता है वह मुसलमानों से कम नही है। जो राम कृष्ण को जपता है उनसे चिढ़ता है। कबीर जी बोले आप मूर्ति पूजा करिये। सुबह होते ही फाल्गुन महीने की कृष्ण एकादसी के दिन गुरुवार को रामानंद जी ने भगवान राम और कृष्ण जी की मूर्ति को आसन दिया और मंदिर में रखकर संख घंटे से जोर जोर से पूजा करने लगे। तब औघड़नाथ गोरखनाथ जी के शिस्यों ने नेपाल जाकर उनको खबर दी।

गोरखनाथ तुरंत नेपाल से पहुंच गए ओर बोले बुलाओ रामानंद को। रामानंद कहलाना छोड़ दो और ज्ञान सीखो।कृष्ण जी की मूर्ति को गंगा में डूबा दो। शिव की पूजा करो वरना ठीक नही होगा। रामानंद जी चुप हो गए। तब साधू लोग बोले कबीर के कहने पर इन्होंने ये मूर्ति पूजा की है। गोरखनाथ बोले बुलाओ कबीर को। नों वर्ष के कबीर नंगे होकर गोरखनाथ जी के पास आ गए। गोरखनाथ जी त्रिसूल के ऊपर बैठे थे। कबीर बोले गुरु रामानंद जी चुप क्यों है गोरख जी का आदर सत्कार नही करोगे । तब रामानंद जी बोले गोरख आदर सत्कार नही चाहता उन्होंने हमको फटकारा है। कबीर जी बोले जो गोरख जी चाहते है वही करना होगा। कबीर रामानंद जी से बोले गुरुजी राम जी को तिलक लगाइये। तिलक लग जाने के बाद कबीर बोले आइये गोरख जी। आज यह तिलक चाट लेंगे तो 1484 चेले ओर खुद रामानंद जी यह तिलक नही लगाएंगे। यह बात सुन गोरखनाथ त्रिसूल से उतर कर तुरंत आ गए। वहां पर साधू संतों की बड़ी भीड़ जमा थी। गोरखनाथ जी ने अपनी जीभ से तिलक को राम जी की मूर्ति के सर से चाटना सुरु किया औऱ चाटते चाटते श्री रस्म की नाभि तक आ गए, वहां विष्णु जी का वास है। वहाँ कस तिलक नही चाटा गया और नीचे लिंग स्थान ओर नाभि के बीच जहां ब्रह्मा का वास है जिनकी पूजा नही की जाती वहाँ का तिलक चाटकर जैसे ही नाभि स्थान पर फिर आये और नाभि के तिलक पर जीभ लगाई, गोरख नाथ जी जमीन पर गिर गए और उनका पेट फूल गया और दर्द से छटपटाने लगे। बोले बचाओ बचाओ में मर जाऊंगा।

तब कबीर बोले ओर चाटिये। अरे ओघड़नाथो गोरख जी के लिए कुछ दवाई वगैरह लेकर आओ तब अच्छा चाटेंगे। तब गोरख चिल्लाने लगे में चार युग का योगी हूं अमर होने के बाद भी मरने को हो रहा हूं। कबीर में तुम्हारी शरण हूं मुझे बचा लो। शरीर पाने के बाद ऐसी पीड़ा मुझे आजतक नही हुई। लीजिये ये त्रिसूल, ये टोपी ये चिमटा, ये सब आपको अर्पण । कबीर बोले आज से भोले साधू संतों को कोई नही सतायेगा। जो कोई ऐसा करेगा या छेड़ेगा उसका मुँह काला हो जायेगा। गोरखनाथ बोले है प्रभू मेरे प्राण बचाओ, आपका भक्ति मार्ग अजेय है। पेट फटा जा रहा है कुछ दया करो। आप गुरु में चेला। तब कबीर ने खास उठो गोरखनाथ जी। सब लोग कबीर जी की जय जय बोलने लगे। गोरखनाथ उठे और त्रिसूल के ऊपर बैठ गए। कबीर जी से बोले आप भी आओ ओर मेरे त्रिसूल में बैठिये। कबीर ने एक भक्त से कहा जाओ एक तागा ले आओ। तागा आ गया, कबीर ने तागे को आसमान की तरफ उछाला , तागा खड़ा हो गया ओर कबीर उसके ऊपर बैठ गये। गोरखनाथ और भीड़ देखकर दंग रह गयी। तागा आसमान से लटका हुआ था और जमीन को भी नही छू रहा था। कबीर बोले तुम्हारा त्रिसूल खूनी है। आओ इस तागे के ऊपर बैठ जाओ। गोरखनाथ त्रिसूल से उतर गए और बोले वहां पहुँचना मेरे वस की बात नही है। मे तो आधार पर बैठता हूं। आप तो निराधार पर हैं। गोराखनाथ जी बोले मे आपके शरीर को आजमाना चाहता हूं। कबीर बोले आजमा लो। गोरखनाथ ने सात बार त्रिसूल मारा पर जैसे पानी मे कोई हथियार चलाता है कटने का कोई नीसान नही दिखता। कबीर बोले लाओ ये त्रिसूल मुझे दो और गोरखनाथ के शरीर को चुभाया तो वह ताँबे मे चोट की तरह आवाज करता। कबीर बोले गोरख, तुम्हारा शरीर कठोर है, जोर से मारूंगा तो फुट जाएगा। नाशवान शरीर है। गोरख जी बोले चलिये गंगा स्नान करेंगे। दोनों चले और भीड़ भी चली, गोरखजी पानी में गये ओर बोले मुझे खोज निकालो, गोरख पानी में जाकर मेंढ़क बन कर किनारे में बैठ गए, कबीर ने पकड़ लिया और दोनों टांगों को पकड़कर चीरने से लगे, तब गोरख प्रकट हो गये, अब कबीर बोले मुझे पकड़ोगे ? मैं पानी में जाता हूं, पानी में जाकर कबीर पानी रूप हो गये, गोरखनाथ ढूंढने लगे, दिन भर लोग तमाशा देखते रहे, सूर्यास्त होने पर सब लोग घर लौट गये, गोरख ने सात दिनों तक कबीर को ढूँढा, इधर कबीर रामानंद जी के पास आ गये और बोले गोरख आये तो मिट्टी का कच्चा बर्तन लेकर उसमें गंगा जल गर्म करना, तब मैं प्रगट हो जाऊंगा, इतना कह अंतर्ध्यान हो गये, अब गोरख आ गये बोले कबीर पता नहीं कहाँ चले गये, मिले नहीं, रामानंद ने कहा मिट्टी के कच्चे बर्तन में गंगा जल गर्म करो, गोरख ने वैसा ही किया तो कबीर प्रगट हो गये , बोले कमाल हो गया, ऐसा पहले न देखा न सुना। गोरखनाथ जी बोले मुझे भी ऐसा ही शरीर दो। कबीर बोले तुम चार युग के योगी हो। इस शरीर को छोड़ गोरखपुर मैं, गुजरात में राजा के पुत्र होगे ओर खोजी के दास नाम से प्रसिद्ध होगे। तब मैं तुमको हंस तत्व बनाऊंगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *